कृष्णमूर्ति सुब्रहमण्यम देश के नए मुख्य आर्थिक सलाहकार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 7 दिसंबर 2018

कृष्णमूर्ति सुब्रहमण्यम देश के नए मुख्य आर्थिक सलाहकार

krishnamurti-subramaniam-new-advisor
नयी दिल्ली, सात दिसंबर, प्रोफेसर कृष्णमूर्ति सुब्रहमण्यम को देश का नया मुख्य आर्थिक सलाहकार नियुक्त किया गया है। वह इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस हैदराबाद में प्राध्यापक हैं। सरकार ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि इस साल की शुरुआत में अरविंद सुब्रहमणियन के करीब साढ़े चार साल बाद वित्त मंत्रालय को छोड़ने के बाद से मुख्य आर्थिक सलाहकार का पद रिक्त पड़ा था। सुब्रहमण्यम का कार्यकाल तीन वर्ष का होगा। एक सरकारी अधिसूचना के मुताबिक, ‘‘नियुक्ति मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने डॉ. कृष्णमूर्ति सुब्रहमण्यम की मुख्य आर्थिक सलाहकार के तौर पर नियुक्ति को मंजूरी प्रदान कर दी। वह आईएसबी हैदराबाद में सहायक प्राध्यापक हैं।’’  भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में पढ़ चुके सुब्रहमण्यम ने शिकागो विश्वविद्यालय के बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस से वित्तीय अर्थशास्त्र में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की है। मुख्य आर्थिक सलाहकार की नियुक्ति के लिए सरकार ने जुलाई में आवेदन आमंत्रित किए थे। मुख्य आर्थिक सलाहकार का प्रमुख काम विदेश व्यापार और औद्योगिक विकास के मुद्दों पर नीतिगत सलाह देना होता है। साथ ही औद्योगिक उत्पादन के रुखों का आकलन और अहम आर्थिक संकेतकों पर सांख्यिकी जानकारी जारी करना है। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि नए आर्थिक सलाहकार कब से अपना पदभार संभालेंगे। आईएसबी की वेबसाइट के अनुसार सुब्रहमण्यम की बैंकिंग, कारपोरेट कामकाज और आर्थिक नीति जैसे विषयों पर विशेष पकड़ है। वह भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के लिए कारपोरेट गर्वनेंस समिति और भारतीय रिजर्व बैंक के लिए बैंक गवर्नेंस समिति में विशेषज्ञ के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। इसके अलावा वह सेबी की वैकल्पिक निवेश नीति, प्राथमिक बाजार, द्वितीयक बाजार एंव शोध पर स्थायी समितियों के सदस्य रह चुके हैं। वह बंधन बैंक, राष्ट्रीय बैंक प्रबंधन संस्थान और आरबीआई अकादमी के निदेशक मंडल के भी सदस्य हैं।

एक टिप्पणी भेजें