कश्मीर में शांतिपूर्ण रही ईद उल अज़हा की नमाज : पुलिस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 12 अगस्त 2019

कश्मीर में शांतिपूर्ण रही ईद उल अज़हा की नमाज : पुलिस

namaz-of-eid-ul-zaha-went-peacefully-in-kashmir
श्रीनगर, 12 अगस्त, कश्मीर घाटी में सोमवार को सुबह सभी मस्जिदों में ईद उल अज़हा की नमाज शांतिपूर्ण ढंग से अदा की गई, लेकिन कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध लगे होने के कारण सड़कों से त्योहार की रौनक गायब रही। पुलिस ने यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने बताया कि लोगों के बड़ी संख्या में एक स्थान पर एकत्रित होने पर रोक है। कई बड़ी मस्जिदों में नमाज की इजाजत ना दिए जाने की भी खबर है अधिकारियों ने रविवार को कहा था कि लोगों को उनके घरों के नजदीक वाली मस्जिदों में जाने और नमाज पढ़ने की छूट होगी। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ट्वीट किया, ‘‘ घाटी के अनेक हिस्सों में ईद की नमाज शांतिपूर्ण तरीके से अदा की गई। अभी तक किसी अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है।’’ खबरों के अनुसार, अधिकारियों ने विभिन्न मस्जिदों में मिठाइयां भी बांटी। ईद उल अज़हा की पूर्व संध्या में घाटी में प्रतिबंधों में थोड़ी छूट दी गई थी, ताकि लोग त्योहार के लिए खरीदारी कर सकें। बहरहाल, कश्मीर के सबसे बड़े त्यौहारों में से एक ईद उल अज़हा की रौनक इस बार नजर नहीं आ रही है। 

अधिकारी ने बताया कि जिला प्रशासन लगातार जम्मू-कश्मीर में स्थिति का जायजा ले रहा है। साथ ही यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि प्रतिबंधों से लोगों को कम से कम पेरशानी हो। अन्य एक अधिकारी ने बताया कि सरकार ने कश्मीर घाटी में पर्याप्त भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता भी सुनिश्चित की है और कुछ सामग्री को घरों तक पहुंचाए जाने की व्यवस्था करने के लिए भी कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर में शांति कायम रखना और किसी भी अप्रिय घटना को रोकना सरकार की प्राथमिकता है। गौरलतब है कि जम्मू-कश्मीर को विशेषदर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को केन्द्र सरकार द्वारा समाप्त किए जाने के बाद से घाटी में प्रतिबंध लगे हुए हैं, जिससे जनजीवन प्रभावित है।


कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...