सोनिया-राहुल ने रक्षा सौदों में कभी हस्तक्षेप नहीं किया : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 31 दिसंबर 2018

सोनिया-राहुल ने रक्षा सौदों में कभी हस्तक्षेप नहीं किया : कांग्रेस

sonia-rahul-never-interfere-in-defense-deals-congress
नयी दिल्ली, 31 दिसम्बर, कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी पर अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर मामले में तथ्यों को छिपाने और झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा है कि कांग्रेस नेतृत्व ने रक्षा खरीद मामलों में कभी न रुचि दिखायी और ना ही हस्तक्षेप किया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने सोमवार को यहां संसद भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने रक्षा सौदों को लेकर कभी कोई रुचि नहीं दिखायी और ना ही इनमें कोई हस्तक्षेप किया है। कांग्रेस के वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार ने भ्रष्टाचार को कभी बर्दास्त नहीं किया और यही कारण है कि अगस्ता वेस्टलैंड में भ्रष्टाचार संबंधी मीडिया की खबरों के आधार पर तत्काल मामले की जांच शुरू करने के आदेश दिए गए। उन्होंने कहा कि इस मामले में भाजपा झूठ को प्रचारित कर रही है जबकि कांग्रेस पूरे प्रकरण को तथ्यों के साथ देश के समक्ष पेश कर रही है। उन्होंने कहा कि सच के समक्ष झूठ टिक नहीं सकता है लेकिन भाजपा देश को गुमराह करने के लिए जोर शोर से झूठ बोलकर सच को दबाने का प्रयास कर रही है। यह आश्चर्य की बात है कि वह लगातार झूठ बोल रही है और ऐसा लगता है कि वह झूठ की फैक्ट्री चला रही है। श्री एंटनी ने कहा कि अगस्ता वेस्टलैंड मामले में जब इटली से भ्रष्टाचार की रिपोर्ट आयी तो रक्षा मंत्री होने के नाते उन्होंने खुद इस पूरे प्रकरण की जांच के आदेश दिए। मामले की पड़ताल की प्रक्रिया 15 फरवरी 2013 को शुरू हुई और तीन जुलाई 2014 को कंपनी को काली सूची में डाल दिया गया। कमाल की बात यह है कि झूठ की फैक्ट्री चलाने वाली भाजपा की सरकार इस कंपनी को 22 अगस्त 2014 को काली सूची से हटा लेती है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को जवाब देना चाहिए कि उसने काली सूची में रखी गयी इस कंपनी को किस आधार पर क्लीनचिट दी और उसको काली सूची से हटाने की कार्यवाही की।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...