एससीओ शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के बाद स्वदेश लौटे मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 11 जून 2018

एससीओ शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के बाद स्वदेश लौटे मोदी

modi-return-nation-after-sco-meet
नयी दिल्ली, 10 जून, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चीन के किंगदाअो शहर में आयोजित शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के बाद रविवार को यहां लौटे। अपनी इस यात्रा के दौरान श्री मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ द्विपक्षीय तथा वैश्विक मुद्दों पर बहुत ही महत्वपूर्ण बातचीत की। दोनों नेताओं ने अगले वर्ष भारत में अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के आयोजन तथा सीमा पर शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने के प्रयासों को जारी रखने पर सहमति जताई है। श्री मोदी ने कहा कि उन्हें पूर्ण सदस्य के रूप में पहली बार एससीओ शिखर बैठक में आकर बेहद खुशी हो रही है। पिछले एक वर्ष में इस संगठन की भूमिका को भली-भांति समझने और उसमें योगदान के अवसर को हम बहुत महत्वपूर्ण मानते हैं। उन्होंने एससीओ की 25वीं वर्षगांठ के मौके के लिए कुछ ऐसे लक्ष्य तय करने और उनके लिए एक रोडमैप बनाने का भी अाह्वान किया जो निश्चित रूप से हासिल किये जा सकें और संगठन को प्रभावकारी बना सकें। उन्होंने कहा कि एससीओ का भौगोलिक क्षेत्र हज़ारों साल से पूरी दुनिया के लिए भौतिक, वैज्ञानिक, दार्शनिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक प्रगति का प्रेरणा-स्रोत रहा है। बुद्ध और कंफूशिअस, सम्राट अशोक तथा तांग वंश, समरकंद एवं बुखारा, नालंदा एवं तक्षशिला, शुआन त्सांग तथा कश्यप मातंग, अल बरूनी और आर्यभट्ट, महात्मा गांधी और टॉलस्टॉय, रूमी तथा कालिदास आदि इस क्षेत्र की ऐसी अनगिनत विभूतियों ने पूरी मानवता को गंगा और वोल्गा की तरह सींचा है।  एससीओ शिखर बैठक में कुल 22 दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किये गये हैं जिनमें एक संयुक्त वक्तव्य तथा 21 अन्य दस्तावेज शामिल हैं। एक दस्तावेज सीमाशुल्क, एक लघु सूक्ष्म एवं मध्यम उद्यमों पर और एक पर्यटन भी पर शामिल है। इसके अलावा मध्य एशिया के साथ भारत के रिश्ते प्रगाढ़ करने के प्रयासों के तहत प्रधानमंत्री ने रविवार को यहां कज़ाखस्तान, किर्गिस्तान और मंगोलिया के राष्ट्रपतियों से अलग-अलग द्विपक्षीय मुलाकातें कीं।

श्री मोदी ने यहां ट्विटर पर इन मुलाकातों की जानकारियां साझा कीं। उन्होंने बताया कि कज़ाखस्तान के राष्ट्रपति नूरसुल्तान नज़रबायेव के साथ उनकी मुलाकात बहुत अच्छी रही। विदेश सचिव विजय गोखले ने यहां बताया कि उज़्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्ज़ीयोयेब इस साल के उत्तरार्द्ध में भारत की यात्रा पर अा रहे हैं। उनकी यात्रा की तैयारियों के बारे में दोनों नेताओं ने विचार विमर्श किया। उन्होंने द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ाने के बारे में भी चर्चा की। श्री मिर्ज़ीयोयेब ने ताशकंद सम्मेलन में भाग लेने के लिए विदेश राज्य मंत्री को भेजने पर श्री मोदी को धन्यवाद दिया। श्री मोदी ने ट्वीट करके बताया कि उनकी किर्गिस्तान के राष्ट्रपति सूरोन्बे जीन्बेकोव के साथ बहुत अच्छी मुलाकात हुई। दोनों ने अपने द्विपक्षीय साझेदारी को और मज़बूत करने के बारे में बात की। उन्होंने मंगोलिया के राष्ट्रपति खाल्तमागीन बात्तुल्गा से भी भेंट की।  गौरतलब है कि करीब छह सप्ताह के भीतर श्री मोदी की यह दूसरी चीन यात्रा रही। इससे पहले प्रधानमंत्री चीनी राष्ट्रपति के साथ एक अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के लिए 27 और 28 अप्रैल को चीन के वुहान शहर में थे। 
एक टिप्पणी भेजें