मध्य प्रदेश : जन सरोकार के मुद्दे पर प्रत्याशी को द्येरेंगे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 9 अप्रैल 2019

मध्य प्रदेश : जन सरोकार के मुद्दे पर प्रत्याशी को द्येरेंगे

प्रत्याशियों के प्रतिनिधियों के बीच समझौते होने के बाद ही वोट की रणनीति तय करेंगे  
candidate-questioned-on-issue
बागचीनी,09 अप्रैल। जन संगठन एकता परिषद के तत्वावधान में ग्राम बागचीनी में क्वारी नदी के किनारे नील बाबा के स्थल पर करके क्षेत्र के 87 गांव के मुखिया ने जन सरोकार के मुद्दे पर विचार मंथन किया। इस बैठक में पूरे अंचल सेे 300 से अधिक मुखिया पंचायत प्रतिनिधि ,तथा गणमान्य लोगों ने भाग लिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री श्री 1008 श्री आश्रम करके क्षेत्र के महंत महाराज श्री नारायण दास जी महाराज ने की। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष रण सिंह परमार ने पंचायत का शुभारंभ करते हुए कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव लोग चुपचाप वोट डालने के बजाय यह भी जानना चाहेंगे कि पिछले 5 साल में आपकी पार्टी ने इस अंचल के लिए क्या किया और चुनाव के बाद क्या करोगे ? साथ ही चम्बल केे  बीहड़ो के मुद्दों पर बोलते हुए कहा कि चम्बल के बेहड़ ही इस क्षेत्र के विकास की इबारत लिखेंगे।इस अवसर पर एकता परिषद के राष्ट्रीय समन्वयक राकेश दीक्षित, रामदत्त सिंह तोमर, समाज सुधार समिति के उपाध्यक्ष, श्री कैलाश सिंह सोलंकी, नशाबंदी मुक्ति अभियान से विकास की बात कही । इस पंचायत में जन सरोकार के विभिन्न मुद्दों पर बातचीत करते हुए यह तय किया कि अब हम बिना बातचीत करके किसी भी प्रत्याशी के पक्ष में वोट नहीं करेंगे । जो प्रत्याशी जन सरोकार के मुद्दों पर अपनी सहमति व्यक्त करते हैं वह प्रत्याशी या उनके प्रतिनिधि या उनके मध्यस्थ पूरे समाज के साथ लिखित में समझौता करें कि जीतने के बाद जन सरोकार के मुद्दे पर किस प्रकार सहयोग करेंगे और इन मुद्दों को आगे बढ़ाने के लिए क्या क्या कदम उठाएंगे? एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष रन सिंह परमार ने जन सरोकार के मुद्दों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि चंबल में गौरव नई परंपरा किसी से छिपी नहीं है इस क्षेत्र में शांति और विकास का पैगाम महान गांधीवादी विचारक श्री सुब्बाराव जी तथा पी.व्ही.राजगोपाल उर्फ राजू भाई ने दिया है। हमारी ताकत हमारी एकता है लेकिन इस पूरे चंबल क्षेत्र के साथ ऐतिहासिक अन्याय लगातार होता रहा है। यहां के नौजवान काम की तलाश में लगातार पलायन कर रहे हैं ।किसी भी जनप्रतिनिधियों ने क्षेत्र के विकास, आजीविका और रोजगार आर्थिक कार्यक्रम के लिए कोई पहल नहीं की है। चंबल के बेहड़ जो मुरैना एवं श्योपुर लोकसभा क्षेत्र में 250 किलोमीटर से भी अधिक लंबाई तक फैले हैं उनके विकास के लिए भी कोई योजना सरकार ने प्रस्तुत नहीं की है ।इस सभा में यह तय किया गया कि जन सरोकार के 21 मुद्दों को सभा द्वारा सर्वसम्मति से पारित किए गए । उन पर आगे आने वाले जनप्रतिनिधि कार्रवाई करें तथा यहां की गरिमा को बनाए रखने के लिए लोकसभा में  प्रश्नों को उठाएं और पारित करवाएं ।चंबल की मिट्टी चंबल का पानी बहुत बड़ी ताकत है। इस की गरिमा को बनाए रखने के लिए यहां की तरुणाई को प्रशिक्षण देकर रोजगार या रक्षा के क्षेत्र में अवसर उपलब्ध कराने के लिए एक विशेष रक्षा अनुसंधान संस्थान की स्थापना चंबल क्षेत्र में की जाए। ग्वालियर चंबल संभाग का मुख्यालय मुरैना में है लेकिन अभी तक यहां एक भी मेडिकल कॉलेज नहीं है ।इसलिए यह तय किया गया कि इस अंचल में यहां के युवक-युवतियों को मेडिकल क्षेत्र में अवसर उपलब्ध कराने के लिए मेडिकल कॉलेज की स्थापना की जाए। चंबल के पेड़ों को यहां के निवासियों के बीच में पट्टे वितरित किया जाए ताकि वह इस प्रकार इस सभा में यह संकल्प लिया कि सभी गांव के लोग गांव गांव में समितियों का गठन करेंगे यह समितियां यह सुनिश्चित करेंगे कि 12 मई 2019 को होने वाले मतदान में सभी गांव में मतदान का प्रतिशत बढ़ाया जाए सभी लोग मत देने के लिए जाएं लेकिन उसके पूर्व जो भी प्रत्याशियों के प्रतिनिधि वोट मांगने जाएंगे उनसे लिखित में समझौता किया जाए ।अंत में सती वाले महाराज की उपस्थिति और साधु ने सब ने संकल्प लेकर सभा का समापन किया। सभा का संचालन एकता परिषद के उदय भान सिंह जी ने किया तथा अंचल के मुद्दों को श्री परशुराम जी अग्रवाल जी ने विस्तार से रखा और कार्य पूरी चंबल घाटी को विकास के मुद्दे पर एक साथ एकजुट करके रहेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...