पटना के घरों में फरवरी से पाइप के जरिए होगी रसोई गैस आपूर्ति : उपमुख्यमंत्री - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 4 जनवरी 2019

पटना के घरों में फरवरी से पाइप के जरिए होगी रसोई गैस आपूर्ति : उपमुख्यमंत्री

lpg-by-pipeline-in-patna
पटना, 3 जनवरी, बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने यहां गुरुवार को कहा कि अगले महीने यानी फरवरी से पटना के लोगों को पाइप के जरिए रसाई गैस की आपूर्ति होने लगेगी। पेट्रोलियम व नेचुरल गैस रेगुलेटरी बोर्ड की ओर से आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि फरवरी में पटना के घरों में पाइप से गैस की आपूर्ति शुरू हो जाएगी। इस मौके पर उन्होंने गेल इंडिया से अगले पांच साल में पटना के 50 हजार घरों में पाइप से एलपीजी आपूर्ति के लक्ष्य को संशोधित कर बढ़ाने को कहा। मोदी ने कहा कि पटना के फुलवारीशरीफ में सीएनजी गेट स्टेशन की स्थापना के लिए सरकार ने 100 करोड़ कीमत की डेढ़ एकड़ जमीन मात्र 48 करोड़ रुपये में उपलब्ध कराने जा रही है। उन्होंने मार्च तक पटना में तीन सीएनजी स्टेशन तथा 2019-20 में चार नए स्टेशन स्थापित होने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार भवन निर्माण कानून में बदलाव करने की तैयारी कर रही है, जिससे बहुमंजिली इमारतों में निर्माण के दौरान ही गैस का पाइप भी लगाया जा सके। उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि सीएनजी व बैट्री चालित वाहनों के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए सरकार उसके निबंधन शुल्क कम करने पर विचार कर रही है। मोदी ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की चर्चा करते हुए कहा, "इस योजना के तहत पिछले वर्ष एक दिसंबर तक बिहार के 70 लाख गरीबों को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए गए हैं।" बिहार में प्रदूषण पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि बिहार सरकार कजरा (लखीसराय) और पीरपैंती (भागलपुर) में प्रस्तावित थर्मल की जगह 200-200 मेगावाट के सोलर पावर प्लांट लगाने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा, "पाइप से गैस की आपूर्ति होने से जहां घरों में सिलेंडर की जगह सीधे रसोई गैस मिलेगी, वहीं गैस आधारित उद्योग भी लगेंगे। पुराने वाहनों को सीएनजी में परिवर्तित करने के लिए 30-40 हजार में किट उपलब्ध है। पेट्रोल, डीजल और एलपीजी की तुलना में सीएनजी 35-40 प्रतिशत सस्ता है। सीएनजी के प्रयोग से वायु प्रदूषण के नियंत्रण में मदद मिलेगी।"
एक टिप्पणी भेजें
Loading...