पूर्णिया : पीएचसी परिसर में लटक रही हाईमास्ट लाइट से हो सकती है बड़ी दुर्घटना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 1 मई 2019

पूर्णिया : पीएचसी परिसर में लटक रही हाईमास्ट लाइट से हो सकती है बड़ी दुर्घटना

phc-purnia-high-light-denger
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता)  : जिले के डगरुआ प्रखंड मुख्यालय स्थित पीएचसी केंद्र परिसर डगरुआ में पिछले लगभग 10 वर्षों से हाईमास्ट लाइट सिर्फ शोभा की वस्तु बनी है। करीब एक क्विंटल वजनी यह हाईमास्ट लाइट इस कदर लटक रही है जैसे सिर पर मौत मंडरा रहा हो। स्थानीय लोगों का कहना कि यदि जल्द लटक रही हाई मास्ट लाइट को दुरुस्त या फिर हटाया नहीं गया तो किसी भी वक्त बड़ा हादसा हो सकता है। हाईमास्ट लाइट के खंभे के नीचे अक्सर मरीजों व आमजनों की भीड़ लगी रहती है। हाट बाजार करने वाले सैकड़ों लोगों की भीड़ व आवाजाही भी बनी रहती है। इस ओर न ही स्वास्थ्य कर्मियों और न ही अधिकारियों तथा जनप्रतिनिधियों की नजर पड़ रही है। जबकि सभी जानते हैं कि यह हाईमास्ट लाइट काफी दिनों से लटक रही है जो किसी भी वक्त आफत बन सकती है। ग्रामीणों का कहना है कि एक तो इस हाईमास्ट लाइट के लगने के बाद महज चार से पांच महीने तक जली उसके बाद से यह लाइट खराब पड़ी है। ऊपर से पिछले कई दिनों से यह लाइट खंभे पर लटक रही है। जिसे हटाया जाना या दुरूस्त किया जाना बेहद जरूरी है। समाजसेवक सरफाज आलम का कहना है हमें ऐसा लग रहा है कि जबतक कोई बड़ा हादसा न हो जाएगा तब तक इसकी सुधि लेने वाला कोई नहीं है। जबकि प्रतिदिन स्वास्थ्य कर्मियों व प्रशासनिक पदाधिकारियों की नजर इस लाइट पर पड़ती है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...