पूर्णिया : वार्षिक बजट में हर बार सिर्फ होती है चर्चा, क्रियान्वयन के लिए करना पड़ता है इंतजार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 26 मई 2019

पूर्णिया : वार्षिक बजट में हर बार सिर्फ होती है चर्चा, क्रियान्वयन के लिए करना पड़ता है इंतजार

no-implimantation-puunia-corporation
कुमार गौरव । पूर्णिया : 09 मार्च को जब वित्तीय वर्ष 2018-19 का नगर निगम पूर्णिया का वार्षिक बजट (कुल 04 अरब 04 करोड़ 11 लाख 89 हजार 854 रूपए) पेश किया गया तो ऐसा लग रहा था कि अब शायद शहर की सूरत बदल जाएगी। सभी तरह की आवश्यकताओं के अनुरूप तैयार किए गए इस बजट में हरेक बिंदुओं पर बारिकी से चर्चा की गई थी। सभी वार्ड पार्षदों से बजट में त्रुटियों पर विचार करते हुए अवगत कराने की भी अपील की गई ताकि सदन के माध्यम से सही किया जा सके। इसके बाद बोर्ड बैठक में नगर निगम के आय व्यय पर भी चर्चा की गई। जिसके बाद बजट को वार्ड पार्षदों ने सर्वसम्मति से पारित कर दिया था। तत्कालीन मेयर विभा कुमारी ने बजट पारित होने पर सभी सदस्यों का धन्यवाद किया और शहर के सर्वांगीण विकास में सहयोग की अपील की थी। इसके बाद वित्तीय वर्ष 2019-20 का वार्षिक बजट वर्तमान मेयर सविता देवी के द्वारा मार्च 2019 में सशक्त स्थाई समिति की बैठक में आचार संहिता के कारण आनन फानन में पेश किया गया। पूर्णिया नगर निगम का यह बजट अब तक का सबसे बड़ा बजट है और इसमें 478 करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। हर बार हमारे जनप्रतिनिधि यही कहते हैं कि जनहित में बजट तैयार किया गया है। जिसका लाभ समाज के हर तबके को मिलेगा। योजनाएं घोषित होती हैं और क्रियान्वित भी होती हैं लेकिन साथ साथ शिकायतें भी बनी रहती हैं। 

...वैसी योजनाएं िजन पर हर बार होती है चर्चा : 
- बजट पारित कराने के दौरान बोर्ड बैठक में मुख्य रूप से शहर की साफ सफाई के लिए डंपिंग जोन व डोर टू डोर वेस्ट कलेक्शन की नीति
- सफाई के लिए वाहन क्रय
- शहर के सौंदर्यीकरण के लिए पार्क निर्माण व पौधरोपण
- शहरी क्षेत्र अंतर्गत वृहत पैमाने पर पथ प्रकाश
- मुख्यमंत्री सात निश्चय अंतर्गत पक्की नाली गली
- बड़ी सड़कों व नाले का निर्माण 
- पक्का आवास विहीन परिवारों के लिए सबके लिए आवास योजना के अंतर्गत पक्का आवास योजना का लाभ देने
- शौचालय विहीन परिवारों के लिए शौचालय/मोबाइल शौचालय की व्यवस्था 
- वेंडिंग जोन व ऑटो स्टैंड का निर्माण शामिल है। 

...वित्तीय वर्ष 2018-19 में किस मद में कितनी राशि हुई थी आवंटित : 
वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए तैयार किए गए बजट में साफ सफाई मद में 06 करोड़, डंपिंग जोन को डेवलप करने के लिए 05 करोड़, सभी वार्डों में वार्ड कार्यालय के लिए 05.60 करोड़, अमृत योजनान्तर्गत पार्क निर्माण मद में 4.88 करोड़, मुख्यमंत्री सात निश्चय योजनान्तर्गत हर घर नल का जल मद में 15 करोड़, पक्की गली नाली, सड़क व नाला निर्माण मद में 109 करोड़, संयंत्र एवं मशीनरी मद में 12 करोड़, वाहन क्रय के लिए 10 करोड़, सड़क पर प्रकाश के लिए 15.55 करोड़, आवास योजना मद में 107.72 करोड़, स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत शौचालय निर्माण के लिए 26.52 करोड़, राजीव आवास योजना मद में 31.14 करोड़, गंदी बस्ती आधारभूत संरचना विकास मद में 10.63 करोड़, निगम स्थापना व सेवांत लाभ मद में 19.34 करोड़ रूपए आवंटित किए गए हैं।

......वित्तीय वर्ष 2019-20 में किस मद में कितनी राशि हुई आवंटित : 
वित्तीय वर्ष 2019-20 में बायो कम्पोस्टिंग, खेल मैदान व पुस्तकालय के लिए अलग से राशि आवंटित की गई है। इसके अलावे सफाई व्यवस्था मद में 10 करोड़, डंपिंग ग्राउंड निर्माण के लिए 6 करोड़, वार्ड कार्यालय/रैन बसेरा के लिए 6.16 करोड़, अमृत योजनान्तर्गत पार्क निर्माण/जलापूर्ति मद में 40.83 करोड़, मुख्यमंत्री सात निश्चय अंतर्गत हर घर नल जल मद में 49.07 करोड़, पक्की गली नाली/सड़क एवं नाला निर्माण मद में 114 करोड़, संयंत्रों एवं मशीनरी के लिए 15 करोड़, वाहन क्रय के लिए 15 करोड़ एवं सड़कों पर प्रकाश के लिए 10 लाख रुपए का प्रावधान है। इसके अलावा प्रधानमंत्री आवास (सबके लिए आवास) योजना के लिए 107.44 करोड़, स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत व्यक्तिगत शौचालय/सार्वजनिक/डिलक्स/पब्लिक शौचालय निर्माण के लिए 13.53 करोड़, राजीव आवास योजना के लिए 29.14 करोड़, गंदी बस्ती आधारभूत संरचना मद में 14.12 करोड़ रुपए आवंटित किए गए। नगर आयुक्त ने कहा कि वार्ड सभा से पारित योजनाओं को प्राथमिकता दी गई है। कहा कि नगर निगम स्थापना मद में बढ़ रहे खर्च एवं सेवानिवृत्त होने वाले कर्मियों को देय सेवानिवृत्ति लाभ की राशि के रूप में 24.32 करोड़ रुपए व्यय होने की संभावना है। इसके लिए भी अलग से प्रावधान किया गया है।

...31 करोड़ की लागत से हाे रहे विकास कार्य : 
यह मेरे कार्यकाल का पहला वित्तीय वर्ष है। शहर को विकसित बनाने की हर कवायद की जा रही है। एलईडी लाइट, सड़क व नाला निर्माण, आवास व शौचालय निर्माण समेत 31 करोड़ की लागत से कई अन्य विकास कार्य कराए जा रहे हैं। आगामी दिनों पेंडिंग कार्यों को गति दी जाएगी। 
: सविता देवी, मेयर, नगर निगम, पूर्णिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...