सुषमा को ट्रोल करना ‘गलत’ : राजनाथ सिंह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 जुलाई 2018

सुषमा को ट्रोल करना ‘गलत’ : राजनाथ सिंह

troling-sushmaa-is-wrong
नयी दिल्ली , दो जुलाई, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आज कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्रोल करना गलत है।  राजनाथ एकमात्र ऐसे मंत्री हैं जो सुषमा के समर्थन में बोले हैं।  सुषमा एक अंतरधर्मी दंपत्ति को पासपोर्ट जारी कराने और इससे संबंधित विवाद में लखनऊ स्थित पासपोर्ट सेवा केंद्र के अधिकारी विकास मिश्रा के तबादले के बाद से आक्रामक ट्वीटों का सामना कर रही हैं। मुद्दे पर टिप्पणी के लिए कहे जाने पर राजनाथ ने यहां पत्रकारों से कहा , ‘‘ मेरे हिसाब से यह गलत है। ’’ सुषमा ने कुछ आक्रामक ट्वीटों को री - ट्वीट किया था। उन्होंने टि्वटर पर एक सर्वेक्षण भी कराया था और इस मंच का इस्तेमाल करने वालों से पूछा था कि क्या वे इस तरह की ट्रोलिंग को ‘‘ स्वीकार ’’ करते हैं। इस पर 43 प्रतिशत लोगों ने ‘ हां ’ में और 57 प्रतिशत लोगों ने ‘ ना ’ में जवाब दिया था। सुषमा ने कल टि्वटर पर कहा था, ‘‘लोकतंत्र में मत भिन्नता होना स्वाभाविक है। कृपया आलोचना अवश्य करें, लेकिन अभद्र भाषा का इस्तेमाल न करें। सभ्य भाषा में होने वाली आलोचना हमेशा अधिक प्रभावी होती है।’’  मिश्रा का तब लखनऊ से गोरखपुर तबादला कर दिया गया था जब अंतरधर्मी दंपत्ति ने आरोप लगाया कि अधिकारी ने उनका अपमान किया है। दंपत्ति का आरोप था कि मिश्रा ने पति से हिन्दू बनने को कहा और उसकी पत्नी की इसलिए खिंचाई की क्योंकि उसने मुसलमान से शादी की है। मिश्रा ने अपने बचाव में कहा था कि वह धर्मनरिपेक्ष हैं।  अधिकारी ने कहा था कि उन्होंने महिला से कहा था कि उसके निकाहनामे में उसका नाम शाजिया अनस है जिसकी पुष्टि फाइल में होनी चाहिए। सोशल मीडिया पर एक तबके ने मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई किए जाने पर सुषमा और उनके मंत्रालय पर हमला बोला था। इन लोगों ने दावा किया था कि अधिकारी ने सिर्फ अपना दायित्व निभाया था। मंत्री ने इन ट्वीटों में से कुछ को री-ट्वीट किया जो गाली-गलौज और सांप्रदायिक प्रकृति के थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...