अगरतला और पानीसागर के स्कूलों में यात्रियों ने विद्यार्थियों से किया स्वास्थ्य पर संवाद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 19 मार्च 2019

अगरतला और पानीसागर के स्कूलों में यात्रियों ने विद्यार्थियों से किया स्वास्थ्य पर संवाद

  • स्वस्थ भारत यात्रियों का त्रिपुरा में प्रवेश, मंत्रियों, विधायकों एवं नागरिकों ने किया स्वागत, यात्री मेयर से भी मिले
  • आशा कार्यकर्ताओं के साथ की बैठक, अधिकारियों से किया विमर्श
  • जनऔषधि केन्द्रों का लिया जायजा, मरीजो से की बात
  • भारत-बांग्लादेश की सीमा पर लोगों को किया जागरूक

swasthy-bharat-in-tripura
अगरतला/पानीसागर (त्रिपुरा) स्वस्थ भारत यात्री विभिन्न राज्यों से गुजरते हुए त्रिपुरा राज्य पहुंचे। राज्य के मंत्रियों, विधायकों, विद्यार्थियों, जनऔषधि केन्द्र संचालकों और स्थानीय नागरिकों ने उनका स्वागत किया। अगरतला और पानीसागर के विभिन्न स्कूलों में स्वस्थ भारत यात्रियों ने विद्यार्थियों और शिक्षकों की सभा को संबोधित किया। साथ ही बाग्लादेश की सीमा पर लोगों को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक किया। वरिष्ठ स्वास्थ्यकर्मी आशुतोष कुमार सिंह के नेतृत्व में स्वस्थ भारत यात्री त्रिपुरा राज्य के अगरतला और पानीसागर के विभिन्न इलाकों में गए और स्वास्थ्य संबंधी परिस्थियों का जायजा लिया। यात्रा दल में वरिष्ठ गांधीवादी चिंतक प्रसून लतांत, प्रियंका सिंह एवं शंभू कुमार शामिल हैं। दक्षिण भारत के सभी राज्यों सहित 16 राज्यों का दौरा करके यात्री त्रिपुरा राज्य पहुंचे। अबतक 11 हजार किमी से अधिक की यात्रा तय की जा चुकी है। यह यात्रा 30 जनवरी को गांधी जी के साबरमती आश्रम से शुरू हुई है जो 90 दिनों में देश के सभी राज्यों में पहुंचेगी। यात्रा का मकसद गांधी जी के डेढ़ सौवी जयंती वर्ष पर उनके स्वास्थ्य चिंतन का प्रचार-प्रसार करना भी है। यात्रा का ध्येय वाक्य ‘स्वस्थ भारत के तीन आयामः जनऔषधि पोषण और आयुष्मान’ है।

swasthy-bharat-in-tripura
अगरतला पहुंचने पर त्रिपुरा राज्य सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सुदीप राय बर्मन ने यात्रा को भारत को स्वस्थ बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण अभियान बताया। उन्होंने कहा कि आज स्वास्थ्य के लिए लोगों को जगाना जरूरी है। इसी के साथ उन्होंने यात्री दल के सदस्यों से उनके अनुभवों की जानकारी लेते हुए अपने राज्य के स्वास्थ्य की समस्याओं के बारे में जानकारी दी। इसके पूर्व आदिवासी कल्याण मंत्री श्री मेवर कुमार जमातिया ने भी स्वस्थ भारत यात्रियों का स्वागत किया और उनके हौसले की तारीफ की। उन्होंने अपने राज्य के आदिवासी समुदाय के बीच की विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का जिक्र किया और कहा कि राज्य की सरकार स्वास्थ्य को प्राथमिकता में रखकर तेजी से काम कर रही है। अगरतला नगर निगम की मेयर एवं वरिष्ठ गांधीवादी नेत्री फूलन भट्टाचार्या ने भी स्वस्थ भारत यात्रियों का गर्मजोशी से स्वागत किया और उनके अभियान की सराहना की। उन्होंने कहा कि गांधी जी के जयंती वर्ष पर शुरू की गई यह यात्रा वास्तव में गरीब से गरीब लोगों के हित में महत्वपूर्ण है। उन्होंने यात्रा के उद्देश्यों की सराहना करते हुए कहा कि इस दिशा में और ढेर सारे प्रयत्न करने की जरूरत है।

swasthy-bharat-in-tripura
अगरतला के जिरनिया स्थित हायर सेकेन्डरी स्कूल, पानी सागर के दक्षिण पानीसागर के हाइ स्कूल एवं देवचेरा हायर सेकेंडरी स्कूल में हजारों विद्यार्थियों को आशुतोष कुमार सिंह एवं प्रसून लतांत ने संबोधित किया और उन्हें स्वास्थ्य संबंधी जानकारी दी। विद्यार्थियों ने यात्री दल के सम्मान में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया और अनेक सवाल पूछकर अपनी जिज्ञासा शांत की। इन स्कूलों के विद्यार्थियों को उनकी भूमिका के लिए यात्री दल ने प्रमाण पत्र देकर प्रोत्साहित किया। त्रिपुरा राज्य के दौरे के दौरान यात्री दल ने पानी सागर के सरकारी अस्पताल में आशा स्वास्थ्यकर्मियों के साथ बैठक की और राज्य की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की जानकारी ली। यात्री दल जनऔषधि केन्द्रों पर भी पहुंचे और वहां मौजूद मरीजों से बातचीत की। मरीजों ने यात्री दल को बताया कि जनऔषधि केन्द्र न सिर्फ हमलोगों की मर्ज की दवा है बल्कि हमें आर्थिक तबाही से भी बचाने में सहायक साबित हो रहे हैं। यात्री दल के साथ वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता देबाशीष मजूमदार, प्रतिमा, मनीषा देब वर्मन, निखिलेश भट्टाचार्य, चितरंजन देव वर्मन, बिजन कुमार दास, शंकर देवनाथ, प्रसंजीत गोस्वामी एवं नरायण दा आदि ने उनके अभियान को कामयाब करने में अपना योगदान दिया। इन सभी को उनको योगदान के लिए स्वस्थ भारत (न्यास) की ओर से प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...