जेएमबी पूर्वी राज्यों में स्थायी ठिकाने बनाने की योजना बना रहा है : गृह मंत्रालय - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 25 मई 2019

जेएमबी पूर्वी राज्यों में स्थायी ठिकाने बनाने की योजना बना रहा है : गृह मंत्रालय

jmb-creating-residence-in-north-east-home-ministry
अगरतला, 25 मई, गृह मंत्रालय ने जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) की पूर्वी राज्यों त्रिपुरा, असम और पश्चिम बंगाल में भारत-बांग्लादेश सीमा के दस किलोमीटर के दायरे के भीतर स्थायी ठिकाने बनाने की योजनाओं को लेकर अलर्ट जारी किया है। गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव पीयूष गोयल द्वारा बृहस्पतिवार को जारी गजट अधिसूचना में कहा गया है कि आतंकवादी संगठन की ‘‘भारतीय उपमहाद्वीप में खलीफा स्थापित करने के उद्देश्य के साथ दक्षिण भारत में अपना नेटवर्क फैलाने’’ की भी योजनाएं हैं।  अधिसूचना में कहा गया है कि जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश या जमात-उल-मुजाहिदीन इंडियन या जमात-उल-मुजाहिदीन हिंदुस्तान उन 41 आतंकवादी संगठनों की सूची में शामिल हैं जिन्हें पहले ही गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून, 1967 के तहत प्रतिबंधित किया जा चुका है। इसमें कहा गया है कि जेएमबी युवाओं की भर्ती करने और आतंकवादी गतिविधियों के लिए निधि जुटाने, विस्फोटकों, रसायनों को खरीदने और आईईडी जुटाने में भी शामिल पाया गया है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने दो अक्टूबर 2014 को बर्द्धमान बम विस्फोट और 19 जनवरी 2018 को बोधगया धमाकों में जेएमबी आतंकवादियों के शामिल होने की पुष्टि की थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...