राहुल गाँधी को मनाने की कोशिश जारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 31 मई 2019

राहुल गाँधी को मनाने की कोशिश जारी

try-to-persued-rahul-gandhi
नयी दिल्ली, 30 मई, लोकसभा चुनाव में करारी हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे पर अड़े कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को मनाने की कोशिशें पार्टी की ओर से बृहस्पतिवार को भी जारी रहीं। महाराष्ट्र और पंजाब इकाइयों ने प्रस्ताव पारित कर उनसे आग्रह किया कि वह अध्यक्ष पद पर बने रहें। दूसरी तरफ, राहुल गांधी ने खुद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के मुखिया शरद पवार से मुलाकात की। माना जा रहा है कि इस मुलाकात के दौरान पवार ने गांधी से अध्यक्ष पद पर बने रहने की अपील की है।  इसके साथ ही कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने भी राहुल गांधी से मुलाकात की। कुमारस्वामी ने बुधवार को कहा था कि वह कांग्रेस अध्यक्ष से पद पर बने रहने का आग्रह करेंगे।  उधर, गांधी के इस्तीफे की जिद पर अड़े होने की वजह से कांग्रेस में पैदा हुए राजनीतिक संकट के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के बीच बैठकों का सिलसिला बृहस्पतिवार को भी जारी रहा। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं मल्लिकार्जुन खड़गे और दिग्विजय सिंह ने पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल से मुलाकात की। महाराष्ट्र कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को एक प्रस्ताव पारित कर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से अपने इस्तीफे की पेशकश वापस लेने की अपील करते हुए पार्टी की वैचारिक लड़ाई का नेतृत्व करते रहने की अपील की।  यह प्रस्ताव महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष अशोक चव्हाण और पार्टी के मुंबई इकाई के प्रमुख मिलिंद देवड़ा ने पेश किया। दोनों को ही हाल में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में क्रमश: नांदेड़ और मुंबई दक्षिण से हार का सामना करना पड़ा था। पंजाब कांग्रेस ने भी गांधी के नेतृत्व में सर्वसम्मति से भरोसा दिखाया और इस मुश्किल घड़ी में कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर बने रहने की अपील की। गौरतलब है कि 25 मई को कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी। हालांकि सीडब्ल्यूसी ने उनकी पेशकश को खारिज करते हुए उन्हें संगठन में सभी स्तर पर आमूलचूल बदलाव के लिए अधिकृत किया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...