कश्मीर में जल्द चुनाव के लिए कांग्रेस श्रीनगर में बैठक करेगी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 जुलाई 2018

कश्मीर में जल्द चुनाव के लिए कांग्रेस श्रीनगर में बैठक करेगी

congress-meet-for-kashmir-election-soni
नई दिल्ली, 2 जुलाई, कांग्रेस ने सोमवार को कहा कि वह जम्मू एवं कश्मीर में जल्द चुनाव चाहती है। पार्टी ने राज्य में वैकल्पिक सरकार के लिए पीडीपी को समर्थन देने की संभावनाओं को खारिज कर दिया।  राज्य की प्रभारी महासचिव अंबिका सोनी ने कश्मीर पर पार्टी के नीति नियोजन समूह की एक बैठक के बाद संवाददाताओं को बताया कि पार्टी अपने कार्यक्रमों के आधार पर नए चुनाव के लिए तैयारी करेगी। भविष्य की रणनीति बनाने के लिए मंगलवार को श्रीनगर में राज्य के तीनों क्षेत्रों से पार्टी के 100 वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक आयोजित की जाएगी। नीति नियोजन समूह राज्य में जारी राजनीतिक हालात पर चर्चा करेगा और राज्य में पीडीपी व भाजपा के गठबंधन को सत्ता से दूर रखने के रास्ते तलाशेगा। यह बैठक पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आवास पर आयोजित की गई, जिसमें केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम और गुलाम नबी आजाद, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष जी. ए. मीर और पूर्व सांसद तारिक हमीद कर्रा उपस्थित हुए। राज्यपाल शासन लागू होने के बाद समूह की यह दूसरी बैठक थी। सोनी ने बैठक के बाद मीडिया को बताया कि नए चुनाव जल्द से जल्द हो सकते हैं। उन्होंने कहा, "हम (कांग्रेस) राज्य में जल्द चुनाव चाहते हैं। हमने मांग की है कि यहां चुनाव जल्द से जल्द होने चाहिए। चुनाव के खाके पर कल (मंगलवार) चर्चा होगी। हमें पहले अपनी पार्टी को मजबूत करने की जरूरत है।" उन्होंने कहा कि राज्य में राज्यपाल शासन पांच-छह महीने से ज्यादा नहीं रहना चाहिए। सोनी कहा कि राज्यपाल एन.एन. वोहरा के साथ बैठक के दौरान पार्टी नेताओं ने राज्य विधानसभा को भंग करने की मांग की थी। उन्होंने कहा, "हमने स्पष्ट रूप से लोकतांत्रिक प्रक्रिया बहाल करने को कहा है। उन्होंने जनादेश गंवा दिया है। सरकार गठन पर पार्टी ने चर्चा नहीं की। इसका सवाल ही नहीं उठता।"

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...