बिहार : प्रेम प्रसंग के चक्कर में दो प्रेमी हुए मौत के हवाले - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 फ़रवरी 2019

बिहार : प्रेम प्रसंग के चक्कर में दो प्रेमी हुए मौत के हवाले

two-die-in-love-affair
गया से प्राप्त सूचना के अनुसार जो कुछ भी हुआ वो सही नहीं हुआ।मामला कुछ इस प्रकार है कि वेलेंटाइन वीक... यानी प्यार के इज़हार का हफ्ता। लेकिन इसी वेलेंटाइन वीक में प्रेमियों को दहला देने वाली खबर गया से आयी है। गया जिले में एक प्रेमी जोड़े के दुश्मन परिवार वालों ने हॉरर किलिंग की घटना को अंजाम देते हुए दो जिंदगियों को खत्म कर दिया है।  घटना बिहार के गया जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र की है। जहाँ प्रेमी जोड़े की हत्या के बाद परिवार वालों ने सबूत मिटाने के लिए दोनों के शवों को नदी किनारे जलाने का प्रयास किया कर रहा था। शव जलाए जाने के दौरान मौके पर पहुँची पुलिस। इस घटना की जानकारी गुप्तत रूप में पुलिस को मिल चुकी थी,पुलिस मामला की सूचना पाते ही तुरन्त कारवाई के लिये घटना स्थल पर पहुँचकर पुलिस ने हत्या के आरोप में लड़की के पिता, चाचा और भाई को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने मौके से मृतकों की हड्डी और जले मांस के टुकड़े बरामद कर डीएनए जांच के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है कि मृतक प्रेमी जोड़े के बीच पिछले दो साल से प्रेम-प्रसंग चल रहा था। लड़की ने अपने प्रेमी के साथ घर से भाग कर शादी भी कर ली थी। लड़की के परिजनों ने प्रेमी पर अपहरण का केस दर्ज कराया। जिसके बाद पुलिस ने प्रेमी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। आखिरकार लड़की ने कोर्ट में बयान दिया और प्रेमी जेल से बाहर निकला। इस पूरे घटनाक्रम के बाद भी लड़की के परिवार वाले दोनों के रिश्ते पर इसलिए रजामंद नहीं थे क्योंकि उनकी जाति अलग थी। नाराज लड़की के पिता ने अपने भाई के साथ मिलकर हत्या का प्लान बनाकर हॉरर किलिंग को अंजाम दिया।आगे इस मामले को किस तरह लेते हुए क्या कारवाई होगी ये तो आनेवाला वक्त ही बताएगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...