उत्तराखंड में 'केदारनाथ' रिलीज नहीं होगी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 7 दिसंबर 2018

उत्तराखंड में 'केदारनाथ' रिलीज नहीं होगी

kedarnath-ban-in-uttrakhand
देहरादून, 7 दिसम्बर, सारा अली खान और सुशांत सिंह राजपूत के अभिनय से सजी बॉलीवुड फिल्म 'केदारनाथ' उत्तराखंड में रिलीज नहीं होगी। राज्य सरकार की ओर से हालांकि फिल्म पर कोई आधिकारिक पाबंदी नहीं लगाई गई है। लेकिन सरकार ने फिल्म और इसके विवादों के संबंध में सभी जिला अधिकारियों को पत्र लिखा है। जिलाधिकारियों से खुद निर्णय लेने के लिए कहा गया है और उनके संबंधित अधिकार क्षेत्र में यह फिल्म दिखाई जाएगी या नहीं, इसका फैसला भी उनके विवेक पर छोड़ दिया गया है। इसके बाद, सभी जिलाधिकारियों ने अपने-अपने जिलों में फिल्म रिलीज पर पाबंदी लगा दी है। यह निर्णय मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एक उच्चस्तरीय बैठक में पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज की अगुवाई वाली समिति द्वारा दाखिल एक रपट की समीक्षा करने के बाद लिया। यह हिंदी फिल्म 2013 में आई केदारनाथ बाढ़(फ्लैश फ्लड) की पृष्ठभूमि पर है। फिल्म का पहले दिन से ही दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने विरोध किया है। उनका आरोप है कि फिल्म हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाती है और यह 'लव-जिहाद' के विचार को आगे बढ़ाती है। जिलाधिकारियों के इस हालिया आदेश का मतलब यह है कि यह फिल्म देहरादून, हरिद्वार, पौढ़ी, टिहरी, नैनीताल, अल्मोढ़ा और उधमसिंहनगर में रिलीज नहीं होगी। राज्य के अन्य जिलों में फिल्म थियेटर नहीं हैं। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने गुरुवार को फिल्म पर पाबंदी लगाने से इंकार कर दिया था और याचिकाकर्ता को अपनी शिकायत को लेकर जिलाधिकारी के पास जाने के लिए कहा था।
एक टिप्पणी भेजें