पूर्णिया : समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स का आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 1 जून 2019

पूर्णिया : समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स का आयोजन

 30 प्रतिभागियों को मिलेगी कृषि क्षेत्र की जानकारी 
seminar-purnia
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता) भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय में संयुक्त सचिव भारत सरकार, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, कृषि सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग के निर्देश पर मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विज्ञान विभाग द्वारा कृषि उपादान विक्रेताओं के लिए समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय दूसरे सर्टिफिकेट कोर्स का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के सह अधिष्ठाता सह प्राचार्य डाॅ पारसनाथ ने की। इस अवसर पर मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ जनार्दन प्रसाद द्वारा फूलों का गुलदस्ता एवं अंगवस्त्र से मुख्य अतिथि डाॅ पारस नाथ एवं सभी उपस्थित अतिथियों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की शुरूआत प्राचार्य एवं सभी अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलित कर की गई। कार्यक्रम में प्राचार्य ने महाविद्यालय में पधारे अतिथियों का स्वागत करते हुए विगत आठ वर्षों में कृषि महाविद्यालय की उपलब्धियों की चर्चा की। उन्होंने बताया कि कृषि उपादान विक्रेताओं एवं कृषकों का अन्योनाश्रय संबंध होता है। इसलिए कृषि उपादान विक्रेताओं के द्वारा ही अधिकतर किसानों को खाद बीज एवं दवाओं के बारे में प्राथमिक सलाह मिलती है और उसी के अनुरुप किसान अपने खेतों में खाद बीज एवं दवाओं का उपयोग करते हैं। इस विषय की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए पहली बार कृषि उपादान विक्रेताओं के लिए समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स का आयोजन किया गया है। जिसमें कुल 30 प्रतिभागियों का पंजीकरण हुआ है। 

...इन महाविद्यालयों में होंगे आयोजन : 
उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण का आयोजन बिहार कृषि विश्वविद्यालय सबौर अंतर्गत अन्य चार कृषि महाविद्यालयों एवं उद्यान महाविद्यालय में किया जाना है। भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय में पूर्णिया, मधेपुरा, अररिया, कटिहार एवं किशनगंज, बिहार कृषि विवि, सबौर में भागलपुर, बांका, मंुगेर, लखीसराय, शेखपुरा एवं जमुई, मंडन भारती कृषि महाविद्यालय, अगवानपुर, सहरसा में सहरसा, सुपौल, खगड़िया एवं अरवल, नालंदा उद्यान महाविद्यालय, नूरसराय, नालंदा में नलंदा, पटना, नवादा, जहानाबाद एवं औरंगाबाद, वीर कुंवर सिंह कृषि महाविद्यालय, डुमरांव में बक्सर, भोजपुर, रोहतास, कैमुर एवं गया के प्रक्षिणार्थियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। मृदा स्वास्थ्य एवं वातावरण को ध्यान में रखते हुए संतुलित रासायनिक उर्वरक, कीटनाशक, फफुंदनाशक आदि कृषि उपादानों के उपयोग एवं ससमय गुणवतायुक्त उत्पादों की उपलब्धता के लिए एक कार्यशाला का आयोजन किया जाना चाहिए। जिसमें किसानों के साथ साथ रासायनिक उर्वरक, कीटनाशक, फफुंदनाशक आदि कृषि उपादनों का उत्पादन करने वाली कंपनियां, कृषि विभाग बिहार सरकार के संबंधित पदाधिकारी, कृषि महाविद्यालय के वैज्ञानिक एवं पदाधिकारी की सक्रिय सहभागिता से बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे। आवेदन संबंधित जिला कृषि पदाधिकारी के माध्यम से संबंधित कृषि महाविद्यालय के सह अधिष्ठाता एवं प्राचार्य को भेजे जाएंगे। 

...इन प्रतिभागियों ने कराया पंजीकरण : 
कृषि उपादान विक्रेताओं के लिए समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स में प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए पूर्णिया, अररिया एवं मधेपुरा के कुल 30 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। जिसमें भवेश प्रसाद सिंह, मो एजाजुल हसन, शिवम कुमार सिंह, आलोक कुमार, प्रिंस कुमार पंकज, सत्यम कुमार, मिथिलेश कुमार, पिंटु कुमार, ख्वाजा एहरार अहमद, सोनू कुमार, सौरभ कुमार सिंह, नीरज कुमार, श्याम कुमार साहा, रमेश कुमार रमण, ओम प्रकाश कुमार, प्रमोद कुमार, गोल्डेन कुमार, संदीप कुमार, मो जिशान इनामी, संजय कुमार पांडेय, जितेंद्र कुमार गुप्ता, विकास कुमार झा एवं धीरेंद्र कुमार ने अपना पंजीकरण कराया है। इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के वैज्ञानिक डाॅ जेएन श्रीवास्तव, डाॅ जनार्दन प्रसाद, डाॅ पंकज कुमार यादव, डाॅ अनिल कुमार, डाॅ तपन गोराई, डाॅ रुबी साहा, डाॅ रवि केसरी, एसपी सिन्हा, मणिभूषण एवं कर्मचारियों ने अपना सहयोग प्रदान किया। कार्यक्रम का संचालन मखाना वैज्ञानिक डाॅ अनिल कुमार एवं धन्यवाद वैज्ञानिक डाॅ रूबी साहा द्वारा किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...