दलितों पर अत्याचार नहीं रुका, तो बौद्ध धर्म अपना लूंगा : मांझी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 6 दिसंबर 2018

दलितों पर अत्याचार नहीं रुका, तो बौद्ध धर्म अपना लूंगा : मांझी

will-adopt-buddha-said-manjhi
पटना, 6 दिसंबर, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के प्रमुख जीतन राम मांझी ने यहां गुरुवार को देश और राज्य में दलितों पर हो रहे हमले पर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि अगर यह नहीं रुका तो वे लोग बौद्ध धर्म अपना लेंगे। पटना में भीमराव अंबेडकर के पुण्यतिथि के मौके पर बाबा साहेब को नमन किया और पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि देश में दलितों पर दमन और उत्पीड़न बढ़ा है जो चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि इस पर सरकार को ध्यान देना चाहिए। मांझी ने कहा, "हमलोगों को ब्राह्मणवाद के कारण पीछे रखा गया और एक खास रणनीति के तहत हमें अलग-थलग किया गया।" अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वाले मांझी ने कहा कि धर्मपरिवर्तन को लेकर वे अपने समर्थकों से बातचीत करेंगे और इस पर फैसला लेंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें बौद्ध धर्म अपनाने में कोई हर्ज नहीं दिखता। मांझी ने एकबार फिर निजी क्षेत्र में आरक्षण की मांग दोहराते हुए इसके लिए जल्द ही पार्टी द्वारा आंदोलन करने की बात कही। मांझी की पार्टी कुछ ही महीनों पहले राष्ट्रीय जनतांत्रिक (राजग) से अलग होकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नीत महागठबंधन में शामिल हुई है।
एक टिप्पणी भेजें