MFN दर्जा वापस लेने की आधिकारिक जानकारी नहीं : पाकिस्तान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 17 फ़रवरी 2019

MFN दर्जा वापस लेने की आधिकारिक जानकारी नहीं : पाकिस्तान

pakistan-not-aware-for-mnf
इस्लामाबाद, 17 फरवरी, पाकिस्तान से सबसे तरजीही देश का दर्जा वापस लिए जाने के बारे में भारत से कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिली है। यह बात रविवार को पाकिस्तान के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कही। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ कड़े आर्थिक कदम उठाते हुए भारत ने शुक्रवार को पाकिस्तान से सबसे तरजीही देश का दर्जा वापस ले लिया है। उसने पाकिस्तान को यह दर्जा 1996 में दिया था, हालांकि पाकिस्तान ने अभी तक भारत को यह दर्जा नहीं दिया है। इतना ही नहीं शनिवार को भारत ने पाकिस्तान से आयात किए जाने वाले सभी सामान पर आयात शुल्क बढ़ाकर 200 प्रतिशत कर दिया है। जियो न्यूज की खबर के मुताबिक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के वाणिज्य सलाहकार अब्दुल रजाक दाऊद का कहना है कि सबसे तरजीही देश का दर्जा वापस लेने की घोषणा के दो दिन बाद भी दिल्ली की ओर से इस्लामाबाद को इस संबंध में कोई आधिकारिक सूचना नहीं दी गई है। दाऊद ने कहा, ‘‘हम भारत द्वारा सबसे तरजीही देश का दर्जा वापस लिए जाने के मसले को देख रहे हैं। इस मुद्दे पर हम भारत से बात कर सकते हैं।’’  उन्होंने कहा कि पाकिस्तान इस मसले को विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के विभिन्न मंचों पर उठा सकता है क्योंकि दोनों देश इस अंतरराष्ट्रीय संगठन के सदस्य हैं। सबसे तरजीही देश के दर्जे के तहत उस देश को निर्यात करने वाले देश के साथ गैर-विभेदकारी व्यवहार किया जाता है। इसमें मुख्य तौर पर सीमाशुल्क एवं अन्य शुल्कों के नियमों को आसान बनाया जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...