दिल्ली में प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत से तीन गुना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 23 फ़रवरी 2019

दिल्ली में प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत से तीन गुना

delhi-s-per-capita-income-is-almost-three-times-of-national-average
नयी दिल्ली, 23 फरवरी, दिल्ली में प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय  औसत से तीन गुना हो गयी है और वर्ष 2018-19 में यह वृद्धि 8.61 प्रतिशत दर्ज की गयी है। दिल्ली के आर्थिक सर्वेक्षण (2018-19) में यह जानकारी दी गयी है। राज्य के सकल घरेलू उत्पाद का अग्रिम आंकलन 2018-19 में मौजूदा कीमतों में 7,79,652 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है जिसमें 2017-18 के मुकाबले 12.98 प्रतिशत वृद्धि हुई है। वास्तविक आधार पर 2018-19 में यह वृद्धि 8.61 प्रतिशत के आसपास है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शनिवार को विधानसभा में दिल्ली आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जिसमें कहा गया है कि 2018-19 में मौजूदा कीमतों में राजधानी में प्रति व्यक्ति आय 3,65,529 रुपये रही जबकि राष्ट्रीय स्तर पर प्रति व्यक्ति आय 1,25,397 रुपये थी जो यह दर्शाता है कि राजधानीवासियों की प्रति व्यक्ति आय राष्ट्रीय औसत से तीन गुना है। राजधानी दिल्ली में 2017-18 में कर संग्रह में 2016-17 के 3.03 प्रतिशत के मुकाबले 14.70 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है और राजधानी ने अपना राजस्व अधिशेष 2017-18 में 4,913 करोड़ रुपये बनाकर रखा है। दिल्ली में सामाजिक सेवाओं पर होने वाला खर्च 2014-15 के 68.71 प्रतिशत की तुलना में बढ़कर 2017-18 में 74.76 प्रतिशत हो गया है और 2018-19 के बजट में इन योजनाओं तथा परियोजनाओं का आवंटन 83.60 प्रतिशत है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि दिल्ली सरकार ने 2017-18 में उत्पादन अौर उत्पादन सूचकांकों के अाधार पर पहला समग्र उत्पाद बजट तैयार किया है और पारंपरिक बजट प्रकिया से हटकर उत्पादन आधारित बजटीय प्रकिया को अपनाया है। वर्ष 2018-19 में शिक्षा क्षेत्र लगातार पहली प्राथमिकता बना रहा और इसके लिए कुल 27.36 प्रतिशत बजटीय आवंटन किया गया था। इसके बाद सामाजिक सुरक्षा और कल्याण योजनाओं पर 16.63 प्रतिशत, चिकित्सा और जन स्वास्थ्य पर 14.81 प्रतिशत तथा आवास एवं शहरी विकास पर 14.12 प्रतिशत , यातायात पर 11.67 प्रतिशत और जल आपूर्ति एवं स्वच्छता पर 10.68 प्रतिशत बजटीय आवंटन किया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...