मैं महात्मा गांधी की शिक्षाओं से प्रेरित हूं : बान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 21 फ़रवरी 2019

मैं महात्मा गांधी की शिक्षाओं से प्रेरित हूं : बान

mahatma-gandhi-inspired-me-baan
सियोल, 21 फरवरी, संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव बान की मून ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह महात्मा गांधी की शिक्षाओं से प्रेरित हैं और प्रतिष्ठित योनसेई विश्वविद्यालय में लगी उनकी आवक्ष प्रतिमा दक्षिण कोरिया के लोगों के लिए प्रेरणास्रोत का काम करेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दक्षिण कोरिया के साथ कूटनीतिक संबंधों को मजबूत करने के लिए यहां दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे। उन्होंने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जी ईन और संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव बान की मून के साथ योनसेई विश्वविद्यालय में महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया। बान ने कहा, ‘‘यह (महात्मा गांधी की प्रतिमा) कोरिया के लोगों और विश्वविद्यालय के छात्रों के लिए अमूल्य उपहार है।’’ उन्होंने कहा कि आज से यह आम लोगों के लिए प्रेरणास्रोत का काम करेगा। उन्होंने कहा कि 1972 में उन्होंने भारत से राजनयिक कॅरियर की शुरुआत की थी और महात्मा गांधी के सिद्धांतों से प्रेरित हुए। संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव ने कहा, ‘‘गांधी जी ने सात पाप बताए -- बिना सिद्धांत की राजनीति, बिना श्रम का धन, बिना अंतरात्मा की खुशी, चरित्र के बगैर शिक्षा, नैतिकता के बगैर व्यापार, मानवता के बगैर विज्ञान, बलिदान के बगैर पूजा। यह हम सभी के लिए प्रेरणादायक है।’’ 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...