आगरा चर्च में नवा खानी त्योहार मनाया गया - Live Aaryaavart

Breaking

रविवार, 21 अक्तूबर 2018

आगरा चर्च में नवा खानी त्योहार मनाया गया

navi-khani-in-agra-church
नोएडा। आगरा धर्मप्रांत में है संत मेरी चर्च। आज इस चर्च में नवा खानी त्योहार मनाया गया।यह मूलत: नयी फसल को काटने के बाद भगवान को अर्पित कर धन्यवाद देने का पर्व है। कहते हैं कि आपने साल भर खाने के लिए चावल दे दिया है। इसका इजहार नागपुरियां गान पर परंपरागत नृत्य   मांदर की थाप पर झूमते हैं। एसोसिएशन ऑफ दी वेलफेयर ऑफ छोटानागपुर ट्राइवल्स राउलकेला,उड़ीसा,झारखंड,केरल, छतीसगढ़ आदि जगहों से लोग आकर रहते हैं और आगरा धर्म  नामक संस्था द्वारा नवा खानी त्योहार मनाया गया।

क्या है  नवा खानी त्योहार 
 धान की नई फसल पकने पर ग्रामीण मनाते हैं जश्न नवा खानी। धान की नई फसल पकने पर ग्रामीण मनाते हैं जश्न । नई फसल पकने पर भारत में कई त्योहार मनाए जाते हैं। ऐसे ही एक पर्व छत्तीसगढ़ में नवा खानी होता है। झारखंड में इस दौरान कर्मा त्योहार मनाया जाता है।(छत्सीगढ़)। भारत त्योहारों का देश हैं। यहां हर मौसम और क्षेत्र का एक त्योहार है। छत्तीसगढ़ में नई फसल तैयार होने पर एक खास त्योहार मनाया जाता है, इसे 'नवा खानी' कहते हैं। यहां जनजाति बाहुल क्षेत्र है,जहां पिछले दिनों नवा खानी पर्व मनाया गया। परंपरा के अनुसार धान की नई फसल की बालियों की तोड़कर उन्हें आग में भूना जाता है। ग्रामीण सबसे पहले अनाज से घर की देवी को भोग लगाते हैं। फिर पूरा परिवार खाता है। नवा खानी त्योहार धान के अलावा आम के सीजन में ही मनाया जाता है।पर्व नवा खानी में नई फसल को पकाकर गुड़ी में अर्पित करते हैं। इसमें बच्चे, बड़े और बूढ़े सभी शामिल होते हैं और गांव में घर-घर जाकर नाचते-गाते एक दूसरे को बधाई देते हैं।' परंपरा के अनुसार धान की नई फसल की बालियों की तोड़कर उन्हें आग में भूना जाता है। ग्रामीण सबसे पहले अनाज से घर की देवी को भोग लगाते हैं। फिर पूरा परिवार खाता है। शकील रिज़वी ने गांव कनेक्शन को बताया इस दौरान कुछ लोग लोग गेड़ी (लकड़ी का एक यंत्र) पर चढ़कर ये त्योहार मनाते हैं। नवा खानी के बाद गेड़ी को तोड़कर गांव के बाहर एक स्थान पर छोड़ दिया जाता है। इसी समस फसल और जानवरों को बीमारियों से बचाने के लिए ग्राम की गुड़ी (मंदिर) में देवी-देवताओं को भेंट भी चढ़ाई जाती है। पहले बरसात के सीजन में गांवों में पानी और कीचड़ हो जाया करता था, इसलिए सभी लोग गेड़ी पर भी चढ़कर ऐसा करते थे, लेकिन अब गांवों में सड़कें बनने से ये प्रथा लगभग समाप्त हो गई है। झारखंड में नई फसल उगने पर मनाया जाता है कर्मा फेस्टिवल छत्तीसगढ़ के पड़ोसी राज्य झारखंड में भी नई फसल आने पर जश्न मनाया जाता है, यहां इसे करमा (कर्मा) कहते हैं। कर्मा के बारे में कहा जाता है कि कि ये पर्व कृषि और प्रकृति से जुड़ा पर्व है, जिसे झारखंड के सभी समुदाय हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। कर्मा नृत्य को नई फ़सल आने की खुशी में लोग नाच गाकर मनाते हैं। इस पर्व को भाई-बहन के निश्छल प्यार के रूप में भी जाना जाता है। कर्मा भादों महीने की उजाला पक्ष की एकादशी को यह पर्व पूरे राज्य में बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है जबकि इस पर्व की तैयारियां महीनों पहले शुरू हो जाती हैं और पूजा पाठ एकादशी के पहले सात दिनों तक चलता है। रांची विश्वविद्यालय में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रही आदिवासी छात्रा दीपशिखा इस पर्व के बारे में बताती हैं, "जैसे रक्षाबंधन में भाई बहनों को उनकी रक्षा की बात कहते हैं वैसे ही हमारे यहाँ करमा पर्व में बहनें व्रत रखकर भाई की रक्षा का संकल्प लेती हैं। हम व्रत करते हैं पारम्परिक परिधान पहनकर कई दिन पहले से ही नाचना गाना शुरू कर देते हैं।" प्रकृति और भाई-बहन के निकटता का यह पर्व ये सन्देश देता है कि यहाँ की हरियाली और पेड़-पौधे इसलिए हरे-भरे हैं क्योंकि यहाँ के लोग प्रकृति की पूजा करते हैं। इनके देवता ईंट के बनाए किसी मन्दिर या घर में कैद नहीं होते बल्कि खुले आसमान में पहाड़ों में रहते हैं। झारखंडी संस्कृति के लोग किसी आकृति वाली मूर्ती की पूजा नहीं बल्कि प्रकृति की पूजा करते हैं। इनके हर पर्व की तिथियाँ, मन्त्र सबकुछ इनके अपने होते हैं। जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा विभाग के असिस्टेंट प्रोफ़ेसर डॉ हरी उरांव ने बताया, "हम लोग पेड़-पौधे और जंगल के बिना नहीं जी सकते, इसलिए इनकी रक्षा और देखरेख करने के लिए हमारे यहाँ कई पर्व मनाये जाते हैं जिसमे करमा पर्व सबसे बड़ा पर्व है।  झारखंड में कर्मा त्योहार मनाते लोग। छोटा नागपुर क्षेत्र का सबसे महत्वपूर्ण सामाजिक त्यौहारों में  शुमार  है नवा खानी । यह नए कटाई वाले चावल का स्वागत है। खेत से निकली फसल रूपी पहली अन्न को भगवान और गांवघर के देवी - देवताओं को  पेशकश की जाती है।  सबसे पहले इस चावल के बने होते है।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...