विश्व के पहले मीडिया 'घुमन्तू पुस्तकालय को वरिष्ठ पत्रकार के.जी. सुरेश ने लाँच किया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 21 अगस्त 2019

विश्व के पहले मीडिया 'घुमन्तू पुस्तकालय को वरिष्ठ पत्रकार के.जी. सुरेश ने लाँच किया

on-wheel-library-inaugrate
नई दिल्ली(अशोक कुमार निर्भय)। किताबें पढने के शौक़ीन विद्यार्थियों के लिए एक खुशखबरी है क्योंकि वरिष्ठ पत्रकार एवं आई.आई.एम.सी. के पूर्व डायरेक्टर जनरल के.जी. सुरेश ने विश्व के पहले मीडिया 'घुमन्तू पुस्तकालय को पत्रकार-लेखक एस.एस.डोगरा एवं एपीजे सत्या विश्वविद्यालय के एडवरटाइजिंग-कम्युनिकेशन विभाग के निम्न विद्यार्थियों अपर्णा रानी, अन्वेषा दत्ता, राहुल ग्रोवर, अनुमिता चक्रबर्ती, वर्षा बसाक एवं निर्वाण जसरोटिया संग लाँच किया।  इसी मौके पर के. जी. सुरेश ने अपने संबोधन में कहा कि “आजकल युवाओं में किताब पढने की आदत कम होने लगी है. जबकि युवाओं के लिए यह अति आवश्यक है कि वे मीडिया के बारें में जानकारियाँ संजोएँ क्योंकि मीडिया लोकतंत्र का चौथा अहम् स्तम्भ है।  इसीलिए डोगरा की घुमन्तू पुस्तकालय मुहीम एक सराहनीय प्रयास जिसके माध्यम से मीडिया के बारे में चेतना जागृत करने में एक ठोस कदम ताकि युवाओं में पढने की आदत अपनाने में सहायक साबित होगा।  इस मुहीम में अपार सफलता प्राप्त करने के लिए मैं डोगरा जी को शुभकामना देता हूँ” जबकि सिद्धार्थ नगर,उत्तर प्रदेश के युवा लेखक व साहित्यकार डा. चन्देश्वर यादव का मानना है कि “पुस्तक ज्ञान के संचार का मुख्य आधार है। पुस्तकालय ज्ञान सामग्री के संचय का विशाल भण्डार। वर्तमान सूचना क्रांति के युग में पुस्तकालय की जिस नवीन संकल्पना ''घुमन्तू पुस्तकालय'' का ईजाद वरिष्ठ पत्रकार, मीडिया विशेषज्ञ व लेखक एस.एस. डोगरा ने किया है ज्ञान के प्रसार को निश्चय ही पंख लगेंगे। कहावत 'ज्ञान से ही ज्ञान का प्रसार होता है' को लेखक डोगरा की परिकल्पना नया मुकाम देगी। मैं आभारी हूं मीडिया विशेषज्ञ श्री डोगरा साहब का जिन्होंने अपने नायाब खोज का हिस्सा मुझे भी बनाते हुए मेरी पुस्तक 'पटकथा सौंदर्य और सृजन' को घुमंतू पुस्तकालय में शामिल किया। घुमंतू पुस्तकालय नवोदित लेखकों, दूरदराज के पुस्तक प्रेमियों के लिए अमृत साबित होगा। श्री डोगरा इस अति नवीन खोज के लिए बधाई के पात्र हैं।“ वास्तव में एस.एस. डोगरा ने ''घुमन्तू पुस्तकालय'' के माध्यम से मीडिया एजुकेशन पर लिखी किताबों को लोकप्रिय बनाने एवं सम्मानपूर्वक बेचने की दिशा में एक अनोखी पहल की है। गौरतलब है कि डोगरा जी स्वयं मीडिया एजुकेशन पर दो किताबें  लिख चुके हैं उनकी पहली किताब अंग्रेजी में है जिसका नाम है “मीडिया कैन डू वंडर्स इन स्टूडेंट्स लाइफ” जिसे मेपल प्रेस ने सन 2017 में प्रकाशित किया।  जबकि उनकी दूसरी किताब “मीडिया एक कदम आगे” को इसी वर्ष रूचि पब्लिकेशन हाउस ने प्रकाशित किया. इसके अलावा डोगरा जी पुरे भारतवर्ष के विभिन्न स्कूलों,कालेजों, विश्वविद्यालयों में मीडिया एजुकेशन पर आधारित  डेढ़ सौ से अधिक मीडिया कार्यशालाएं आयोजित कर चुके है। डोगरा जी द्वारका परिचय मीडिया ग्रुप के प्रबंध संपादक तथा नेपाल से प्रकाशित पत्रिका हिमालिनी के दिल्ली, भारत के ब्यूरो प्रमुख भी है।  साथ ही डोगरा जी पिछले दो दशकों से भी अधिक समय से दिल्ली पत्रकार संघ में बतौर सदस्य के रूप में जुड़े हुए हैं  जबकि हाल ही में वे दी फॉरेन कोर्रेस्पोंडेन्ट्स क्लब ऑफ़ साउथ एशिया के सदस्य भी बन गए हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...