झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 10 जून - Live Aaryaavart

Breaking

रविवार, 10 जून 2018

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 10 जून

खेती को लाभ का धंधा बनाने का लिया गया संकल्प
  • जिला स्तरीय किसान सम्मेलन में साढे नौ करोड से अधिक की कृषक समृद्धि योजना में राषि का हुआ वितरण ।
  • किसानों को वितरित किये गये प्रमाणपत्र

jhabua news
झाबुआ । प्रदेश सरकार की किसान हितैेषी योजनाओं का लाभ किसानों को दिये जाने के  लिये  जिला प्रशासन एवं कृषि विभाग के माध्यम से स्थानीय उत्कृष्ट उमावि मैदान पर जिला स्तरीय किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजनान्तर्गत प्रोत्साहन राशि के वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें 6119 किसानों को 9 करोड 61 लाख 88 हजार की राशि का वितरण  मुख्य अतिथि विधायक शांतिलाल बिलवाल, विधायक सुश्री निर्मला भूरिया, विधायक कलसिंह भाबर के कर कमलों से किया गया । इस अवसर पर विशाल किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए विधायक शांतिलाल बिलवाल ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में किसानो के हित में कोई कदम नही उठाये गये। कांग्रेस की सरकारे जो बोलती थी वह कभी नही करती थी किन्तु भाजपा की सरकार जो  कहती है वह कर के दिखाती है । प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान की घोषणा के अनुसार  आज प्रत्येक किसान के खाते में 265 रुपये प्रति क्विंटल के मान से मंडी में बेची गई फसल की प्रोत्साहन राशि जमा हो रही है तथा 6 हजार से अधिक किसानों को इसका लाभ मिला है ।श्री बिलवाल ने कहा कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ का कहना है  कि प्रदेश में खेती लाभ का धंदा नही है  किन्तु सभी के सामने है कि भाजपा सरकार ने किसान हितैषी योजनाओं को लागू करके हर किसान को समृद्ध बनाया है। कृषि विकास के लिये मुख्यमंत्री की मंशानुसार थांदला, पेटलावद एवं झाबुआ में नर्मदा का पानी भी लाने की कार्यवाही शुरू कर दी गई है  और किसानों को भरपुर पानी मिलेगा । किसानों की मेहनत एवं सरकार के प्रोत्साहन के कारण मध्यप्रदेश को 5 बार कृषि कर्मण का पुरस्कार मिलना गर्व की बात है ।हमारा प्रदेश कृषि क्षेत्र में देश में अव्वल बन रहा है । जिला भाजपा अध्यक्ष मनोहर सेठिया ने अपने  उदबोधन में किसानों के खातो में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान द्वारा 265 रुपये प्रति क्विंटल के मान से प्रोत्साहन राशि के रूप  में साढे नौ करोड से अधिक राशि डालने का जिक्र करते हुए  कांग्रेस पार्टी पर किसानों को बर्गलानें का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के राज की तुलना में यहा का कृषि रकबा सैकडो गुना बढ चुका है और खेती लाभ का धंदा बना है । पंजाब की कांग्रेस सरकार ने जहां ंमात्र 2500 करोड किसानों का कर्जा माफ किया है वही मध्यप्रदेश में शिवराजसिंह चैहान की सरकार ने 30 हजार करोड का लाभ पहूंचाया है । प्रदेश को हरित क्रांति की दिशा में शिवराजसिंह चैहान ने अग्रणी बना दिया है तथा कृिष विभाग के अधिकारी भी किसानों को तकनीकी सहायता प्रदान करके ताकत से उत्पादन बढाने में भूमि निभारहे है । शिवराज सरकार ने गत वर्ष का अनुदान भी इसके अलावा 200 रुपये प्रति क्विंटल के मान से घोषणा के अनुरूप जमा करा के किसानों को मदद की है  ।प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ उठा कर किसान सतत प्रगति एवं उन्नति की ओर अग्रसर है । जिला सहकारी केन्द्रीय बेंक के अध्यक्ष गौरसिंह वसुनिया ने भी प्रदेश की शिवराजसिंह सरकार की किसानों को दिये जाने कृषि ऋण की व्याज दर शून्य प्रतिशत किये जाने तथा मूलधन चुकता करने पर 10 प्रतिशत राशि का अनुदान की योजना की जानकारी देते हुए कहा कि सहकारी संस्थाओं में खाद बीज कीटनाशक आदि का पर्याप्त भंडारण है और किसान खाद बीज को सोसायटियों से प्राप्त करके बारिश के पूर्व स्टाक कर लेवें ताकि बारिश के समय खेती कार्य में उसका उपयोग हो सकें । विधायक निर्मला भूरिया ने किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान  की किसान हितैषी योजनाओं का सुचारू संचालन होकर नीचले स्तर तक किसान उसका लाभ उठा रहे है ।किसानों की महनत एवं मुख्यमंत्री के प्रोत्साहन के कारण प्रदेश को 5 बार कृषि कर्मण का पुरस्कार मिला है यह ह म सभी के लिये गर्व की बात है । उन्होने भाजपा सरकार द्वारा सडक, पानी, बिजली के क्षेत्र में दी गई सुविधाओ ं की प्रसंशा करते हुए कहा कि इससे किसानेां को अपनी फसले मंडी तक ले जाने में सुविधा मिली है । पेटलावद में माही योजना से खेत लहलहा रहे है वही निकट भविष्य में नर्मदा का पानी भी थांदला, पेटलावद एवं झाबुआ को मिलने किसानों की तेजी से उन्नति होगी ।मुख्यमंत्री की यह योजना पूरे देश में अव्वल है  । इस अवसर पर जिला कलेक्टर आशीष सक्सेना ने  किसान सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहाकि मुख्यमंत्री ने किसानों के हित मे थांदला, पेटलावद एवं झाबुआ में नर्मदा का पानी लाने की घोषणा की है वही जिले में ढेरो तालाबों के निर्माण एवं स्टाफ डेम निर्माण करवाये है । जिले मे दुधारू योजना, कडकनाथ योजना, साइल हेल्थ कार्ड, सोयाबीन के स्थान पर कपास की फसले लेने की योजना के साथ ही कृषि योजनायें लागू करके हितगा्रहियों को लाभान्वित किया जारहा है । उन्होने कहा कि किसान यदि खेती आधारित उद्योग लगाते है तो उन्हे सरकार से 2 करोड तक का लोन मिल सकता है। प्याज पर 4 रुपये प्रति किलो तथा लहसुन पर 8 रुपये प्रति किलो के मान से किसानों को अन्तर राशि का भुगतान पंजीकृत किसानों को सरकार द्वारा किया जावेगा । कलेक्टर ने  जिले में बडे गोदाम बनाने की योजना की जानकारी देते हुए सहकारिता के माध्यम से लाभ उठाने का आव्हान किया । वही जागरूक किसान बनने की अपील करते हुए उद्यानिकी विभाग की योजनान्तर्गत ड्रीप एरीगेशन योजना का लाभ उठाकर समृद्धि प्राप्त की जासकती है । उन्होने बाल विवाह, दहेज दापा योजना के  बारे में भी अपने विचार व्यक्त किये ।असंगठित कामगार योजना की विस्तार से जानकारीर देते हुए संबल योजना के लाभो के बारे मे बताया तथा स्वयं सहायता समुहों के माध्यम से गर्भवती एवं प्रसूता महिलाओं को दिये जाने वाले लाभ की जानकारी दी ।कलेक्टर ने बताया कि 13 जून के जिले के सभी विकासखं डमें संबल योजनान्तर्गत सम्मेलनों का आयोजन होगा । स्वागत भाषण उप संचालक जीएस त्रिवेदी ने देते हुए कृषि विभाग की योजनाओं की जानकारी दी । इस अवसर पर जबलपुर से मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान का किसान समृद्धि योजनान्तर्गत किसान सम्मेलन का सीधा प्रसारण किया गया जिसमे मुख्यमंत्री ने किसान हितैषी योजनाओं एवं प्रदेश सरकार की उपलब्धियों की जानकारी दी । सम्मेलन में जिले के 19 किसानों को कृषक समृद्धि योजनान्तर्गत प्रमाणपत्रों का वितरण किया गया । वही सभी  ने खडे होकर संकल्प लिया कि खेती को लाभ का प्रकल्प बनाने में पूरी तरह सहभागी रहेगें । कार्यक्रम में मुख्य अतिथि विधायकत्रय शांतिलाल बिलवाल, निर्मला भूरिया, कलसिंह भाबर, कलेक्टर आशीष सक्सेना, जिला भाजपाध्यक्ष मनोहर सेठिया, स्वच्छता अभियान के प्रदेश संयोजक कल्याणसिंह डामोर, प्रवीण सुराणा, फकीरचंद राठौर, किसान नेता छगनलाल जायसवाल, श्रीमती  आरती भानपुरिया, जनपद अध्यक्ष मेघनगर सुशीला भाबर, मंडी अध्यक्ष भंवरसिंह बिलवाल,उपाध्यक्ष बहादूर हटिला, हरू भूरिया आदि उपस्थित थे अतिथियों ने भगवान बलराम की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ

विधायक एवं जिला भाजपाध्यक्ष को सौपा ज्ञापन

jhabua news
झाबुआ । रविवार को उत्कृष्ठ मेदान पर शिक्षक गृह निर्माण सहकारी संस्था के पदाधिकारियों ने विधायक शांतिलाल बिलवाल एवं जिला भाजपा अध्यक्ष मनोहर सेठिया को गणेशप्रसाद उपाध्याय, पीडी रायपुरिया, नाथुलाल पाटीदार एवंे शांतिलाल चैहान आदि ने ज्ञापन सौप कर मांग की कि 1985 में  टीचर्स कालोनी के पास प्रशासन द्वारा कालोनी निर्माण के लिये भूमि आंबटित की गई थी औ र प्रशासन स्तर से मानचित्र, निर्माण की अनुमति, पंजीकरण आदि हो ने के बाद भी आज तक राजस्व रेकार्ड में उक्त कालोनी को दज्र नही किया जाने से यह अवैध की श्रेणी में है । ज्ञापन प्रस्तुत कर मांग की गई कि ज्ञापन मे उल्लेखित बिन्दुओं को देखते हुए इस कालोनी को राजस्व रेकार्ड में विधिवत दर्ज करवाया जावे ताकि कालोनी की वैधता बनी रह सकें ।

बंद-अंधेरे कमरे में 1 वर्ष से पड़ी शीतल को घर से बाहर निकाला गया,  संड़ांध मारने लगा है पूरा शरीर
  • राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रयासों से रिहा हो पाई बालिका

jhabua news
झाबुआ। जिले के ग्राम झकनावदा में एक चैकाने वाला मामला सामने आया है। यहां बसंत काॅलोनी में रहने वाली एक युवती शीतल, जो मानसिक रूप से कमजोर होने से उसके माता-पिता ने उसे एक साल तक घर के अंदर बंद कमरे में कपड़ो से बांधकर रख रखा था। युवती को ना तो समय पर भोजन मिल रहा था और ना ही उसकी देखरेख हो रहीं थी। जब इसकी जानकारी राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रदेष अध्यक्ष मनीष कुमट को मिली तो उन्होंने तत्काल अपनी टीम के साथ यहां पहुंचकर इस बालिका को पुलिस की मद्द से रिहा करवाया। बाद उपचार के लिए 108 एंबुलेंस से जिला चिकित्सालय लाए। जहां प्राथमिक उपचार पश्चात् उसे भर्ती किया गया। पूरा मामला इस प्रकार है कि ग्राम झकनावादा में बसंत काॅलोनी में रहने वाले सलीमभाई, जो पशु चिकित्सालय में पूर्व मंे भृत्य के पद पर पदस्थ थे, उन्होंने एवं उनकी पत्नी उषा की दोनो पुत्रियां मानसिक रूप से कमजोर होने से एक पुत्री शीतल उम्र 25 वर्ष को पिछले करीब 1 वर्ष से घर के एक कमरे में कपड़ों के ढेर से बांधकर रख रखा था। उसे ना तो समय पर खाना दिया जा रहा था और ना ही देखरेख की जा रहीं थी। लगातार बंद कमरे में पड़े रहने से शीतल की हालत बद से बदत्तर हो रहीं थी। नियमित देखरेख एवं स्नान आदि नहीं होने के कारण उसके शरीर पर कीड़े पड गए थे एवं शरीर से अत्यधिक बदबू आने लगी थी।

मानवाधिकार आयोग की टीम पुलिस के साथ मौके पर पहुंची
जब इसकी जानकारी राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं बाल विकास आयोग के प्रदेष अध्यक्ष श्री कुमट को लगी तो उन्होंने अपनी टीम के आयोग के संभागीय अध्यक्ष निलेष भानपुरिया, संभागीय सचिव अरविन्द राठौर, श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के प्रदेष उपाध्यक्ष जगपालसिंह राठौर के साथ आयोग के जिला उपाध्यक्ष गोपाल विष्वकर्मा एवं जिला सचिव उत्तम गेहलोत तथा युवा पत्रकार नरेन्द्र राठौर को सूचना देकर बुलवाया बाद झकनावदा चैकी पहुंचकर वहां चैकी प्रभारी कुंवरसिंह चैहान एवं पुलिस बल के साथ युवती के स्वास्थ्य परीक्षण हेतु चिकित्सक डाॅ. एमएल चैपड़ा को लेकर मौके पर पहुंचकर जांच की तो यह घटना सहीं पाई गई।

उपचार के पैसे नहीं होने से ऐसा करना पड़ा
जब आयोग की टीम एवं पुलिस द्वारा युवती शीतल को उसके पिता सलीम द्वारा इस तरह से बंद कमरे में रखने का कारण पूछा गया तो सलीम ने बताया कि उनकी दोनो पुत्री जूली और शीतल की मानसिक हालत ठीक नहीं है। शीतल द्वारा अधिक परेषान करने पर उसे बंद कमरे में बांधकर रखना पड़ता था। उपचार के पैसे नहीं होने के कारण वे पुत्री का इलाज अब तक नहीं कर पाए।

जिला चिकित्सालय उपचार के लिए लाया गया
बाद युवती को बंद कमरे से रिहा कर आयोग अध्यक्ष मनीष कुमट एवं संभागीय अध्यक्ष निलेष भानपुरिया द्वारा इसकी सूचना 108 एंबुलेंस को दी गई, चूंकि झकनावदा में एंबुलेंस सुविधा उपलब्ध नहीं होने से झाबुआ जिला चिकित्सालय से 108 एंबुलेंस को आने में करीब एक से डेढ़ घंटे का समय लगा। बाद 108 से उसे उपचार के लिए जिला चिकित्सालय लाया गया। जहां रविवार को अवकाष के दिन ड्यूटी पर आकस्मिक रूप से तैनात चिकित्सक एवं उपस्थित स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा उसका प्राथमिक उपचार किया गया। युवती को एक वर्ष से बंद अंधेरे कमरे में रखे जाने से एवं नियमित देखरेख नहीं किए जाने से उसके शरीर पर कीड़े पड़ गए है एवं पूरा शरीर सड़ांध मारने लगाहै । इस हेतु आयोग अध्यक्ष श्री कुमट एवं संभागीय अध्यक्ष श्री भानपुरिया द्वारा इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से चर्चा कर शीतल को प्राथमिक उपचार के पश्चात् उसे अलग से प्रायवेट वार्ड मंे भर्ती करवाया गया। साथ ही उन्होंने जिला प्रषासन एवं स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से युवती के समुचित उपचार करवाने की भी बात कहीं है।

टी एल मीटिंग इस बार मंगलवार को
         
झाबुआ । प्रति सोमवार को आयोजित होने वाली समय-सीमा की बैठक इस बार अपरिहार्य कारणो से दिनांक 12.06.2018 मंगलवार को “जनसुनवाई“ के पष्चात आयोजित की जायेगी। कलेक्टर श्री आषीष सक्सेना ने समस्त जिला अधिकारियो को समय पर स्वयं उपस्थित रहने के लिये निर्देषित किया है।

लैपटाप वितरण कार्यक्रम 11 जून को बच्चो को विधायक एवं कलेक्टर ने किया रवाना
       
jhabua news
झाबुआ । मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना 2018 के अंर्तगत लैपटाप वितरण कार्यक्रम भोपाल मे 11 जून को आयोजित किया जाएगा। झाबुआ जिले के चयनित छात्र-छात्राओ को 11 जून को सम्मान समारोह लाल परेड मैदान भोपाल में उपस्थित करने के लिए झाबुआ जिले के 219 प्रतिभाषाली छात्र-छात्राओ को विधायक श्री षांतिलाल बिलवाल एवं कलेक्टर श्री आषीष सक्सेना द्वारा भोपाल के लिये बस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। झाबुआ जिले के प्रतिभाषाली होनहार छात्र छात्राओ को लैपटाॅप हेतु 25000/- राषि का चेक लाल परेड मैदान मे मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रदान किया जाएगा।

मुख्यमंत्री का दिल से कार्यक्रम 11 जून को

झाबुआ । मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान 11 जून को अपने लोकप्रिय रेडियो कार्यक्रम दिल से के माध्यम से मध्यप्रदेश के नागरिको के साथ संवाद करेंगे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चैहान विभिन्न सामाजिक सांस्कृतिक एवं समसामयिक विषयो पर जनता के साथ सीधा संवाद करेंगे। यह कार्यक्रम प्रदेश के सभी आकाशवाणी केन्द्रो एवं दूरदर्शन से एक साथ सायं 7.30 बजे से प्रसारित किया जाएगा।  

वाणिज्यिक कर से 29 हजार 424 करोड़ राजस्व अर्जित, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में कर दाताओं को मिली सुविधा

झाबुआ । प्रदेश में वाणिज्यिक कर से वर्ष 2017-18 में 29 हजार 424 करोड़ रुपये राजस्व अर्जित की गई है। यह राजस्व वर्ष 2006-07 के मुकाबले में 5 गुना अधिक है। वर्ष 2006-07 में वाणिज्य कर से 6,243 करोड़ रुपये की राजस्व प्राप्त हुई थी। वाणिज्यिक कर विभाग की बकाया वसूली में भी वृद्धि हुई है। वर्ष 2017-18 में विभाग को 727 करोड़ रुपये की बकाया वसूली प्राप्त हुई है। विभाग ने वर्ष 2006-07 में 130 करोड़रुपये की बकाया वसूली की थी। प्रदेश में कर दाताओं के पंजीयन के बाद उनकी संख्या बढ़कर अब करीब 3 लाख 92 हजार हो गई है।

विभागीय कर प्रणाली का कम्प्यूटरीकरण
वाणिज्यिक कर विभाग की समस्त कार्य-प्रणालियों का कम्प्यूटरीकरण कर दिया गया है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के अंतर्गत विभाग द्वारा कर दाताओं को ऑनलाइन पंजीयन, ई-पेमेंट और ई-रिटर्न की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। प्रदेश में कृषि को बढ़ावा देने के लिये वेट अधिनियम के अंतर्गत कृषि उपयोग में आने वाली लगभग 96 वस्तुओं को कर-मुक्त रखा गया है। प्रदेश में जुलाई-2017 से राज्य की सीमाओं पर स्थित जाँच चैकियाँ समाप्त कर दी गई हैं। इस व्यवस्था से राज्य में बाहर से आने वाली वस्तुओं का आवागमन सुलभ हो गया है।

निर्वाचन प्रक्रिया की ट्रेनिंग का तीसरा चरण 12 जून से, प्रशासन अकादमी में 15 जून तक अधिकारी लेंगे प्रशिक्षण
      
झाबुआ । मध्यप्रदेश में इस साल ह¨ने वाले विधानसभा चुनाव के द©रान निर्वाचन प्रक्रिया के बेहतर संचालन के लिये अधिकारिय¨ं की ट्रेनिंग का तीसरा चरण 12 जून से शुरू ह¨गा। सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक विभिन्न सत्र¨ं में ट्रेनिंग दी जायेगी। उप जिला निर्वाचन अधिकारी, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के रिटर्निंग आॅफीसर एवं सहायक रिटर्निंग आॅफीसर ट्रेनिंग में शामिल ह¨ंगे। ट्रेनिंग 15 जून तक अलग-अलग सत्र¨ं में आर.सी..व्ही.पी. नर¨न्हा प्रशासन अकादमी में ह¨गी। सर्टिफिकेशन प्र¨ग्राम के तहत अधिकारिय¨ं क¨ निर्वाचन प्रक्रिया से जुड़े विभिन्न विषय¨ं की सूक्ष्मता से जानकारी दी जायेगी। चुनाव आय¨ग ने ट्रेनिंग देने के लिये मध्यप्रदेश गुजरात, उत्तरप्रदेश कर्नाटक, अरूणाचल प्रदेश अ©र बिहार एवं पंजाब से एक-एक राष्ट्रीय स्तर के मास्टर ट्रेनर क¨ नियुक्त किया है। ट्रेनिंग में 107 निर्वाचन अधिकारी भाग लेंगे। इन्हे अभ्यर्थिय¨ं की पात्रता एवं अपात्रता, नामांकन, नाम निर्देशन-पत्र¨ं की संवीक्षा (जाँच), डाक मत-पत्र, नाम निर्देशन-पत्र वापस लेने की प्रक्रिया, उम्मीदवार¨ं क¨ चुनाव चिन्ह का आवंटन, ईवीएम एवं वीवीपैट, निर्वाचन क्षेत्र संबंधी प्लान, वल्नरेबल मेपिंग, सुरक्षा व्यवस्था, आदर्श आचरण संहिता, निर्वाचन व्यय माॅनीटरिंग, मतदान दिवस की व्यवस्थाएँ, मतदान दल एवं मतदान कर्मी, विभिन्न आई.टी. एप्लीकेशन तथा मतगणना तथा परिणाम की घ¨षणा संबंधी विस्तृत ट्रेनिंग दी जायेगी।

किसान¨ं क¨ शून्य प्रतिशत ब्याज पर मिलेगा 16 हजार कर¨ड़ से अधिक ऋण
       
झाबुआ । प्रदेश के किसान¨ं क¨ इस वर्ष सहकारी बैंक¨ से शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर 16 हजार कर¨ड़ रुपये अधिक ऋण दिया जायेगा। इस लक्ष्य के अन्तर्गत पिछले माह के अंत तक 1700 कर¨ड़ रुपये से अधिक की राशि किसान¨ं क¨ शून्य प्रतिशत ब्याज पर मुहैया करवाई जा चुकी है। सहकारिता विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार कृषक¨ं क¨ शून्य प्रतिशत ब्याज पर अल्पावधि फसल ऋण य¨जना में पिछले वर्ष 12 हजार 797 कर¨ड़ रुपये का ऋण वितरित किया गया था। वर्ष 2016-17 में किसान¨ं क¨ वितरित ऋण राशि वर्ष 2015 की तुलना में 760 कर¨ड़ रुपये अधिक थी। प्रदेश में 31 मार्च, 2018 की स्थिति में किसान¨ं क¨ 57 लाख 33 हजार किसान क्रेडिट कार्ड वितरित कर दिये गये हैं। इसमें से 3 लाख 70 हजार किसान क्रेडिट-कार्ड वर्ष 2017-18 में जारी किये गये हैं। सहकारी बैंक द्वारा किसान¨ं क¨ रूपे क्रेडिट-कार्ड जारी किये गये हैं। सहकारी बैंक¨ं द्वारा किसान¨ं क¨ डीएमआर खात¨ं के माध्यम से ऋण वितरण किया जा रहा है। प्रत्येक लेन-देन की जानकारी किसान क¨ एसएमएस के माध्यम से म¨बाइल फ¨न पर दी जा रही है।

विष्व बैंक 152 महाविद्यालय की विकास योजना के लिए देगा 204 करोड़
       
झाबुआ । प्रदेश के चयनित 152 महाविद्यालयों की संस्थागत विकास योजनाओं के लिये विष्व बैंक परियोजना प्रथम चरण में लगभग 204 करोड़ देगा। विश्व बैंक सहायतित इस परियोजना में महाविद्यालयों और उच्च शिक्षा विभाग के मध्य एम.ओ.यू. किया जायेगा। महाविद्यालयों की आवश्यकतानुसार उन्हें औसतन 7 से 10 करोड़ रुपये तक की राशि दी जायेगी। उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया के प्रयासों से इन चयनित महाविद्यालयों में 64 से 69 तक अंक प्राप्त करने वाले 40 महाविद्यालयों को शामिल किया गया है। पहले 70 एवं 70 से अधिक अंक प्राप्त करने वाले 112 महाविद्यालयों को ही इन्स्टीट्यूशनल डेव्हलपमेंट प्रोजेक्ट (आईडीपी) में शामिल किया गया था। इस प्रोजेक्ट के तहत 438 महाविद्यालयों का मूल्यांकन किया गया। दूसरे चरण में 50 और महाविद्यालय शामिल होने की उम्मीद है। इसमें जबलपुर संभाग के जबलपुर जिले के शा. एम.के.बी. ऑट्र्स एण्ड कॉमर्स कॉलेज, शा. श्यामसुंदर अग्रवाल कॉलेज सिहोरा, शा. कॉलेज पनागर, शा. महाकौशल आट्र्स एण्ड कामर्स कॉलेज, शा. साइंस कॉलेज, शा. एम.एच. कॉलेज, शा. गल्र्स कॉलेज रांझी और शा. कॉलेज बरेला को शामिल किया गया है। कटनी के शा. कॉलेज बहोरीबंद, शा. तिलक कॉलेज, डिण्डौरी का शा. चन्द्रविजय कॉलेज, शा. कॉलेज मेहन्दवानी, नरसिंहपुर के शा. पीजी कॉलेज, शा. पीजी कॉलेज गाडरवाड़ा, शा. कॉलेज तेन्दूखेड़ा, छिन्दवाड़ा के शा. कॉलेज जुन्नारदेव, शा. साइंस कॉलेज पांर्ढुना, राजमाता सिंधिया शा. गल्र्स कॉलेज, शा. कॉलेज बिच्छुआ, शा. डिग्री कॉलेज तामिया, शा. आट्र्स कॉलेज सौंसर, शा.पीजी कॉलेज, शा. कॉलेज दमुआ, सिवनी के स्वामी विवेकानंद शा. कॉलेज लखनादौन, नेताजी सुभाषचन्द बोस शा. गल्र्स कॉलेज, शा. आट्र्स एण्ड कामर्स कॉलेज केवलारी, शा. डिग्री कॉलेज छपारा, मण्डला के रानी दुर्गावती पीजी कॉलेज, शा. कॉलेज भुआबिछिया, बालाघाट के जटाशंकर त्रिवेदी शा. पीजी कॉलेज, शा. शंकरलाल पटेल आट्र्स एण्ड लॉ कॉलेज वारासिवनी, शा. कॉलेज तिरोदी, शा. कॉलेज मलाजखंड और शा. कॉलेज कटंगी को भी शामिल किया गया है।

प्रोत्साहन राशि के लिए 20 जून तक करें आवेदन     

झाबुआ । म.प्र. लोकसेवा आयोग द्वारा आयोजित प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों को प्रदेश शासन द्वारा प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है। 20 हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि के लिए प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्र 20 जून 18 तक जनजातीय कार्य विभाग में आवेदन कर सकते हैं। प्रोत्साहन राशि प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण का प्रमाण पत्र, प्रारंभिक परीक्षा का प्रवेश पत्र, आधार कार्ड, दो पासपोर्ट फोटो सहित जाति प्रमाण पत्र आवेदन के साथ प्रस्तुत करें।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...