बिहार : दो दिवसीय गैर आवासीय गांधी कथा वाचन प्रशिक्षण का उद्घाटन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 21 सितंबर 2019

बिहार : दो दिवसीय गैर आवासीय गांधी कथा वाचन प्रशिक्षण का उद्घाटन

gandhi-katha-vachan-bihar
चनपटिया, 20 सितम्बर।  संकुल संसाधन केंद्र चनपटिया बालक में दो दिवसीय गैर आवासीय गांधी कथा वाचन प्रशिक्षण का उद्घाटन जिला संभाग प्रभारी दिलीप कुमार, संकुल समन्वयक आलोक कुमार और राज्य प्रशिक्षिका मेरी एडलीन ने दीप प्रज्वलित करके किया। श्री कुमार ने प्रशिक्षण के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि जिले के लगभग चालीस संकुलों में तीन - चार बैच में प्रशिक्षण का आयोजन किया गया है। जिसमें जिले के सभी विद्यालयों से दो -दो शिक्षक अलग अलग बैच में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे है।  वही प्रशिक्षण देती हुई राज्य प्रशिक्षिका मेरी एडलीन ने कहा कि महात्मा गांधी का जीवन और उनकी कर्मयात्रा से पूरी दुनिया को अच्छा बनने की प्रेरणा मिलती है। गांधी के संदेशों को बापू की पाती और एक था मोहन पुस्तक के वाचन अर्थात गांधी कथा वाचन के माध्मय से जन -जन तक पहुँचाना है। मेरी एडलीन ने बताया कि सभी प्राथमिक, माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में चेतना सत्र में प्रतिदिन इन पुस्तकों से एक-एक पाठ का वाचन किया जाएगा। कक्षा तीन से आठ में बापू की पाती और कक्षा नवम से बारहवीं में एक था मोहन पुस्तक का वाचन किया जाएगा। बापू की पाती पुस्तक में स्वर और व्यंजन वर्ण से बने शीर्षक से संबंधित कथा लिखी गई है, जिसमें गाँधीजी के जीवन से जुड़ी छोटी- छोटी कहानियां है। कथा वाचन के द्वारा गान्धी के विचारों से छात्र अवगत हो सकेंगे और उसे अपने जीवन मे इसका उपयोग करेंगे।  संकुल समन्वयक सह प्रशिक्षक आलोक कुमार ने प्रशिक्षुओ को पुस्तक के पाठन, वाचन के तरीकों को बताया। प्रतिभागियों ने समूह कार्य, पुस्तक वाचन, विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से प्रशिक्षण प्राप्त किये। तीसरे बैच के प्रथम दिन के प्रशिक्षण में खैरटीया, सेनुरिया, सिसवनिया संकुल के लगभग चालीस प्रतिभागी शामिल हुए।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...