बिहार : 6 दिनों के बाद भी 10 मई तक पुलिस ने बदमाशों काे पकड़ा नहीं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 10 मई 2019

बिहार : 6 दिनों के बाद भी 10 मई तक पुलिस ने बदमाशों काे पकड़ा नहीं

4 मई को ग्रोटो पर बदमाशों ने मारा पत्थर, 5 मई को एफआईआर दर्ज और 6 दिनों के बाद भी 10 मई तक पुलिस ने बदमाशों का कॉलर पकड़ने में अक्षम साबित। 
after-6day-no-aarrest-mariyaam-statue-attacked
चुहड़ी, 10 मई। पश्चिम चम्पारण में है चुहड़ी पल्ली। यहां पर 250 साल से ईसाई समुदाय रहते हैं। ईसाई समुदाय का गिरजाघर (चर्च) भी है। यहां पर भक्तगण मिस्सा पूजा में भाग लेने जाते हैं। इस चर्च के बगल में है उपासना स्थल। इसे चारों तरफ से शीशायुक्त बनाया है। इसे ईसाई समुदाय  ग्रोटो कहते है। इस ग्रोटो में माता मरियम की मूर्ति है। मां मरियम बालक येसु को थामे हुई हैं। उद्दण्ड बदमाशों ने 4 मई को बालक येसु को थामे माता मरियम की मूर्ति पर पत्थर से वार कर दिया है। परिणाम स्वरूप बालक येसु की तीन ऊंगली टूट गयी है। इस मसले को चनपटिया थाना ले गया है। 4 मई को ग्रोटो पर बदमाशों ने मारा पत्थर, 5 मई को एफआईआर दर्ज और 6 दिनों के बाद भी 10 मई तक पुलिस ने बदमाशों का कॉलर पकड़ने में अक्षम साबित। अबतक बदमाश पकड़ में नहीं आए हैं।ईसाइयों में आक्रोश व्याप्त है। इस संदर्भ में बता दें कि दिनांक 04 मई 2019 को चुहड़ी स्थित माँ मरियम के ग्रोटो पर कुछ अज्ञात हमलावारों द्वारा हमलाकर लगभग मूर्ति के शीशे वाले आवरण को  क्षतिग्रस्त कर दिया गया है।अल्पसंख्यक ईसाई कल्याण संघ द्वारा सरकार को उसी वक्त फोन के जरिये इसकी सूचना देते हुए जल्द आवश्यक कार्यवाही करने का अनुरोध किया था। सरकार की तरफ से उसी वक्त उचित कार्यवाही करने के लिए सम्बंधित विभाग को कह दिया गया। आज भी ईसाई समुदाय सदमे में है। यहां के पल्ली पुरोहित फादर तोबियास टोप्पो ने चनपटिया थानाध्यक्ष मनीष कुमार को लिखित शिकायत पत्र दिया है। इसमें बारीकी से संपूर्ण विवरण दर्शाया गया है।माता मरियम की मूर्ति तोड़ने का प्रयास किया गया। स्थिति की गंभीरता को देख बदमाशों पर 153 A और धारा 295 आईपीसी लगाया गया है। 153 A में 5 साल और धारा 295 आईपीसी के तहत 2 साल का गैर जमानती सजा है। ईसाइयों का कहना है कि थानाध्यक्ष के द्वारा कार्रवाही नहीं की जा रही है। खुद थानाध्यक्ष मनीष कुमार ही अनुसंधानकर्ता हैं। डीएसपी  पंकज रावत  के दिशा निर्देश पर त्वरित कार्रवाही कर रहे हैं। इस ओर जिला पुलिस प्रशासन गम्भीर है। हां अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। 4 मई को ग्रोटो पर बदमाशों ने मारा पत्थर, 5 मई को एफआईआर दर्ज और 6 दिनों के बाद भी 10 मई तक पुलिस ने बदमाशों का कॉलर पकड़ने में अक्षम साबित।  हालांकि पुलिस प्रशासन लोकल ईसाई भक्तों से मांग की जा रही है कि शक के आधार पर नाम बताएं। रोष व्यक्त करने वाले ईसाइयों का कहना कि दारूबाज को पुलिस पकड़े तो वहां से सुराग मिल सकता है ।  अब मांग उठने लगी है कि बिहार के सभी माता मरियम की मूर्ति वाले ग्रोटो  को सुरक्षा प्रदान की जाए।  बिहार अल्पसंख्यक आयोग के द्वारा और स्थानीय  प्रशासन की ओर से  मूर्ति को पत्थर तोड़ने नहीं लायक ग्रिल बनाकर पुख्ता तौर से घेर दिया जाए और सीसी कैमरा भी  लगा जाए । यह मांग किश्चियन वैलफेयर एसोसिएशन बिहार पटना ने समस्त बिहार के लोकधर्मीओं की ओर से की गयी है 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...