जेट एयरवेज के कर्मचारियों ने कहा, हम चलाएंगे एयरलाइन को - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 30 अप्रैल 2019

जेट एयरवेज के कर्मचारियों ने कहा, हम चलाएंगे एयरलाइन को

jet-employee-said-will-run-airlines
नयी दिल्ली, 29 अप्रैल, ठप खड़ी जेट एयरवेज के भविष्य को लेकर अनिश्चितता के बीच कर्मचारियों के समूह या गठजोड़ ने एयरलाइन के अधिग्रहण का प्रस्ताव किया है। एयरलाइन की दो कर्मचारी यूनियनों के अनुसार जेट के कर्मचारी बाहरी निवेशकों से 3,000 करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद कर रहे हैं जिससे वे बोली लगा सकें।  यह पहला मौका है जबकि कर्मचारी 25 साल पुरानी एयरलाइन का परिचालन करने का प्रस्ताव लेकर आए हैं। एयरलाइन का परिचालन 17 अप्रैल से अस्थायी रूप से बंद है।  एयरलाइन की पायलटों तथा इंजीनियरों का प्रतिनिधित्व करने वाले दो संघों सोसायटी फॉर वेलफेयर आफ इंडियन पायलट्स (एसडब्ल्यूआईपी) तथा जेट एयरक्राफ्ट मेनटेनेंस इंजीनियर्स वेलफेयर एसोसिएशन (जेएएमईवीए) ने प्रमुख ऋणदाता बैंक भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार को पत्र लिखकर एयरलाइन का परिचालन अपने हाथ में लेने का प्रस्ताव किया है। इन यूनियनों का कहना है कि वे एयरलाइन के परिचालन के लिए 7,000 करोड़ रुपये का प्रबंध कर सकती हैं।  एसडब्ल्यूआईपी के सदस्यों की संख्या 800 है जबकि जेएएमईवीए के सदस्यों की संख्या करीब 500 है। दोनों यूनियनों ने कुमार से कर्मचारियों के समूह के प्रस्ताव पर विचार को कहा है।  यह पत्र 29 अप्रैल को भेजा गया है। इसमें कहा गया है कि कर्मचारियों का योगदान उनकी भविष्य की आय और उत्पादकता बढ़ने से आएगा। पत्र के अनुसार, ‘‘हमारे शुरुआती अनुमान के अनुसार पांच साल के कर्मचारी शेयर स्वामित्व कार्यक्रम (इसॉप) से आमदनी 4,000 करोड़ रुपये रहेगी।’’ इसके अलावा बाहरी निवेशकों से भी करीब 3,000 करोड़ रुपये का निवेश जुटाया जा सकता है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...