बिहार : युद्धोन्माद का राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है भाजपा : माले - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 28 फ़रवरी 2019

बिहार : युद्धोन्माद का राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है भाजपा : माले

कमांडर अभिनंदन की वापसी से ज्यादा बूथ की चिंता है भाजपा को.देश की जनता से शांति बनाए रखने की भाकपा-माले की अपील2 मार्च को नीतीश कुमार के इस्तीफे की मांग पर वाम दलों का प्रदर्शन.
bjp-taking-war-benefit-for-election-cpi-ml
पटना 28 फरवरी 2019, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने कहा है कि भाजपा भारत व पाकिस्तान के बीच उत्पन्न तनाव का राजनीतिक फायदा उठाने के फिराक में है. यह बेहद निंदनीय है. जब देश का एक कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान के कब्जे में है, तो उन्हें वापस लाने की बजाए प्रधानमंत्री द्वारा ‘मेरा बूथ सबसे मजबूत’ कार्यक्रम चलाना हद दर्जे की संवेदनहीनता व जवानों के प्रति गैरजिम्मेवार रवैये को दिखलाता है. अभी देश जांबाज कमांडर की अविलंब सुरक्षित वापसी को लेकर चिंतित है, ऐसे समय में मोदी सरकार सत्ता में वापसी के लिए परेशान है. कर्नाटक भाजपा के नेता येद्दुरप्पा ने खुलकर कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक भाजपा को चुनाव जीतने में मदद करेगी. अमित शाह कह रहे हैं कि ऐसा कार्य केवल मोदी ही कर सकते हैं. जाहिर है कि भाजपा इस नाम पर राजनीति कर रही है. भाकपा-माले ने कहा है कि युद्ध किसी समस्या का समाधान नहीं है. न तो पुलवामा जैसी घटना घटनी चाहिए और न ही भारत व पाकिस्तान के बीच युद्ध होना चाहिए. देश की अमन पसंद जनता से युद्धोन्माद में शामिल न होने तथा विवेक से काम करने की अपील भाकपा-माले करती है.

अपने बयान में भाकपा-माले ने कहा है कि 14 फरवरी को पुलवामा में जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले, जिसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान आधारित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी, और भारतीय वायुसेना द्वारा कल (26 फरवरी) को पाकिस्तान के भीतर किये गये जवाबी हमले से भारत और पाकिस्तान के बीच के संबंध लगभग युद्ध के कगार पर पहुंच गए हैं। भारत सरकार के विदेश सचिव ने भारतीय प्रतिक्रिया को आतंकवादी हमले के जवाब में की गई प्रि-एम्प्टिव (बचाव के लिए) कार्यवाही बताया है । दूसरी तरफ पाकिस्तान ने आकस्मिक हमला कर बदले की कार्यवाही करने की घोषणा की है। तमाम संकेतों से जाहिर होता है कि भारत और पाकिस्तान एक बार फिर एक और युद्ध के कगार पर खड़े हो गए हैं। परमाणु अस्त्रों से लैस भारत और पाकिस्तान जैसे दो देशों के बीच युद्ध, भले ही वह सीमित या थोड़े समय के लिए हो, भारत, पाकिस्तान और समूचे दक्षिण एशिया की जनता के लिए गंभीर खतरे का पूर्वाभास है। हम, भारत की जनता, एक और पुलवामा नहीं चाहते। हम भारत और पाकिस्तान के बीच एक और युद्ध नहीं चाहते। हम भारत-पाकिस्तान की सरकारों से अपील करते हैं कि वे संयम बरतें, परिस्थितियों को और बिगड़ने से रोकें और आतंकवाद व युद्ध को रोकने के लिए तथा भारत पाकिस्तान सीमा पर स्थायी शान्ति सुनिश्चित करने के लिए कूटनीतिक प्रयासों को तेज करें । हम दोनों देशों की शांतिप्रिय जनता से अपील करते हैं कि वे अपने-अपने मीडिया में हो रहे प्रतिस्घ्पर्धात्घ्मक युद्धोन्मादी शोर को खारिज करें और शांति की संभावनाओं को मजबूत करें। माले राज्य सचिव ने आगे कहा कि मुजफ्फरप ुर शेल्टर होम मामले में पाॅक्सो कोर्ट की जांच आदेश के मद्देनजर नीतीश कुमार के इस्तीफे की मांग पर 2 मार्च को वाम दल पूरे राज्य में विरोध दिवस मनायेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...