परिस्थितियों में पिता के साथ मजबूती से खड़ी रहती हूं : दीपिका - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 18 जून 2018

परिस्थितियों में पिता के साथ मजबूती से खड़ी रहती हूं : दीपिका

stand-with-father-said-dipika-padukone
मुंबई, 18 जून, बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने कहा कि वह अपने पिता की न केवल नन्हीं परी हैं, बल्कि खास परिस्थितियों में उनके साथ मजबूती से खड़ा रहती हैं। अभिनेत्री ने समय-समय पर यह साबित किया है कि वह न केवल अपने प्रशंसकों के लिए एक आदर्श हैं, बल्कि एक आदर्श बेटी भी हैं। वह अपने व्यस्त कार्यक्रम से वक्त निकालकर अपने परिवार के साथ समय बिताने का कोई भी मौका अपने हाथ से जाने नहीं देतीं। वह न केवल उनसे मिलती हैं, बल्कि उनके साथ यात्रा भी करती हैं। फादर्स डे के अवसर पर जब उनसे पूछा गया कि क्या वह अपने पिताजी की छोटी परी हैं या मजबूत मददगार? इस पर अभिनेत्री ने कहा, "मुझे लगता है कि दोनों ही थोड़ी-थोड़ी हूं। मैं कहना चाहूंगी कि हमारा एक पौष्टिक रिश्ता है। कुछ स्थितियों में, मैं उनकी नन्हीं परी हूं और कुछ परिस्थितियों में मुझे उनके साथ खड़ा रहना पड़ता है, चाहे वह भावनात्मक रूप से हो या फिर कुछ और।" उन्होंने कहा, "कभी-कभार एक-दूसरे के साथ मस्ती-मजाक करना और एक-दूसरे की टांग खिंचाई करना, तो कभी बड़े होते वक्त मेरे गलत व्यवहार के लिए मुझे गोदाम में बंद कर देना। एक पिता से लेकर दोस्त तक हम हर रिश्ता निभाते हैं। कुछ इस तरह हम एक पौष्टिक रिश्ता साझा करते है।"

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...