बिहार : बाढ़ का लल्लू मुखिया गिरफ्तार,लोगों में खुशी की लहर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 20 फ़रवरी 2019

बिहार : बाढ़ का लल्लू मुखिया गिरफ्तार,लोगों में खुशी की लहर

lallu-mukhiya-arrest-badh
अरुण कुमार (आर्यावर्त) मोकामा के निर्दलीय विधायक अनंत सिंह की बदौलत बाढ़ में चौड़ा होकर घूमने वाला और एनटीपीसी के ठेकों को मैनेज करने वाला लल्लू मुखिया पर जबरदस्त कार्रवाई हुई है।मर्दानी और लेडी सिंघम के नाम से चर्चित सहायक पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह ने लल्लू मुखिया को उसकी औकात बता दी है। राइफल के बल पर लोगों को डराने और खुद को रसूखदार साबित करने की कोशिश में लगे इस ठेकेदार और अपराधी के खिलाफ कार्रवाई कर भारतीय पुलिस सेवा की अधिकारी लिपि सिंह ने बहुत बड़ा मैसेज दे दिया है।बाढ़ के गुलाब बाग का रहने वाला कर्मवीर यादव उर्फ लल्लू मुखिया को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।उसके तीन सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया गया है।इन पर हथियार के बल पर लोगों को डराने तथा रंगदारी वसूलने के लिए धमकाने का भी आरोप है।लल्लू मुखिया के साथ श्याम नाथ राय, देवानंद कुमार, विजय कुमार सिंह को भी गिरफ्तार किया गया है।इन पर लाइसेंसी राइफल का दुरुपयोग कर, दूसरे के इकरारनामा के नाम पर वाहनों से जबरन पैसा वसूली करने का आरोप है।देवानंद कुमार और श्याम लाल राय शराब के नशे में धुत पाए गए थे। आरोप है कि इनको वाहनों से वसूली का अधिकार सिर्फ बाढ़ नगर परिषद क्षेत्र में दिया गया था लेकिन ये ग्रामीण इलाके में आने वाले वाहनों से भी वसूली कर रहे थे।सब से बड़ी बात है कि हथियार के साथ ये लोग लोगों को आतंकित भी कर रहे थे। दरअसल बाढ़ नगर परिषद ने शहरी क्षेत्र में खड़ा होने वाले वाहनों से वसूली का अधिकार इनको दिया था।इनके द्वारा गुलाबबाग के पास वसूली  की जा रही थी।इनके पास से बरामद रायफलों के आवश्यक कागजात भी उपलब्ध नहीं थे। चेकोस्लोवाकिया की राइफल को किसी दूसरे व्यक्ति से खरीदा गया था और उसकी उसका लाइसेंस भी 2018 तक ही था।इसके अलावा पूर्व में खर्च की गई गोलियों का न तो कोई ब्यौरा दिया गया और ना ही उसके संबंध में कोई कागजात ही प्रस्तुत किया गया।इसके अलावा थ्री फिफ़्टीन की राइफल विजय सिंह यादव के नाम से थी लेकिन उस राइफल को श्याम नाथ राय के पास से बरामद किया गया।श्यामनाथ राय के पास कोई अधिकार पत्र भी नहीं था कि वह किस हैसियत से राइफल का इस्तेमाल कर रहा था। लाइसेंसी राइफल का उपयोग वसूली के लिए किए जाने पर भी लाइसेंस धारक  विजय यादव कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सका जिस कारण उनको भी पूछताछ के लिए पुलिस ने हिरासत में लिया।पुलिस ने दोनों राइफलों को जब्त कर लिया है,50 गोलियां भी बरामद की गई हैं।बाढ़ थाना के सहायक अवर निरीक्षक मुन्ना कुमार के बयान पर बाढ़ थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई है।थानाध्यक्ष प्रमोद कुमार ने बताया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 290, 384, 419, 420, 34 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।इसके अलावा आर्म्स एक्ट 25 1 बी ए,  30 35 तथा 37c बिहार उत्पाद अधिनियम की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

ips-lipi-singh
आई पी एस लिपि सिंह का बस एक ही मकसद है वो है कानून की रक्षा और कानून राज की स्थापना। भारतीय पुलिस सेवा की अधिकारी ने बताया कि कानून का राज कायम करना ही एकमात्र मकसद है।उन्होंने कहा कि बाढ़ अनुमंडल क्षेत्र में हथियारों का प्रदर्शन कर आम लोगों को डराने की इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती है.।उन्होंने कहा कि जिनके पास भी लाइसेंसी राइफल है, वह राइफल सुरक्षा के लिए दिया गया है ना कि आम लोगों पर उसका रोब दिखाने के लिए।उन्होंने यह भी कहा कि अपराधिक गतिविधियों में लिप्त लोग अभी ही सचेत हो जाएं वरना कार्रवाई इतनी कठोर होगी जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं कर सकता है।सहायक पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह की माने तो यह कार्रवाई एक संकेत है कि पैसे और रुपए के बल पर आम लोगों को डराने वाले लोगों की खैर नहीं,और बिना किसी भेदभाव के अब तक कार्रवाई हुई है और बिना किसी भेदभाव के आगे भी कार्रवाई होती रहेगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...