पूर्णिया : पांच दिवसीय कार्यक्रम में माहवारी स्वच्छता प्रबंधन पर की गई चर्चा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 29 मई 2019

पूर्णिया : पांच दिवसीय कार्यक्रम में माहवारी स्वच्छता प्रबंधन पर की गई चर्चा

पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता)  स्थानीय बीआरसी पूर्णिया पूर्व के प्रांगण में यूनिसेफ द्वारा आयोजित एमएचएम यानी माहवारी स्वच्छता प्रबंधन का प्रशिक्षण दिया गया। जिला स्तरीय पांच दिवसीय कार्यक्रम 14 मई से 28 मई तक अलग अलग सत्र में चला। जिसमें अलग अलग विद्यालयों से कई बैच में शिक्षिकाओं को बांट कर प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षक के रूप में चार साधनसेवियों अर्पिता चौधरी, श्वेताम्बरा सिंह, सीमा कुमारी एवं संगीता पाठक द्वारा इस प्रशिक्षण कार्यक्रम एवं कार्यशाला का संचालन किया गया। यूनिसेफ द्वारा यह प्रशिक्षण  विशेष रूप से शिक्षिकाओं को दिए जाने के पीछे यह उद्देश्य निहित है कि वो अपने स्कूलों में जाकर किशोरियों को माहवारी स्वच्छता से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें बता सकें एवं उनमें स्वच्छता के प्रति जागरूकता ला सकें। प्रशिक्षण के दौरान  किशोरियों और महिलाओं में होनेवाली माहवारी के विषय में विस्तृत चर्चा की गई एवं उसे वैज्ञानिक दृष्टिकोण से विस्तार से समझाया गया। जिन विशेष बिंदुओं पर बल दिया गया वो थे किशोरियों में होने वाले मानसिक एवं शारीरिक बदलाव, स्त्री प्रजनन तंत्र, माहवारी के आने का कारण और महत्व, माहवारी की तैयारी, माहवारी चक्र, माहवारी का प्रबंधन, माहवारी के दौरान स्वच्छता, माहवारी के समय पोषण, माहवारी और पुरुष, माहवारी से संबंधित समस्याओं पर डाॅक्टरी सलाह। चारों साधनसेवियों द्वारा इस जिला स्तरीय कार्यक्रम को सफल और प्रभावी बनाने के लिए कई उपागमों का इस्तेमाल किया गया। प्रशिक्षुओं को रोचक, मनोरंजक एवं ज्ञानवर्धक शैली में महत्वपूर्ण बातें बताई गईं। सभी सत्र के अंत में प्रायोगिक कार्य भी कराए गए। इस कार्यक्रम के दौरान 28 मई को माहवारी दिवस के रूप में मनाया गया। इस अवसर पर पूर्णिया जिला के यूनिसेफ समन्वयक डॉ प्रमेंद्र स्वयं उपस्थित रहे। उन्होंने साधनसेवी सीमा कुमारी एवं संगीता पाठक तथा सभी प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि महिलाएं जो कि आधी आबादी हैं वो स्वच्छता और अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होंगी तभी उनके जीवन स्तर में परिवर्तन आएगा। डॉ प्रमेंद्र ने मॉक सत्र को स्वयं देखा और उसकी प्रशंसा करते हुए प्रशिक्षण कार्यक्रम के सफल आयोजन पर सबको बधाई दी। कार्यक्रम के कुशल संचालन में जिले के समग्र शिक्षा अभियान के कुमार दीपक एवं बीआरसी, पूर्णिया के सत्येंद्र अवस्थी का सहयोग भी काफी सराहनीय रहा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...