बिहार : अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ के द्वारा भक्तिमय " मुसीबत " - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 10 मार्च 2019

बिहार : अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ के द्वारा भक्तिमय " मुसीबत "

christian-bhajan-musibat
पटना,10 मार्च। महा पर्व गुड फ्राइडे की तैयारी से सम्बंधित भक्तिमय कार्यक्रम ईसाइयों द्वारा प्रारम्भ हो गया है। इस दौरान आज अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ द्वारा प्रभु येशु द्वारा उठाए गए कष्टों तथा क्रूस पर मृत्यु प्राप्त करने से पहले उनकी कष्टमय यात्रा को भक्तिमय "मुसीबत" नामक भजन एवं प्रार्थना का कार्यक्रम आज कमल डेविड के निवास स्थान क्रिश्चियन कॉलोनी, कुर्जी में कराया गया।जिसमें क्षेत्र के ईसाई गण शामिल हुए।इस भजन को गाने में संघ के महा सचिव एस. के.लॉरेंस के साथ साथ क्लारेंस हेनरी,करुणा कमल, कमल डेविड,जोसेफ फ्रांसिस, रंजीत,नीरज,  रीता,प्रवीण,प्रकाश,जॉर्ज तथा कई लोगों का सहयोग रहा।श्री लॉरेंस ने बताया कि प्रभु येशु ने मानव जाति के  कल्याण एवं उन्हें पापों से मुक्ति दिलाने हेतु निर्दोष होते हुए भी  क्रूस पर अपना बलिदान दिया था।इस उपलक्ष्य में ईसाई समुदाय गुड फ्राइडे का त्यौहार मनाते हैं।इसकी   तैयारी हेतु चालीस दिनों तक समुदाय के लोग उपवास परहेज रखते हुए दान पुण्य तथा साकारात्मक कार्य करते हुए इससे सम्बंधित धार्मिक कार्यों  में शामिल होते हैं। ज्ञात हो कि गुड फ्राइडे की तैयारी के रूप में ईसाई बहुल इलाकों में हर बुधवार तथा शुक्रवार को भी यह भक्तिमय कार्यक्रम किया जाता है।कैथोलिक समुदाय में 06 मार्च 2019  को राख बुध के त्यौहार को चर्चों में मनाया।इस दिन से ही गुड फ्राइडे की तैयारी प्रारम्भ हो गयी।इस दिन चर्चों में धर्म गुरुओं ने मिस्सा के दौरान भक्तजनों के माथे पर पवित्र राख को क्रूस के चिन्ह के रूप में लगाते हुए,उन्हें यह स्मरण दिलाया कि हे मानव,तू मिटटी से बना है,मिटटी में मिल जाएगा।ज्ञात हो कि इन दिनों ईसाई समुदाय के लोग गुड फ्राइडे के दिन तक भक्तिमय कार्यक्रम में शामिल होते हैं।उपवास तथा परहेज रखते हैं तथा दान पुण्य का कार्य भी करते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...