पूर्णिया : जनसंख्या दिवस के अवसर पर सेमिनार का आयोजन, देश की बढ़ती हुई जनसंख्या पर जताई चिंता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 12 जुलाई 2019

पूर्णिया : जनसंख्या दिवस के अवसर पर सेमिनार का आयोजन, देश की बढ़ती हुई जनसंख्या पर जताई चिंता

seminar-purnia-population-day
पूर्णिया (आर्यावर्त संवाददाता) : विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर स्थानीय सहयोग नर्सिंग होम में एक सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें बढ़ती हुई जनसंख्या पर चिंता व्यक्त की गई। इस मौके पर ऑफ्स गायनी सोसाइटी के सचिव डॉ अनुराधा सिन्हा ने बताया कि आज पूरी दुनिया विश्व जनसंख्या दिवस मना रही है। आज से 30 साल पहले यानी 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की गवर्निंग काउंसिल द्वारा इसकी शुरूआत की गई थी। उन्होंने कहा कि 11 जुलाई 1987 को विश्व की जनसंख्या 500 करोड़ हो गई थी। वैश्विक जनसंख्या मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के प्रयासों के तहत इसे शुरू किया गया। एक आकड़े के अनुसार विश्व में लगभग 800 महिलाओं की हर दिन गर्भावस्था के कारण मृत्यु हो जाती है। जिसमें 20 % भारत में ही है। जिसमें परिवार नियोजन, लिंग समानता, गरीबी, मातृ स्वास्थ्य और मानव अधिकारों का महत्व शामिल हैं।

...जनसंख्या पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी जताई है चिंता :
संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर आबादी बढ़ने की रफ्तार इतनी ही बनी रही तो जल्द ही वैश्विक स्तर पर इसका आंकड़ा 10 अरब के आसपास पहुंच जाएगा। डॉ अनुराधा ने कहा कि वर्तमान में दुनिया की कुल आबादी 7.7 अरब को पार कर गई है। जिसमें दुनिया की कुल आबादी का आधे से भी बड़ा हिस्सा केवल एशिया महाद्वीप में रहता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, पहली बार ऐसा हुआ है जब 65 साल से अधिक उम्र के लोगों की आबादी पांच साल के बच्चों की आबादी से ज्यादा हो गई है। डॉ अनुराधा ने बताया कि साल 1900 के पहले तक दुनिया की सबसे बड़ी समस्या शिशु मृत्यु दर थी। जिस कारण जन्मे बच्चों में से एक चौथाई ही जिंदा बच पाते थे। इसके अलावा उस समय लोगों की औसत आयु भी 30 साल ही थी। लेकिन चिकित्सा विज्ञान के प्रगति ने इन आंकड़ों को बदलकर रख दिया। दूसरी ओर आरोग्य भारती ने भी मरीजों को बढ़ते हुई आबादी के लिए सचेत किया है। इस अवसर पर आरोग्य भारती के प्रांतीय उपाध्यक्ष डाॅ संजीव कुमार ने कहा कि भारतीय जनसंख्या विश्व जनसंख्या का 17.5% है। 2020 तक भारतीय विश्व का सबसे युवा देश बन जाएगा। जिसमें युवा वर्ग की जनसंख्या कुल जनसंख्या के 64 % हो जाएगी। जिसके लिए रोजगार पाना भी एक लक्ष्य होगा। 

...बढ़ती आबादी देश के लिए चिंताजनक : 
सर्जन डॉ संजीव कुमार ने बताया कि वर्ष 1951 में भारत की आबादी 36 करोड़ थी जो अब बढ़कर 133 करोड़ हो गई है। कई रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि जनसंख्या के मामले में हम साल 2027 तक चीन को पीछे छोड़कर नंबर एक की कुर्सी पर काबिज हो जाएंगे। हालांकि इसका हमारी अर्थव्यवस्था ही नहीं कई क्षेत्रों पर प्रतिकुल प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने कहा कि शहरों में पलायन के साथ ही गरीबी, अशिक्षा, बेरोजगारी, निवास, खेती के लिए जमीन इत्यादि समस्याएं बहुत तेजी से आगे बढ़ेंगी। अगर जनसंख्या पर लगाम नहीं लगती है तो सरकार का पांच ट्रिलियन इकोनाॅमी का सपना भी दूर की कौड़ी हो जाएगी। आरोग्य भारती के प्रांतीय उपाध्यक्ष डाॅ संजीव कुमार संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के अनुसार पहली बार ऐसा हुआ है जब 65 साल से अधिक उम्र के लोगों की आबादी पांच साल के बच्चों की आबादी से ज्यादा हो गई है। आशंका जताई जा रही है कि साल 2050 तक दुनिया में बुजुर्गों की आबादी बच्चों की आबादी की दोगुनी हो जाएगी। डॉ संजीव कुमार ने कहा कि हिस्ट्री डॉटाबेस ऑफ द ग्लोबल एनवॉयरमेंट रिपोर्ट के अनुसार 12 हजार साल में दुनिया में जन्मे लोगों में से चीन में 19.9 फीसदी तो भारत में 29.8 फीसदी लोग पैदा हुए हैं। अगर इन दोनों देशों के आंकड़ों को जोड़ दिया जाए तो दुनिया की कुल आबादी का आधा हिस्सा इन दोनों देशों में ही जन्मा है। उन्होंने कहा कि आपको यह जानकर भी आश्चर्य होगा कि साल 1800 में दुनिया की आबादी ने 100 करोड़ के आंकड़े को छुआ था जबकि 1989 में यह बढ़कर 500 करोड़ तक पहुंच गया। आज यह आंकड़ा 770 करोड़ पहुंच गया है। आरोग्य भारती के डाॅ संजीव कुमार बढ़ती आबादी के कारण न केवल आवास और रोजगार की कमी होने वाली है बल्कि आने वाले दिनों में लोगों को खाने के लिए अनाज और पीने के लिए पानी की कमी होने वाली है। एक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में 400 करोड़ लोगों को स्वच्छ पानी नहीं मिल रहा है। जिसमें 25 फीसदी भारतीय भी शामिल है। उन्होंने बताया कि एक रिपोर्ट में भारत को चेतावनी दी गई है कि यदि भूजल का दोहन नहीं रूका, तो देश को बड़े जल संकट का सामना करना पड़ सकता है। 75 फीसदी घरों में पीने के साफ पानी की पहुंच ही नहीं है। केंद्रीय भूगर्भ जल बोर्ड द्वारा तय मात्रा की तुलना में भूमिगत पानी का 70 फीसदी ज्यादा उपयोग हो रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...