रक्षा उपकरण निर्माताओं के लिए भारत में अपार अवसर: सीतारमण - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 फ़रवरी 2019

रक्षा उपकरण निर्माताओं के लिए भारत में अपार अवसर: सीतारमण

extra-opportunities-for-defense-equipment-makers-in-india-sitharaman
बेंगलुरु, 20 फरवरी,  रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने एयरो इंडिया शो-2019 के दौरान वैश्विक रक्षा कंपनियों से स्पष्ट रूप से कहा कि भारत में रक्षा उपकरणों के निर्माण में निवेश करने से उनके लिए अपने व्यवसाय को दुनिया भर में फैलाने के अपार अवसर होंगे। श्रीमती सीतारमण ने एशिया के सबसे बड़े एयर शो कार्यक्रम के उद्घाटन भाषण के दौरान कहा, “ नरेंद्र मोदी सरकार रक्षा उपकरण कंपनियों की ओर से किये जाने वाले निवेश का पुरजोर स्वागत करती है और उन्हें हर तरह की सहूलियतें देने को तैयार है। उन्होंने कहा कि पिछले एक वर्ष में ‘मेक इन इंडिया’ नीति के तहत केवल रक्षा क्षेत्र में देश ने 1.27 लाख करोड़ रुपये के 200 सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किये गये हैं।  उन्हाेंने कहा, “ अब हम रक्षा खरीद के लिए 164 अनुरोध प्रस्ताव पर हस्ताक्षर करेंगे जो अगले एक साल में क्रियान्वित होंगे जिसके तहत 2. 80 लाख करोड़ रुपये का निवेश होगा। अत: वैश्विक कंपनियों के लिए सरकारी, सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की भारतीय कंपनियों के साथ गठजोड़ करने के बड़े अवसर हैं।” उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का जोर व्यापार में सहूलियतें प्रदान करना है और देश के विकास में गति लाने के लिए इसके प्रावधानों, सुविधाओं और नीति काे बेहतर बनना है।  भारत में रक्षा निर्माण क्षेत्र में 100 प्रतिशत विदेशी निवेश की अनुमति से देश को बड़ी कामयाबी मिली है और देश रक्षा उत्पादन के अग्रणी राष्ट्रों की ओर अग्रसर हो गया है।  उन्होंने कहा कि एयरो इंडिया शो बेंगलुरु के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यहां रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन भी है।  मेक इन इंडिया के तहत एयरोस्पेस क्षेत्र के इस हिस्से में रक्षा संबंधी निर्माण को काफी बढ़ावा मिला है।  रक्षा मंत्री ने कहा, “इस द्विवार्षिक कार्यक्रम में 600 भारतीय और 200 विदेशी कंपनियां शामिल हो रही हैं। नागरिक उड्डयन मंत्रालय भी इसमें शिरकत कर रहा है।”

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...