प्रधानमंत्री ने लंबा भाषण दिया, लेकिन बुनियादी सवालों के जवाब नहीं दिए - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 27 जून 2019

प्रधानमंत्री ने लंबा भाषण दिया, लेकिन बुनियादी सवालों के जवाब नहीं दिए

pm-not-answering-on-basic-issue-congress
नयी दिल्ली, 26 जून , राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वक्तव्य के बाद कांग्रेस ने बुधवार को आरोप लगाया कि मोदी ने लंबा भाषण दिया और व्यंग्य भी किया, लेकिन उन बुनियादी सवालों के जवाब नहीं दिए जो विपक्ष ने उठाए थे। मोदी ने राष्ट्रपति अभिभाषण के राज्यसभा में धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा में विपक्ष पर उच्च सदन में विधेयकों को पारित करने में व्यवधान डालने का आरोप लगाया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने यह दावा किया कि प्रधानमंत्री का यह आरोप पूरी तरह गलत है कि राज्यसभा ने पिछले पांच वर्षों में कामकाज में रुकावट पैदा की। उन्होंने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा कि सरकार को 2004 से 2014 के बीच की संसद की कार्यवाही का ब्यौरा जारी करना चाहिए ताकि यह पता हो सके कि कार्यवाही में किस तरह से व्यवधान डाले गए थे। शर्मा ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री ने राज्यसभा में लंबा भाषण दिया और व्यंग्य भी किया, लेकिन उन बुनियादी सवालों के जवाब नहीं दिए जो हमने उठाए थे। किसानों के मुद्दों पर उन्होंने सदन को गुमराह किया। नेता प्रतिपक्ष की बात को उन्होंने गलत ढंग से पेश किया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री चाहते हैं कि लोकसभा जिस विषय पर जैसे मुहर लगा दे और उसी तरह राज्यसभा भी पारित कर दे तो यह संभव नहीं है।’’ दरअसल, लोकसभा चुनाव में मिली करारी शिकस्त के लिए ईवीएम पर ‘‘ठीकरा’’ फोड़ने को लेकर कांग्रेस पर बरसते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने बुधवार को विपक्ष को ‘‘नकारात्मकता’’ त्यागने और देश की विकास यात्रा में सकारात्मक योगदान देने की नसीहत दी। उन्होंने हाल में संपन्न लोकसभा चुनाव का उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘ऐसे अवसर बहुत कम आते हैं जब चुनाव स्वयं जनता लड़ती है। 2019 का चुनाव दलों से परे देश की जनता लड़ रही थी । ’’

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...