निवेश डेढ दशक के निचले स्तर पर पहुंचा : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 3 जनवरी 2019

निवेश डेढ दशक के निचले स्तर पर पहुंचा : कांग्रेस

investment-hits-low-level-of-one-and-half-decade-congress
नयी दिल्ली, 03 जनवरी, कांग्रेस ने मोदी सरकार को आर्थिक मोर्चे पर पूरी तरह से विफल करार देते हुए कहा है कि उसके आर्थिक कुप्रबंधन के कारण देश में निवेश 14 साल के निचले स्तर पर पहुंच गया है और बैंकों में धोखाधड़ी 72 प्रतिशत बढ़ी है। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने गुरुवार को यहां संसद भवन में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि ‘अच्छे दिनों’ की बात करने वाली मोदी सरकार के चार साल के आर्थिक कुप्रबंधन के कारण देश की अर्थव्यवस्था का तानाबना गड़बड़ा गया है और अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने जाने वाला आर्थिक निवेश सबसे ज्यादा प्रभावित होकर 14 साल के निचले स्तर पर पहुंच गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार का ध्यान आर्थिक हालात सुधारने पर नहीं है। इस सरकार ने अपने कार्यकाल के दौरान नोटबंदी तथा आधा अधूरा जीएसटी लागू करने जैसे निर्णय लिए हैं जिससे अर्थव्यवस्था को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। इसी का परिणाम है कि चालू वित्त वर्ष की सितम्बर में समाप्त हुई तिमाही में सार्वजनिक क्षेत्र की नयी परियोजनाओं की घोषणाएं घटकर 37 प्रतिशत रह गयी हैं जो पिछले वर्ष इस अवधि में 41 प्रतिशत थी।  प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था निगरानी केंद्र की ताजा रिपोर्ट में दी गयी जानकारी के अनुसार आर्थिक हालात सिर्फ निवेश के स्तर पर ही बदतर नहीं हुए हैं बल्कि सरकार की कमजोरी के कारण देश के बैंकों में भी फ्राॅड की घटनाएं बढ़ी हैं। उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार बैंकों में पिछले वर्ष सबसे ज्यादा धोखाधड़ी हुई है। डाटा के अनुसार 2017-18 के दौरान बैंकों में 41167.7 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी हुई है जो इससे पहले साल की तुलना में 72 प्रतिशत ज्यादा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...