गठबंधन से दोस्ती का मतलब 'आत्महत्या' : योगी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 10 मई 2019

गठबंधन से दोस्ती का मतलब 'आत्महत्या' : योगी

gathbandhan-friendship-means-suicide-yogi
संत कबीर नगर (उत्तर प्रदेश), 10 अप्रैल,  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा—बसपा गठबंधन को ‘‘दंगा कराने वालों का गठबंधन’’ बताते हुए शुक्रवार को जनता का आह्वान किया कि इस गठजोड़ से किसी भी तरह की दोस्ती का मतलब 'आत्महत्या' करने जैसा होगा। योगी ने अपने संबोधन में कांग्रेस पर भी निशाना साधा। मुख्यमंत्री ने डुमरियागंज और खलीलाबाद लोकसभा क्षेत्रों से भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में आयोजित जनसभा में आरोप लगाया कहा, 'सपा—बसपा का गठबंधन सिर्फ भ्रष्टाचार और लूट-खसोट की रिश्तेदारी है। यह दंगा कराने वालों का गठबंधन है। सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने वाला तथा गरीबों और वंचितों के हक को हड़पने वाला गठबंधन है। इससे किसी भी प्रकार की दोस्ती का मतलब आत्महत्या करने जैसा होगा।' उन्होंने कहा कि संत कबीर ने कहा था कि जब दो झूठे मिल जाते हैं तो उनमें परस्पर स्नेह बढ़ जाता है। यही स्नेह इस वक्त सपा—बसपा गठबंधन के बीच में देखा जा रहा है। योगी ने कहा, 'कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव (प्रियंका गांधी) कह चुकी हैं कि कांग्रेस ‘वोटकटवा’ की भूमिका में है... जब कांग्रेस वोटकटवा है तो लोग उसे वोट देकर अपना वोट खराब नहीं करेंगे।' उन्होंने आरोप लगाया कि सपा, बसपा और कांग्रेस की सरकारों ने आतंकवाद के आगे घुटने टेक दिये थे। अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद गरीबों और किसानों तथा नौजवानों के भले के लिये काम करने के बजाय सबसे पहले आतंकवादियों के मुकदमे वापस लेने की पहल की थी। आतंकवाद की पैरवी करना देशद्रोह है। ये आतंकवादी देश की सुरक्षा के लिये खतरा हैं। सपा, बसपा कांग्रेस इस खतरे के प्रति नरम क्यों हैं? योगी ने कहा कि जिन्हें देश की पुख्ता सुरक्षा और विकास कार्य अच्छे नहीं लग रहे हैं, वे लोग ही मोदी का विरोध कर रहे हैं। विरोध की हद भी देखिये, कहां तक जाती है। कोई कह रहा है कि जय श्रीराम का नारा क्यों लगाते हैं, कोई कहता है कि राम का वजूद ही नहीं था। उन्होंने कहा कि पांच चरणों के चुनाव के बाद सपा, बसपा, कांग्रेस और अन्य विपक्षियों में जो खलबली मची हुई है वह इस बात को दिखाती है कि वे लोग अपनी हार मान चुके हैं और इसीलिये अब गाली—गलौज पर उतारू हो गये हैं। योगी ने कहा कि यह देश को यशस्वी नेतृत्व देने का चुनाव है। इस चुनाव में नाली, खडंजा, सड़क, बिजली, पानी ज्यादा मायने नहीं रखते। इसके लिये देश की सुरक्षा और समृद्धि महत्वपूर्ण है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...