मधुबनी : ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण-2018 शिविर का समापन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 2 अगस्त 2018

मधुबनी : ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण-2018 शिविर का समापन

clean-indiaa-caamp
मधुबनी (आर्यावर्त डेस्क) 01 अगस्त, कल मंगलवार को स्थानीय रामकृष्ण महाविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा जगतपुर गाँव मे चल रहे स्वच्छ भारत ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण-2018 शिविर का समापन हो गया। यह कार्यक्रम भारत सरकार द्वारा चलाया जा रहा था जो विगत एक महीने से चल रही थी। कार्यक्रम के अंतिम दिन स्वयंसेवको की टीम ने गांव के विभिन्न स्थानों पर नुक्कड़ नाटक 'आखिर कब तक?' और स्वच्छता गीत से लोगो को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया। साथ ही "बचाओ पर्यावरण" गीत के माध्यम से पेड़-पौधा लगाने एवं उसकी रक्षा करने की भी अपील की गई। कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे अभिषेक आकाश ने ग्रामीणों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करते हुए बताया कि गंदगी मानव जीवन को अकर्मण्य बना देती है, हमें स्वच्छ रहने की आदत डालनी चाहिए। जबतक हम स्वच्छता नहीं अपनाएंगे तो हमारा देश कैसे स्वच्छ होगा। एक महीने के इस कार्यक्रम में लगभग 100 घण्टे विभिन्न माध्यमों से गाँव में स्वच्छता जागरूकता अभियान चलाया गया जिसमे वृक्षारोपण, जागरूकता रैली, दीवार पर पेंटिंग्स, कंपोस्ट पिट का निर्माण, सड़कों की सफाई इत्यादि है। ग्रामीणों ने इस पहल की सराहना करते हुए स्वयंसेवकों को आश्वस्त किया कि हम अपने घर, गाँव व देश को साफ रखने के लिए हरसंभव प्रयासरत रहेंगे। इस अभियान में एन. एस. एस. के अभिषेक, पूजा, नंदनी, स्तुति, राधा, मृत्युंजय, सीखा, करिश्मा, मोनू और स्वाति ने अपना भरपूर योगदान देकर ग्रामीणों से स्वच्छाग्रह किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...