शव को कंधा दे रहे युवक स्कूटी लेकर फरार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 1 जनवरी 2019

शव को कंधा दे रहे युवक स्कूटी लेकर फरार

thept-scooty-who-carry-dead-body
मथुरा, 31 दिसम्बर, उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में साले की मौत पर उसके अंतिम संस्कार में शामिल हुए जीजा की स्कूटी लेकर शव को कंधा दे रहे एक युवक और उसके दो साथी फरार हो गए ।  पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार भरतपुर निवासी अजय अपने साले संजय के अंतिम संस्कार में शामिल होने यहां पहुंचा ।  मृतक की शवयात्रा की तैयारी के समय एक ओर चीख-पुकार मची हुई थी तो दूसरी ओर गांव के कई युवक व बडे़-बूढ़े अर्थी उठाने के लिए पहुंच गए थे। मृतक के परिजनों को ऐसे में दो-तीन युवक अनजान लगे, लेकिन वे जिस प्रकार मृतक के जीजा अजय को ढांढस बंधा रहे थे, उन्हें लगा वे उनके जान-पहचान के होंगे । जबकि, अजय उन्हें अपने साले संजय का मित्र समझकर व्यवहार कर रहा था। इस बीच अर्थी उठी तो वे कंधा देने भी पहुंच गए। उन्होंने बताया कि कुछ दूर चलने पर उनमें से एक ने पैदल-पैदल स्कूटी लेकर चल रहे अजय से कहा कि वह भी अर्थी को कंधा दे ले। जीजा होने के कारण वह कुछ झिझका तो उसने दुहाई दी कि जवान मौत है। इसलिए कोई गलत बात नहीं होगी। आपको भी कंधा देना चाहिए।  इतनी बात पर अजय ने स्कूटी उसे पकड़ा दी और खुद कंधा देते हुए अर्थी के साथ चलने लगा। स्कूटी की चाभी उसी में लगी हुई थी। श्मशान पहुंच कर जब उसने स्कूटी की चाबी वापस मांगनी चाही तो वह युवक और उसके साथ दिखाई दे रहे दो अन्य युवक गायब थे ।  आपस में पूछताछ में पता चला कि वे न तो अजय के जानकार थे, और न ही संजय (मृतक) के दोस्त। वे स्कूटी लेकर फरार हो चुके थे। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है ।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...