समाचार की प्रस्तुति जनहितकारी, लोकतंत्र में संतुलनकारी हो : महाजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 7 दिसंबर 2018

समाचार की प्रस्तुति जनहितकारी, लोकतंत्र में संतुलनकारी हो : महाजन

news-presentation-public-interest-democracy-balancing-mahajan
नयी दिल्ली 07 दिसम्बर, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने पत्रकारों का आज आह्वान किया कि वे किसी भी समाचार को इस ध्येय के साथ प्रस्तुत करें कि उससे अधिकाधिक लोगों के हित पूरे हों और लोकतंत्र के सभी अंगाें के बीच संतुलन कायम हो।  श्रीमती महाजन ने यहां भारतीय जनसंचार संस्थान के 51वें दीक्षांत समारोह में अपने संबोधन में कहा कि चूंकि जनता पत्रकारों पर विश्वास करती है अतः समाज पर उनका गहरा प्रभाव पड़ता है । उनका यह कर्तव्य है कि वे पूरे देश की जनता के साथ साथ विभिन्न हितधारकों को सूचना और समाचार प्रदान करें। पत्रकारों को यह पता होना चाहिए कि वह जो कुछ भी लिखते हैं उसका जनता के जीवन पर गहरा प्रभाव पड़ता है इसलिए उन्हें अपने समाचारों को इस ढंग से प्रस्तुत करना चाहिए कि उसमें अधिकाधिक लोगों का हित हो । लोकसभा अध्यक्ष ने कहा कि जनता संसद से बहुत अधिक अपेक्षा रखती है तथा प्रेस संसद और जनता के बीच की एक कड़ी है। उन्होंने इस बात की ओर ध्यान दिलाया कि सभा में गंभीर वाद विवाद होते हैं और सार्थक भाषण दिये जाते हैं जिन्हें विवेकपूर्ण ढंग से प्रस्तुत करके जनता के समक्ष पेश किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी अंग मजबूत होने चाहिए तथा प्रेस का कर्तव्य यह सुनिश्चित करना है कि अन्य जिम्मेदारियों के साथ साथ इन सबके बीच उचित संतुलन हो । श्रीमती महाजन ने भावी पत्रकारों से यह आह्वान किया कि वे जनता से जुड़े मुद्दों को कवर करते समय प्रामाणिक और निष्पक्ष जानकारी प्रदान करें। उन्होंने कहा कि मुद्दों की जानकारी देते समय आत्मसंयम रखना जरूरी है क्योंकि प्रेस स्वयं अपनी विनियामक है। उन्होंने सामाजिक मुद्दों का संरक्षण करने के लिए तथा यह सुनिश्चित करने के लिए प्रेस की भूमिका की सराहना की कि सरकार जनता के लिए नीतियाँ और कार्यक्रम बनाते समय सही दिशा में कार्य करे। इस अवसर पर श्रीमती महाजन ने भारतीय जनसंचार संस्थान के विद्यार्थियों को पुरस्कार वितरित किए तथा संस्थान परिसर में ‘अटल बिहारी वाजपेयी मार्ग’ का उद्घाटन किया। उन्हाेंने परिसर एक अशोक वृक्ष लगाया और संस्कृत वार्ता समाचार वेब पोर्टल की भी शुरुआत की। 
एक टिप्पणी भेजें