झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 24 फ़रवरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 24 फ़रवरी 2019

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 24 फ़रवरी

संत गाडगे महाराज को स्वच्छता अभियान को प्रारंभ करने वाले जनक के रूप  में सदैव स्मरण किया जावेगा- गुमानसिंह डामोर
शहीदों को स्मरण कर श्रद्धांजलि दी - रज्जक समाज ने धुमधाम से मनाई संत गाडगे जयंतिन्गर मे निकाली गई विषाल शोभायात्रा
jhabua news
झाबुआ । डेबुजी झिंगराजि जानोरकर साधारणतः संत गाडगे महाराज और गाडगे बाबा के नाम से जाने जाते थे। वे एक समाज सुधारक और घुमक्कड भिक्षुक थे जो महाराष्ट्र में सामाजिक विकास करने हेतु साप्ताहिक उत्सव का आयोजन करते थे। उन्होंने उस समय भारतीय ग्रामीण भागो का काफी सुधार किया और आज भी उनके कार्यो से कई राजनैतिक दल और सामाजिक संस्थान प्रेरणा ले रहे है। उनका वास्तविक नाम देवीदास डेबुजी था। महाराज का जन्म महाराष्ट्र के अमरावती जिले के अँजनगाँव सुरजी तालुका के शेड्गाओ ग्राम में एक धोबी परिवार में हुआ था। गाडगे महाराज एक घूमते फिरते सामाजिक शिक्षक थे। वे पैरो में फटी हुई चप्पल और सिर पर मिट्टी का कटोरा ढककर पैदल ही यात्रा किया करते थे। और यही उनकी पहचान थी। जब वे किसी गाँव में प्रवेश करते थे तो गाडगे महाराज तुरंत ही गटर और रास्तो को साफ करने लगते। और काम खत्म होने के बाद वे खुद लोगो को गाँव के साफ होने की बधाई भी देते थे। संत गाडगे बाबा सच्चे निष्काम कर्मयोगी थे। महाराष्ट्र के कोने-कोने में अनेक धर्मशालाएँ, गौशालाएँ, विद्यालय, चिकित्सालय तथा छात्रावासों का उन्होंने निर्माण कराया। यह सब उन्होंने भीख माँग-माँगकर बनावाया किंतु अपने सारे जीवन में इस महापुरुष ने अपने लिए एक कुटिया तक नहीं बनवाई । स्वच्छता अभियान को प्रारंभ करने वाले जनक के रूप में उन्हे सदैव स्मरण किया जावेगा । ’ उक्त  उदबोधन क्षेत्रीय विधायक गुमानसिंह डामोर ने शनिवार को राजवाडा चैक पर रज्जक धोबी समाज के आदी पुरूष संत गाडगेमहाराज की जन्म जयंती पर आयोजित झाबुआ एवं आलीराजपुर जिले के रज्जक धोबी समाज द्वारा आयोजित कार्यक्रम में संबोधित करते हुए कहीं । इसके पूर्व रज्जक धोबी समाज सकल पंचायत द्वारा राजवाडा चैक पर पुलवामा में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि एवं पुष्पांजलि का आयैक्रम आयोजित किया । इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक गुमानसिंह डामोर, जिला भाजपाध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा, ओपी राय, बबलु सकलेचा,डा.अरविन्द दांतला, कल्याणसिंह डामोर, भूपेश सिंगोड, चैतना चैहान, प्रेमलता महोदिया,पार्षद अजय सोनी, हिमेश महोदिया, नरेन्द्रसिंह महोदिया, पार्षद नरेन्द्र राठौरिया सहित बडी संख्या में झाबुआ एवं आलीराजपुर जिले के समाज जन उपस्थित थे । श्रद्धांअर्पित करके के बाद विधायक श्री डामोर एवं समाजजनों द्वारा रथ में बिराजित श्री गाडगे महाराज की प्रतिमा एव ंचित्र की आरती उतारी गई । और संत गाडगे महाराज की शोभायात्रा नगर के मुख्य मार्गो से होता हुआ बेंड बाजों के साथ निकला । महिलायें जुलुस  के आगे नृत्य एवं गरबा करती हुई चल रही थी । शोभायात्रा का समापन माहेश्वरी समाज के श्री लक्ष्मीपति मंदिर पर किया गया जहां आरती के बाद प्रसादी का वितरण किया गया तथा रज्जक समाज के सभी उपस्थितों ने अपने घर से लेकर पूरे नगर एवं प्रदेश की स्वच्छता का संकल्प दुहराया ।

इधर परीक्षाये चल रही उधर हो रहा कृषि विज्ञान मेले का कार्यक्रम-
बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड कर रहा शासन-प्रषासनकोलाहल नियंत्रण लागू होने के बाद भी क्यो दी स्कूल परिसर में कार्यक्रम की अनुमति- गुमानसिंह डामोर
jhabua news
झाबुआ । एक तरफ शासन-प्रशासन स्कूली बच्चों की परीक्षाओं के समय को लेकर डीजे एवं अन्य कोलाहलों को कठोरतम कार्यवाही करने का ढिंढोरा पिट रही है, वही दूसरी और स्कूली बच्चों की परीक्षाओं के समय स्वयं ही बच्चों की स्कूल के ठीक सामने ही कानफोडू माईक एवं स्पीकरों की आवाज में अपने आयोजनो को करके बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड करने में कोई कसर नही रख रही है। क्षेत्रीय विधायक गुमानसिंह डामोर ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके बताया कि जिला प्रशासन द्वारा प्रभारी मंत्री सुरेन्द्रसिंह बघेल के मुख्य आतिथ्य मे उत्कृष्ठ उच्चतर माध्यमिक विद्यालय  के मैदान में  त्रि दिवसीय जिला स्तरीय कृषि विज्ञान मेले का आयोजन करके स्कूली बच्चों जिनकी परीक्षायें प्रारंभ हो चुकी है, के  भविष्य के साथ घिनौना खिलवाडा करने पर तुली हुई है। विधायक गुमानसिंह डामोर ने बताया कि  23 से 25 फरवरी तक तीन दिनों तक उत्कृष्ठ मैेदान पर उक्त कृषि विज्ञान मैला प्रशासन की अनुमति से आयोजित होरहा है  जबकि शनिवार को उत्कृष्ठ उच्चतर माध्यमिक विद्यालय मे कक्षा 11 वी की वार्षिक परीक्षा दोपहर 1 बजे से होने के कारण बच्चें सुबह से स्कूल परिसर में अपनी पुस्तके आदि लेकर तेयारी करने के लिये आये थे किन्तु बच्चों को इस आयोजन मे लगे माईक एवं स्पीकरों की कानफोडू आवाज के कारण परीक्षा पूर्व रीविजन एवं पढाई करने में  व्यापक परेशानियों का सामना करना पडा । परीक्षा के लिये निकटवर्ती एवं दूर दराज रहने वाले स्कूली छात्र-छात्रायें भी इस आशा के साथ आये थे कि वे परीक्षा पूर्व सुकुन से अध्ययन  एवं पूर्वाभ्यास कर सकेगें। वही शनिवार को ही कक्षा 10वी की भी प्रिपेड परीक्षा होने के चलते इन परीक्षार्थियों को भी आगामी तीन दिनों तक कोलाहल के कारण अपने भविष्य पर प्रश्न चिन्ह लगता दिखाई दे रहा है। विधायक श्री डामोर ने आरोप लगाया कि सिर्फ प्रभारी मंत्री के इस आयोजन करने के नाम पर प्रशासन ने बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाडा किया है। उन्होने कहा कि परीक्षाओं के समय सामाजिक एवं विवाह शादी के आयोजन में तो प्रशासन बच्चों की परीक्षा को लेकर कडे कदम उठाने की बात करता है फिर सैकडो छात्रों की जहां परीक्षायें चल रही है वहां इस प्रकार के कार्यक्रम को आयोजित करने की प्रशासन ने किस कारण अनुमति दी यह मनन एवं जांच का विषय है । श्री डामोर ने कहा कि इसे लेकर वे विधानसभा में भी मुद्दा उठाने में पीछे नही रहेगें।

सरस्वती षिषु मंदिर के वार्षिकोत्सव का हुआ समापन, पुलवामा के शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई

jhabua news
झाबुआ। जिले की सरस्वती षिषु मंदिर झकनावदा के तत्वावधान में प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी वार्षिकोत्सव धूमधाम से मनाया गया। आयोजन शुभारंभ के पुर्व सरस्वती षिषुु मंदिर द्वारा पुलवामा आतंकी हमले शहीद हुए जवानो को रांगोली द्वारा भारत का नक्षा बनाकर पधारे अतिथियो एवं स्कुल स्टाॅफ तथा श्रोताओ द्वारा मोमबत्तीयां जलाकर एवं पुष्पांजलि अर्पित कर पुलवामा के शहीद रणबंकुरो के भक्ति गीत पर श्रृद्धांजलि दी गई। तत्पष्चात् उपस्थित अतिथियो ने आयोजन का श्रीगणेष करते हुए मां शारदा की तस्वीर पर पुष्पमाला पहनाकर दीप प्रज्जवलित किया। बाद स्कूल संस्था द्वारा उपस्थित मुख्य अतिथी नरेन्द्र कोठारी (नगर सेठ), चैकी प्रभारी भागीरथ बघेल, भवानी शंकर राठौर, भवरलालजी कोटड़िया (समाज सेवी), पारस जैन, महेन्द्र शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार देवेन्द्र बैरागी, श्री राजपुत करणी सेना के प्रदेष उपाध्यक्ष जगपालसिंह राठौर का पुष्पमाला एवं उपहार भेट कर सम्मान किया गया।

सरस्वती वंदना से आयोजन हुआ प्रारंभ
आयोजन श्रीराम मंदिर प्रांगण में आयोजित किया गया। जहां आयोजन की शुरूवात सरस्वती वंदना के साथ की गई। जिसके बाद नन्हे-मुन्ने बाल कलाकारो द्वारा एक से बढकर एक प्रस्तुतिया दी गई। इसके साथ ही फेंसी डेªस में भगवान महांकाल, राम भक्त हनुमान ने भक्तो को दर्षन देकर साक्षातकार करवाया। बाल कलाकारो की प्रस्तुतियां एक से बढकर एक रहीं। जिसको देख श्रोता तालियां बजाने को मजबूतर हो गए। आयोजन के बीच राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के सदस्यो द्वारा समस्त उपस्थित बच्चो एवं श्रोताओ को स्वलपाहार करवाया गया। इसके साथ ही आयोजन के चलते स्कूल प्राचार्य श्रीमती वीणा राठौर एवं स्कूल स्टाॅफ की सराहना करते हुए आॅल मिडिया जर्नलिस्ट सोषल वेलफेयर एसोसिएषन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मनीष कुमट, लक्ष्मण चैधरी, पारस जैन द्वारा उपहार भेट कर सम्मानित किया गया। साथ ही वीणा दीदी ने समस्त उपस्थित अतिथीयो एवं श्रोताओ को समल आयोजन बनाने हेतु धन्यवाद देते हुए आभार व्यक्त किया एवं बताया कि आयोजन में एकल नृत्य, युगल नृत्य व फेन्सी डेªस में प्रथम द्वितीय तृतीय का निर्णायक श्रीमती रंजना बर्फा एवं कु. निषा मिस्त्री द्वारा लिए गए निर्णय अनुसार चयन कर पुरस्कृत किया जाएगा।

आयोजन में इनका रहा सराहनय सहयोग
सफल आयोजन में बच्चो को नृत्य-डांस, फेंसी डेªस में तैयारी करवाने में मुख्य रूप से श्रीमती वीणा राठौर, श्रीमति आरती मिस्त्री, ज्योति राव, कु. नैना मिस्त्री, हितेष्वरी राठौर व अमन राठौर, प्रिन्स चैहान का सराहनीय सहयोग रहा। आयोजन का संचालन मनीष कुमट व मितेष कुमट ने किया एवं आभार पारस जैन ने माना।

‘‘मैं रहु या ना रहु..भारत ये रहना चाहिए‘‘ कि थीम पर हुआ वार्षिकोत्सव.......

jhabua news
पिटोल । संतश्री आसारामजी गुरुकुल में ‘‘मैं रहूं या ना रहु..भारत ये रहना चाहिए‘‘की थीम  पर वार्षिकोत्सव सम्पन्न हुआ।कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने अपनी प्रस्तुतियों के द्वारा देशभक्ति व राष्ट्रीयता के भाव को जागृत कर जनसमुदाय को राष्ट्रप्रेम की भावना से भर दिया।कार्यक्रम में छोटे बच्चो के द्वारा महापुरुषों की जीवंत प्रस्तुति की ग्रामीणों ने काफी सराहना की।कार्यक्रम को देखने के लिये बड़ी संख्या में आस पास के ग्रामीण भी मौजूद रहे।       .....झांसी की रानी एवं वीर शिवाजी की जीवंत प्रस्तुतियों की ग्रामीणों ने खूब प्रशंसा की.......कार्यक्रम में झांसी की रानी लक्ष्मी बाई बनी संतोषी गोहिल ने घोड़े पर सवार होकर अपनी सेना के साथ प्रस्तुति दी एवं वीर शिवाजी बने भावेश मेड़ा ने शिवाजी महाराज के अखाड़े व हिन्दवी स्वराज्य का जीवंत प्रस्तुति दी।विद्यालय के संचालक डॉ जगदीश खतेडिया ने बताया कि विद्यालय के 150 विद्यार्थियों ने लाइट एवं साउंड शो के माध्यम से बाजीराव,स्वामी विवेकानंद,वीर शिवाजी,रानी लक्ष्मी बाई के जीवन की गाथाओ को दर्शाते हुए 2 घंटे की अनवरत प्रस्तुति दी गई।कार्यक्रम की शुरुआत निर्वाण षट्कम से हुई तथा समापन भारत माता की आरती से हुआ।...........कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री राजाराम जी कटारा एवं मेगजी भाई अमलियार रहे तथा अध्यक्षता डॉ भरत भोकण (गुरु गोविंद यूनिवर्सिटी गोधरा)ने की।कार्यक्रम को सफल बनाने के लिये स्वाति शर्मा,अमृत पूरी,रवीना पांचाल,रेणुका नायक,स्वाती,पल्लवी वर्मा,हंसा नायक ,जयदीप गुर्जर,रुचिता खतेडिया,हीना नायक ने काफी मेहनत की।कार्यक्रम का संचालन दर्शन कहार एवं शिवम बिल्लोरे ने किया,एवं आभार विद्यालय की प्रधानाचार्य गीता खतेडिया ने माना।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...