भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु प्रतिष्ठानों की सूची का आदान-प्रदान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 जनवरी 2019

भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु प्रतिष्ठानों की सूची का आदान-प्रदान

india-pak-exchange-list-of-nuke-installations
नयी दिल्ली 01 जनवरी, भारत और पाकिस्तान ने आज यहां और इस्लामाबाद में परमाणु प्रतिष्ठानों की सूची का राजनयिक माध्यम से आदान-प्रदान किया, दोनों देश एक दूसरे के परमाणु प्रतिष्ठानों पर हमला न करने के समझौते के तहत इस सूची का हर वर्ष आदान प्रदान करते हैं। इस समझौते पर 31 दिसम्बर 1988 को हस्ताक्षर किये गये और यह 27 जनवरी 1991 से अमल में आया। इसमें यह प्रावधान है कि दोनों देश इस समझौते के तहत आने वाले परमाणु प्रतिष्ठानों की जानकारी एक दूसरे को हर साल देंगे। यह आदान प्रदान पहली बार 1 जनवरी 1992 को हुआ था और इसके बाद से लगातार 28 बार दोनों देशों ने यह जानकारी साझा की है।  दोनों देशाें ने साथ ही अपनी अपनी जेलों में बंद दूसरे के असैनिक कैदियों और मछुआरों के बारे में भी जानकारी का आदान प्रदान किया। इस आशय का समझौता 2008 में हुआ था। भारत ने बताया है कि उसकी जेलों में पाकिस्तान के 249 असैनिक नागरिक और 98 मछुआरे बंद हैं जबकि पाकिस्तान के अनुसार उसकी जेलों में 54 भारतीय असैनिक तथा 483 मछुआरे बंद हैं।  भारत ने पाकिस्तान से कहा है कि वह उसने असैनिक कैदियों , लापता सैन्य कर्मियों और मछुआरों को जल्द रिहा करे। इनमें से 17 असैनिकों और 369 मछुआरों की नागरिकता की पुष्टि हो चुकी है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...