प्रतिभा और पर्यावरण का मिश्रण - विप्रो - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 जून 2018

प्रतिभा और पर्यावरण का मिश्रण - विप्रो

nature-and-peace-vipro
आर्यावर्त डेस्क ,पुणे( विजय सिंह ) ,12 जून ,2018, कहते हैं कि मनुष्य के जीवन में वातावरण का बहुत बड़ा महत्व है. शांत ,सौम्य,सकारात्मक,गतिशील माहौल में व्यक्तित्व -मानसिक विकास और सोच को उड़ने के लिए जैसे ईंधन मिल जाता हो. विगत दिनों पुणे दौरे के क्रम में हिंजेवाड़ी स्थित संचार तकनीकि की जानी मानी कंपनी विप्रो में जाने का मौका मिला. बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए काम करने के लिए यूं तो आज कल आधुनिक दफ्तर को तकनीकि से जोड़ने का चलन हरेक छोटी बड़ी कंपनियों में है.लेकिन इन सबके बीच यदि पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए परिसर का माहौल खुशनुमा बनाया जा सके तो इससे न सिर्फ कार्यरत कर्मचारी बल्कि आगंतुक भी सकारात्मक हरित वातावरण से लाभान्वित होंगे. नीम के एक वृक्ष को बुद्धिमता वृक्ष का नाम भी अपने आप में गुणवत्ता को परिभाषित करता है, क्योंकि नीम के गुणों ,प्रभाव ,देने के सुख और लाभ से हम सभी परिचित हैं. उम्मीद है ,प्रतिभा और पर्यावरण के इस सोच की शक्ति वाले परिवेश में नीम के सदगुणों की तरह विप्रो नयी उम्मीदों की किरणें समाज और देश हित में रोशन करने में सफल होगी.
एक टिप्पणी भेजें
Loading...