भारत-पाक तनाव पर कुरैशी ने सुरक्षा परिषद अध्यक्ष को लिखा पत्र - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 23 फ़रवरी 2019

भारत-पाक तनाव पर कुरैशी ने सुरक्षा परिषद अध्यक्ष को लिखा पत्र

quraishi-writes-letter-to-security-council-chairman-on-indo-pak-tension
नयी दिल्ली/इस्लामाबाद, 23 फरवरी, जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी हमले में 40 जवानों के शहीद होने के बाद भारत की आेर से सख्त कार्रवाई के संकेतों के बीच पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के अध्यक्ष फ्रांसिस्को एंटोनियो कोरटोरियल को पत्र लिखकर पाकिस्तान के खिलाफ भारत के बल प्रयोग की धमकी के परिणामस्वरूप क्षेत्र में ‘बिगड़ती सुरक्षा स्थिति’ की ओर उनका ध्यान आकर्षित किया है।  श्री कुरैशी ने अपने पत्र में कहा, “यह स्थिति अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए खतरा है....यह स्पष्ट है कि भारत अपने गलत अनुमानों को स्थापित तथ्यों के रूप में प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहा है। वह अपनी स्वयं की सामरिक और नीतिगत विफलताओं को छिपाना चाहता है और अपना दोष पाकिस्तान पर डालना पर डालना चाहता है।” इस पत्र की एक सॉफ्ट कॉपी दिल्ली में उपलब्ध करायी गयी है।  पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने कहा कि वह पहले ही संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस को इस गंभीर स्थिति से अवगत करा चुके हैं और संयुक्त राष्ट्र से दोनों देशों के बीच मौजूदा तनाव को कम करने के लिए हस्तक्षेप करने की गुहार लगायी है।  उन्होंने पत्र में कहा, “मैं पाकिस्तान के खिलाफ भारत के बल प्रयोग की चेतावनी के परिणामस्वरूप हमारे क्षेत्र में बिगड़ती सुरक्षा स्थिति की ओर आपका ध्यान आकर्षित करा रहा हूं। घरेलू राजनीतिक कारणों से भारत ने जानबूझकर पाकिस्तान के खिलाफ शत्रुतापूर्ण बयानबाजी की है और माहौल काे तनावपूर्ण बनाया है।” उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कई सार्वजनिक बयानों में “मुंहतोड़ जवाब देने” की धमकी देने का आरोप भी लगाया है श्री कुरैशी ने कहा, “इसके अलावा, भारत सरकार के वरिष्ठ सदस्य नदियाें के जल को हथियार के रूप में इस्तेमाल करने की धमकी दे रहे हैं। सिंधु जल संधि के तहत लंबे समय से चली आ रही कानूनी व्यवस्थाओं को बाधित करने की कोशिश की जा रही है।”

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...