शिवसेना है भाजपा की सबसे बड़ी ‘‘राजनीतिक शत्रु’’ : संजय राउत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 3 जून 2018

शिवसेना है भाजपा की सबसे बड़ी ‘‘राजनीतिक शत्रु’’ : संजय राउत

shivsena-bjp-main-rival-sanjay-raut
मुंबई , तीन जून, पालघर में हालिया लोकसभा उपचुनाव के बाद शिवसेना के सांसद संजय राउत ने आज भाजपा पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि वह उनकी पार्टी की सबसे बड़ी ‘‘ राजनीतिक शत्रु ’’ है।  राउत ने कहा कि देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह दोनों को ‘‘ नहीं चाहता ’’ है , लेकिन कांग्रेस या जद (एस) नेता एचडी देवगौड़ा को ‘‘ स्वीकार ’’ कर सकता है।  राउत ने शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित ‘ रोख ठोक ’ स्तंभ में कहा , ‘‘ शिवसेना भाजपा की सबसे बड़ी राजनीतिक शत्रु है। शिवसेना का प्रखर हिन्दुत्ववाद भाजपा के लिए अड़चन पैदा कर सकता है। ’’  सांसद राउत मराठी दैनिक के संपादक हैं।  उन्होंने कहा कि भाजपा ने पालघर में चिंतामण वनगा के बेटे (शिवसेना के उम्मीदवार) को हराकर उन्हें श्रद्धांजिल दी।  इस सीट पर चिंतामण वनगा के निधन के चलते उपचुनाव आवश्यक हो गया था। राउत ने आरोप लगाया कि क्योंकि शिवसेना भाजपा की मुख्य राजनीतिक विरोधी है , इसलिए भाजपा की योजना उद्धव ठाकरे की पार्टी के साथ सत्ता में रहते हुए उसे कमजोर करने की है। उन्होंने कहा , ‘‘ इस तरह भाजपा की योजना शिवसेना के साथ सत्ता में रहने और धन - बल का इस्तेमाल कर उसे कमजोर करने की है। भाजपा ने पालघर उपचुनाव में शिवसेना की हार सुनिश्चित करने के लिए अपने संसाधनों का इस्तेमाल किया। ’’  राउत ने दावा किया कि पालघर में ईवीएम में ‘‘ गड़बड़ी ’’ की वजह से भाजपा की जीत हुई। उन्होंने कहा कि भाजपा पालघर लोकसभा उपचुनाव जीतने में सफल रही , लेकिन कई अन्य लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव हार गई। इससे दिखता है कि देश में कई जगह बदली हुई हवा चल रही है। शिवसेना नेता ने कहा , ‘‘ उपचुनाव परिणाम भाजपा के पतन की शुरुआत हैं। ’’ उन्होंने कहा , ‘‘ देश की ऐसी मन : स्थिति है कि वह कांग्रेस या देवगौड़ा को स्वीकार कर सकता है , लेकिन मोदी और शाह को नहीं। ’’ 
एक टिप्पणी भेजें