एक दुलारा देश हमारा प्यारा हिंदुस्तान गीत के साथ शिविर का समापन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 30 जून 2019

एक दुलारा देश हमारा प्यारा हिंदुस्तान गीत के साथ शिविर का समापन

अहिंसा के रास्ते चलकर युवा अपने अधिकारों को लेने में सफल होगें : एस. एन. सुब्बाराव
ekta-parishad-shivir-ends
जौरा। महात्मा गांधी सेवा आश्रम जौरा में आयोजित ग्रामीण युवाओं के नेतृत्व विकास विकास शिविर का समापन महान गांधीवादी एस. एन. सुब्बाराव जी के संदेश के साथ हुआ। यह शिविर भूमि एवं जल के अधिकारों को हासिल करने के मुद्दों पर महिलाओं एवं आदिवासी समुदाय के युवाओं का नेतृत्व विकास करने के संचालित था। स्नेह से     सुब्बाराव को भाई जी कहा जाता है। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा देश के बड़े बड़े महानगरों में 6 मंजिल से 20 मंजिलों के बीच में स्विमिंगं पुल बने हुये हैं जिसमें लोग दो दो बार स्नान कर रहे हैं, दूसरी तरफ ग्रामीण एवं आदिवासी क्षेत्रों में पीने के पानी के लिये लोग अपने निवास से 2 किलोमीटर दूरी पर झरना, नदी या पोखर का पानी पीने को मजबूर हैं। कहीं कहीं के गरीब लोगों को पानी खरीद कर पीने के लिये मजबूर होना पड़ता हैं जबकि देश का संविधान इसका अधिकार नहीं देता है और तो और वर्तमान स्थिति बेहद ही निराशा जनक है। भाई जी ने आगे कहा संघठन में शक्ति है गांधी जी के अहिंसात्मक रास्ते पर चलकर हम अपने हक अधिकार लेने में सफल होगें। 

समापन से पूर्व इस 3 दिवसीय शिविर का परिचय देते हुये एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री रनसिंह परमार जी ने बताया कि मुरैना जिले के ग्रामीण क्षैत्र के युवाओं को गाँव में संगठन निर्माण व रचनात्मक कार्यों से जोड़ने के साथ साथ चम्बल क्षेत्र के आदिवासियों के भूमि अधिकार, जल के अधिकार के साथ साथ नेतृत्व कोशल को बढ़ाने के लिये प्रशिक्षण दिया जा रहा है। शिविर को एकता परिषद के उत्तर प्रदेश के संयोजक राकेश दीक्षित जी एवं चम्बल मुरैना क्षेत्र के  उदयभान सिंह परिहार द्वारा प्रशिक्षण दिया गया है। शिविर में युवा एवं मुखियाओं की समान भागीदारी रही।  सिकरवारी करका क्षेत्र के सरसेनी, बर्रेड़, कोलूडांड़ा , लोहरी का पुरा, मथुरापुर, बागचीनी, अधन्नपुर  गाँव के लोगों ने भी आदिवासियों के हक व अधिकार के लिये समर्थन दिया है। शिविर में में पहाड़गढ़ क्षेत्र      के मरा, बघेबर, देवगढ, बहराई, मानपुर , जरेरु, खड़ैयापुरा, देवकच्छ, चेटीखेड़ा ,गोहलारी, बोलाज, कैमारा कला, पठानपुरा, शाहपुर कला आदि से 109 युवाओं द्वारा भागीदारी की गई। कार्यक्रम में पंजाब से डा. गुरुदेव सिंह, उत्तर प्रदेश से डा. आर. सी गुप्ता,श्री अजय पांडे,इन्दोर से श्री महेन्द्र कुमार,केरला से श्री सुकमारन, राजस्थान से कु. निधि प्रजापति,कर्नाटक से सुश्री प्यारीजान , मणीपुर से श्री गजराज भाई, दिल्ली से संजयराम, रामकान्त एवं जयपुर से श्री हनुमान भाई उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन श्री उदयभान सिंह द्वारा किया गया । इस अवसर पर महात्मा गांधी आश्रम जौरा के प्रबंधक श्री प्रफुल्ल भाई , दिलीप जैन एवं रबीन्द्र सक्सैना आदि उपस्थित रहें।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...