जमशेदपुर : विधानसभा चुनाव को लेकर आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 16 सितंबर 2019

जमशेदपुर : विधानसभा चुनाव को लेकर आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू

blame-game-starts-in-jharkhand-for-election
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) :-झारखण्ड विधानसभा चुनाव को लेकर सभी दल के वरीय नेता आरोप प्रत्यारोप मे लगे हुए हैं ,सभी नेता एक दूसरे का पोल खोलने का काम कर रहे हैं । इस अभियान में झारखंड के  तीन दिग्गज नेता बाबु लाल मरांडी , हेमंत सोरेन और रघुवर दास  लगे हुए हैं । बाबू लाल मरांडी ने कहा कि राज्य में उधोग धंधे बंद हो रहे हैं ।आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र की पांच सौ कल कारखाने  बंद  पडे हैं । लेकिन सरकार हाथी उडाने मे लगी है । मोमेंट्म झारखण्ड के नाम पर साढे नौ सौ करोड़ रुपये खर्च किये गये । पांच साल में कितनी पूंजी निवेश हुई ,कितने उधोग लगे और कितने उधोग बंद हुए । सरकार से इस मुद्दे पर जानकारी मांगी लेकिन सरकार ने जबाब देना उचित नहीं समझा । उसी प्रकार रघुवर दास की सरकार ने प्रतिपक्ष के नेता हेमंत सोरेन पर 500 करोड़ रुपए की संपत्ति अर्जित करने का आरोप लगाया है । हेमंत सोरेन ने इस मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री रघुवर दास को वकील के माध्यम से कानुनी नोटिस भेजा है ।इसमें कहा गया है कि मुख्यमंत्री झूठे आरोप को वापस ले , झारखण्ड की जनता को गुमराह करने और मेरी छवि धुमिल करने के प्रयास के लिए सार्वजनिक रूप से माफी  मांगे ।अगर सात दिनों के अंदर वे ऐसा नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी । श्री सोरेन ने कहा कि सरकार ने दुर्भावना से प्रेरित होकर मेरे खिलाफ एस आइ टी का गठन किया है। श्रीसोरेन ने कहा कि एस आइ टी की शिकायत मुख्यमंत्री कार्यालय से भेजी गयी है जो सरकार के पास है ,सरकार रिपोर्ट को सार्वजनिक करें । दूसरी तरफ भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने प्रतिपक्ष नेता हेमंत सोरेन द्वारा मुख्यमंत्री रघुवर दास को कानूनी नोटिस भेजे जाने पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है । उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री को नोटिस भेजना हास्यास्पद है, हेमंत सोरेन को स्पष्ट करना चाहिए कि उनके द्वारा अर्जित संपत्ति 500करोड़ की नहीं है ,तो उससे ज्यादा या कम कितनी है हेमंत अपनी संपत्ति का बाजार मूल्य बतावें ।झामुमो नेता प्रतिपक्ष श्रीसोरेन सार्वजनिक जीवन में है  ।ऐसे में उनको जनता के सामने स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए । श्रीशाहदेव ने कहा कि इन्होंने अधिकांश संपत्ति सीएनटी एसपीटी कानून की धज्जियां उड़ा कर खरीदी गई है ।हेमंत सोरेन के द्वारा लगातार भाजपा सरकार पर भ्रष्टाचार के निराधार आरोप लगाते रहे हैं । 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...