दरभंगा : LNMU अंतर महाविद्यालय शतरंज प्रतियोगिता का शुभारंभ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 3 अगस्त 2018

दरभंगा : LNMU अंतर महाविद्यालय शतरंज प्रतियोगिता का शुभारंभ

  • सूचना क्रांति के दौर में पढ़ाई के साथ खेलकून आवश्यक : कुलपति 
inter-college-chess-in-darbhanga
दरभंगा (आर्यावर्त डेस्क) 03 जुलाई, : ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय अंतर महाविद्यालय शतरंज टुर्नामेंट 2018 का शुक्रवार को सीएम साइंस कॉलेज दरभंगा में उद्घाटन के साथ ही विश्वविद्यालय के अंतर महाविद्यालय स्तरीय टुर्नामेंट का आगाज हो गया. टुर्नामेंट का उद्घाटन ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुरेंद्र कुमार सिंह, कुलसचिव कर्नल नीशीथ कुमार राय एवं कुलानुशासक सह खेल पदाधिकारी डॉ. अजय नाथ झा ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया. उद्घाटन भाषण में कुलपति प्रो. सुरेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि सी एम साइंस कॉलेज, विश्वविद्यालय ही नहीं सूबे का अग्रणी कॉलेज है और नैक में 'ए' ग्रेड हासिल कर इसने अपनी उत्कृष्टता का सबूत दे दिया है. उन्होंने अपने संबोधन में लक्ष्य को साधने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि वर्तमान सूचना क्रांति के युग में पाठ्यक्रम एवं सामान्य जानकारी के साथ-साथ सांस्कृतिक गतिविधियों एवं खेलकूद में बेहतर प्रदर्शन किया जाना जरूरी हो गया है. उन्होंने खेल को स्वयं को अनुशासित बनाने का सबसे बड़ा जरिया बताया. साथ ही कक्षा में छात्र छात्राओं की कम हो रही उपस्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए छात्रों एवं शिक्षकों से उपस्थिति दर में वृद्धि के लिए आगे आने की अपील की. उन्होंने कहा कि नए सत्र में 'इंडक्शन क्लास' की नई परंपरा की शुरूआत की जा रही है, जिसका उद्देश्य छात्र-शिक्षक के बीच बेहतर सामंजस्य कायम करना होगा. इस अवसर पर कुलसचिव कर्नल नीशीथ कुमार राय ने अपने संबोधन में उन्होंने कुलपति डॉ. एस.के सिंह के नेतृत्व में इस विश्वविद्यालय को भारत की शान बनाए जाने का समारोह में उपस्थित शिक्षकों एवं छात्राओं से आह्वाहन किया. उन्होंने कहा कि ऐसा सिर्फ हम लोगों के प्रयास से संभव नहीं है. इसके लिए सभी कॉलेजों के प्रधानाचार्य और विशेषकर छात्रों को आगे आना होगा. उन्होंने कहा कि छात्र जब तक स्वयं के विकास के लिए जागरुक नहीं होंगे इस विश्वविद्यालय को भारत की शान बनाना असंभव होगा. उन्होंने शतरंज खेल की चर्चा करते हुए कहा कि शतरंज खेलने से बुद्धि तेज होती है और बुद्धि के तेज होने से से प्रगति का रास्ता सुगम होता है. इस मौके पर कुलानुशासक सह खेल पदाधिकारी डॉ. अजय नाथ झा ने अपने संबोधन में स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में खेल के महत्व को विस्तार से बताते हुए कहा कि खेल से शरीर स्वस्थ रहता है और स्वस्थ शरीर में तीक्ण बुद्धि का वास होता है. उन्होंने खेल के क्षेत्र में विश्वविद्यालय की प्रगति की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि वर्तमान समय में विश्वविद्यालय स्वर्णिम दौर से गुजर रहा है. उन्होंने बताया कि तरंग के लिए विश्वविद्यालय को नोडल विश्वविद्यालय घोषित किया गया है और कार्यक्रम 31 अक्टूबर से शुरू होगा. क्रीड़ा अध्यक्ष डॉ. सुनील दास ने खेल व संस्कृति के क्षेत्र में महाविद्यालय के उपलब्धियों सहित इस टूनार्मेंट से संबंधित रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए चिंता व्यक्त की कि इस टूनार्मेंट में महज एक दर्जन अंगीभूत महाविद्यालय की टीम अपनी सहभागिता दे रही है जबकि संबद्ध कॉलेजों की टीम की उपस्थिति बिल्कुल नगन्य है. उन्होंने महज 5 महिला प्रतिभागी के इस टूनार्मेंट में शिरकत करने पर भी चिंता जाहिर की. प्रधानाचार्य प्रेम कुमार प्रसाद ने आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलपति व कुलसचिव विश्वविद्यालय को भारत की शान बनाना चाहते हैं और इसके लिए जिस तरह के लक्ष्य निर्धारित कर रहे हैं यह निश्चित रूप से हम सभी के लिए गौरव की बात है. अपने संबोधन में उन्होंने भरोसा दिलाया कि विश्वविद्यालय का यह अग्रणी कॉलेज उनकी आशा और विश्वास पर खरा उतरने का सदैव प्रयास करेगा. उन्होंने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि सिर्फ शैक्षणिक विकास से सर्वांगीण विकास की कसौटी पर खरा नहीं उतरा जा सकता है और ऐसा नहीं होने से प्रतिस्पर्धा के मौजूदा युग में वे काफी पीछे रह जाएंगे महाविद्यालय के वनस्पति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ. संध्या झा के कुशल संचालन में आयोजित उद्घाटन समारोह में धन्यवाद ज्ञापन आयोजन सचिव डॉ. कौशल किशोर ठाकुर ने किया. इससे पूर्व महाविद्यालय के मुख्य द्वार पर अवस्थित बाबू चंद्रधारी सिंह की प्रतिमा पर सभी अतिथियों द्वारा माल्यार्पण किया गया एवं कुलपति-कुलसचिव के बीच शतरंज के खेल की बाजी शुरू कर टूनार्मेंट की विधिवत शुरूआत की गई. इस टूनार्मेंट में कुल 12 टीमें भाग ले रही है. जिनमें मेजबान सीएम साइंस कॉलेज दरभंगा, सी एम कॉलेज दरभंगा, मारवाड़ी कॉलेज दरभंगा, एमएलएसएम कॉलेज दरभंगा, एम के कॉलेज लहेरियासराय, एम के एस कॉलेज चंदौली, एस बी एस एस कॉलेज बेगूसराय, जीडी कॉलेज बेगूसराय, आर.के कॉलेज मधुबनी, के एस कॉलेज लहेरियासराय, जे. एन कॉलेज मधुबनी टीम ने शिरकत कर रही है. इस टूनार्मेंट में कुल 43 पुरुष प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं जबकि महिला प्रतिभागियों की संख्या महज 5 है . 
एक टिप्पणी भेजें
Loading...