पूर्णिया : चढ़ल चैत चित लागे न रामा... - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 27 मार्च 2019

पूर्णिया : चढ़ल चैत चित लागे न रामा...

- चैत महीने के आगमन पर चैती गायन कार्यक्रम का आयोजन 
chait-gayan-purnia
पूर्णिया : चैती गायन बिहार का लोकप्रिय विषय रहा है। इस लोक परंपरा और बनारस घराने से जुड़ी इसकी खास गायकी को याद करते हुए शहर के कुछ गायकों द्वारा चैती गायन का कार्यक्रम किया गया। स्वरम म्यूजिक एकेडमी आश्रम रोड पूर्णिया में आयोजित इस कार्यक्रम में चैती गायन की परंपरा को जमकर गायकों द्वारा जगाया व जमाया गया। समारोह की अध्यक्षता साहित्यकार शिवनारायण शर्मा व्यथित ने की। कार्यक्रम में मुख्य रुप से शास्त्रीय गायक पंडित अमरनाथ झा, भोलेशंकर झा, वंदना पाठक, शल्या झा, मनीषा मिश्रा (निदेशिका, स्वरम), पूर्णानंद सिंह ने गायन किया। तबले पर मुख्य मुकेश झा और इंद्रकांत झा थे। आरंभिक गायन अमरनाथ झा के बहार गायन से हुआ और फिर चैती के विविध गीत गाए गए। वंदना पाठक ने भोजपुरी के चैती गीतों का विशेष गायन किया। कार्यक्रम में कई संगीत प्रेमियों और संगीत के छात्रों की उपस्थिति रही। कार्यक्रम का संयोजन राजेंद्र पाठक ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...