बिहार : नो वोटर लेफ्ट बिहाइंड के बैनर तले मतदाता जागरूकता अभियान जारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019

बिहार : नो वोटर लेफ्ट बिहाइंड के बैनर तले मतदाता जागरूकता अभियान जारी

voter-awareness-caimpaign-bihar
पटना, (आर्यावर्त संवाददाता) 26 अप्रैल। नो वोटर लेफ्ट बिहाइंड के बैनर तले मतदाता जागरूकता अभियान चल रहा है। इस तरह के अभियान में सामाजिक कार्यकर्तागण लगे हुए हैं। जो मतदाताओं को आगे में रखकर अभियान चला रहे हैं। कोई ऐसा मतदाता न बचे जो मताधिकार का प्रयोग न करें। तब जाकर लोकतंत्र का पर्व सफल होगा। जी आजकल सर्वत्र लोकतंत्र का महापर्व की चर्चा जारी है। जो 17 वीं लोक सभा के गठन करने में सहायक सिद्ध होगा। आजकल आम चुनाव चल रहा है। यह 11 अप्रैल से शुरू हुआ है। बिहार में तीन चरण का चुनाव हो गया है। प्रथम चरण 11 अप्रैल को औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई। दूसरा चरण 18 अप्रैल को भागलपुर, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया और बांका। तीसरा चरण 23 अप्रैल को झंझारपुर ,सुपौल, अररिया, खगड़िया और मधेपुरा में चुनाव हुआ।

 प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य के 40 संसदीय क्षेत्र में मतदाता जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। एकता परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रदीप प्रियदर्शी की अध्यक्षता में मंथन बैठक की गयी। पद्मश्री सुधा वर्गीस, विनय ओहदार, असरीता टोप्पो, फाटर अंटो जोसेफ, सत्येन्द्र कुमार, कपिलेश्वर राम, महेन्द्र दास, विजय कुमार सिंह, रेशमा आदि थे। अबतक संपन्न तीन चरणों का चुनाव को लेकर जीत-हार पर विश्लेषणात्मक कयास लगाया गया। इसमें देखा गया कि बांका संसदीय क्षेत्र से जयप्रकाश यादव जीत सकते हैं। गया संसदीय क्षेत्र में पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की नाव डगमगा गयी है। सजातीय मुसहर समुदाय पर निर्भर होने से बेपटरी होने का डर बन गया है। वहीं जमुई संसदीय क्षेत्र से चिराग पासवान बाजी मार देंगे। जातीय समीकरण में पटना साहिब संसदीय क्षेत्र से सिने कलाकार शत्रुध्न सिन्हा बाजी मार लेंगे। इस संदर्भ में बताया जाता है कि केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद राज्य सभा के सदस्य हैं। मंत्री महोदय को राज्य सभा की सीट बरकरार रहे और एक अन्य प्रत्याशी शत्रुध्न सिन्हा सांसद बन जाए। इसी आधार पर कायस्त समुदाय खामोश कहने वाले शत्रु को लोक सभा में भेजना पसंद करेंगे। बताया गया कि चैथा चरण 29 अप्रैल मुंगेर, बेगूसराय, उजियारपुर, दरभंगा और समस्तीपुर में चुनाव होगा। पांचवां चरण 6 मई सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारण और हाजीपुर में। छठा चरण 12 मई वाल्मीकिनगर, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सीवान और महाराजगंज में। सातवां चरण 19 मई सासाराम, काराकाट, जहानाबाद, बक्सर, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, नालंदा और आरा में चुनाव होगा। इन क्षेत्रों में मतदाता जागरूकता अभियान चलाने का निर्णय लिया गया।

अब तक 303 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद
11 अप्रैल को प्रथम चरण में 20 राज्य के 91 सीट पर चुनाव हुआ। 18 अप्रैल को दूसरा चरण में 13 राज्य के 97 सीट पर चुनाव हुआ। 23 अप्रैल को तीसरा चरण में 14 राज्य के 115 सीट पर चुनाव हुआ। 29 अप्रैल को चैथा चरण में 9 राज्य के 71 सीट पर चुनाव होगा। 6 मई को पांचवा चरण में 7 राज्य के 51 सीट पर चुनाव होगा। 12 मई को छठा चरण में 7 राज्य के 59 सीट पर और 19 मई को सातवा चरण में 8 राज्य के 59 सीट पर चुनाव होगा। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...