झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 16 सितंबर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 16 सितंबर 2019

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 16 सितंबर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर बाल संप्रेक्षण गृह में वितरीत की पुस्तके समाज से जुडने एवं मुख्य धारा से जुडने की समझाइश दी

jhabua news
झाबुआ। देश के चहिते एवं सबके प्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर भाजपा के कार्यकर्ताओ के द्वार उनके जन्मदिवस को एक अलग ही तोर पर मनाने का निर्णय लिया। जिसमे रविवार को बाल संपृेक्षण गृह में बच्चो को प्रधानमंत्री नर्रेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर किताबो को वितरण कर उन्हे जीवन मे सच्चे एवं ईमानदार व्यक्तित्व के बनने की समझाइश दी। इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा द्वारा बच्चो को सबंोधित करते हुये कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पुरे भारत देश के लिये अपने जीवन को लक्ष्य बनाकर एक दिशा दी है ठिक उसी तरह हमे भी अपने लक्ष्य को प्राप्त कर अपने जीवन को एक नई दिशा देनी चाहिये। वही बच्चो को यह भी समझाइश दी गई की भविष्य में ऐसा कोई कार्य ना करे जिससे की अपने आप को एवं अपने परिवार को परेशानियो का सामने करना पडे। भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व जिला अध्यक्ष और प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य श्री भावसार ने संबोधित करते हुए कहा कि एक भारत श्रेष्ठ भारत के नवनिर्माण में देश के ऐसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के सपनों को साकार करने के लिए हमें सेवा और संकल्प का व्रत लेकर समाज की सेवा करना चाहिए तभी जाकर एक भारत श्रेष्ठ भारत बन पाएगा। श्री भावसर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत विश्व गुरु बनने की दिशा में त्रिवता से आगे बढ़ रहा है आज संपूर्ण भारत धारा 370 जम्मू एंड कश्मीर में हटा दिए जाने के बाद एकता के स्वर में सुर मिला रहा है भारत का तेजो में नेतृत्व मोदी जी के मार्गदर्शन में विश्व को प्रेरित कर रहा है देश को सुरक्षित समृद्ध और विकसित राष्ट्र बनाने की दिशा में नरेन्द्र मोदी का महत्वपूर्ण योगदान है। श्री मोदी का जीवन देश के गरीबों को मजदूरों को नौजवानों को किसानों को समर्पित है स्वच्छ भारत की कल्पना मोदी जी के नेतृत्व में संभव दिखाई पड़ रही है। भाजपा नगर मण्डल अध्यक्ष बबलू सकलेचा द्वारा बताया गया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जन्मदिवस पर प्रथम दिन निराश्रित बाल आश्रम में बच्चो को जीवन में सजग बनने एवं श्री मोदी के पद्चिन्हो पर चलने की समझाइश देकर फल विरतरण का कार्यक्रम किया। वही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर दूसरे दिन भाजपा कार्यकर्ताओ द्वारा स्थानीय बाल संप्रेक्षण गृह में जाकर बच्चो को किताबे एवं साहित्यीक वितरण किये गये। वही बच्चो को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जीवन पर प्रकाश डाला एवं उनके कार्यो का उल्लेख किया जिसमें उनके द्वारा भारत को किस तरह आगे ले जाया जा रहा है इस ओर कार्यो का उल्लेख कर उनके पद्चिन्ह्ो पर चलने के बारे में बताया। इस अवसर पर आदिवासी नेता एवं स्वच्छता अभियान के प्रभारी कल्याणसिंह डामोर ने भी संबोधित करते हुए बच्चों को देश सेवा का संकल्प लेने का और सभी को शुभकामनाएं प्रेषित की। कार्यक्रम का संचालन भूपेश सिंगोड द्वारा किया गया कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन जुवानसिंह गुडिया द्वारा व्यक्त किया गया। इस अवसर पर भाजपा कार्यकर्ताओ में भाजपा जिला उपाध्यक्ष ओपी राय,  अंकुर पाठक, रोटरी सचिव एवं भाजपा सदस्य मनोज अरोरा, पार्षद पपिश पानेर, नाना राठौर, जुवानसिंह गुडिया,महेश वर्मा , रमिला, सायरा खान, श्रीमती कटारा आदि सैकडो की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।

गरिमामय रूप से संपन्न हुआ साहित्य एवं संस्कृति परिषद् वनांचल का तुलसी अलंकरण समारोह-2019, राष्ट्रीय संकलन ‘शब्द-वट’ का भी हुआ भव्य विमोचन
राष्ट्रीय कवियत्री दीपिका माही के समुधर गीत-गजलों ने बांधा समां
jhabua news
झाबुआ। विष्व हिन्दी दिवस के अवसर पर स्थानीय पैलेस गार्डन पर 14 सितंबर, शनिवार रात साहित्य एवं संस्कृति परिषद् वनांचल जिला इकाई झाबुआ द्वारा गरिमामय सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें इंदौर के ख्यात सािहत्यकार रामनारायण सोनी को ‘तुलसी अलंकरण सम्मान’ तथा इंदोर के ही लब्ध प्रतिष्ठित साहित्यकार धैर्यषील येवले े ‘साहित्य साधना सम्मान’ से नवाजा गया। इस अवसर पर मुख्य रूप से राष्ट्रीय काव्य संकलन ‘शब्द वट’ का विमोचन सभी अतिथियों ने मिलकर किया गया। इसमें देष के मूर्धन्य साहित्यकारों की रचनाएं सम्मिलित की गई है। समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उदयपर (राजस्थान) से आई राष्ट्रीय कवियत्री दीििपका माही उपस्थित थी। विषेष अतिथि के रूप में संस्था के मुख्य संस्क्षक डाॅ. केके त्रिवेदी, वरिष्ठ अभिभाषक एवं वरिष्ठ रोटेरियन दिनेष सक्सेना तथा साहित्य मनीषा ओैर सेवानिवृत्त प्राचार्य डाॅ. जया पाठक उपस्थित थी। अध्यक्षता परिषद् अध्यक्ष निलेष पंचोली ने की। शुभारंभ अतिथियों द्वारा मां सरस्वतीजी की प्रतिमा पर माल्र्यापण एवं दीप प्रज्जवलन कर किया गया। पश्चात् व्याख्याता महेन्द्रसिंह खुराना ने गुरू वंदना एवं परिषद् उपाध्यक्ष श्रीमती भारती सोनी ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। अतिथियों का स्वागत श्रीमती आयषा कुरैषी, सीमा शाहजी, प्रवीणकुमार सोनी बीके सिकरवार, गोपाल शर्मा, जितेन्द्रसिंह राठौर आदि ने किया। स्वागत उद्बोधन संस्था अध्यक्ष निलेष पंचोली ने देते हुए संस्था के गठन से लेकर अब तक चल रहीं गतिविधियों पर प्रकाष डाला।

राष्ट्रीय संकलन ‘शब्द-वट’ का हुआ विमोचन
संस्था के राष्ट्रीय स्तर का संकलन ‘शब्द वट’ का विमोचन सभी ने अतिथियों ने मिलकर किया। इस संकलन में देष के 70 रचनाकारों की रचनाओं को स्थान दिया गया है। साथ ही महादेवीजी, निराला प्रसाद गुप्त, अटली, नीरज, बाल कवि जैसे विभूतियों को भी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए इस पुस्तक में अग्र पंक्ति में स्थान दिया गया है। शब्द वट पुस्तक की विस्तृत समीक्षा वरिष्ठ प्राध्यापक डाॅ. रविन्द्रसिंह ने किया। बाद इसकी काव्य प्रतियां उपस्थित सभीजनों को प्रदान की गई।

दो साहित्यकारों को तुलसी अलंकरण एवं साहित्य साधना सम्मान
सम्मान के क्रम मंे सर्वप्रथम रामनारायण सोनी के ‘तुलसी अलंकरण सम्मान’ के अभिनंदन-पत्र का वाचन संस्था की वरिष्ठ मार्गदर्षक डाॅ. गीता दुबे ने किया। श्री सोनी की अनुपस्थिति में यह सम्मान उनके परिवारजनांे को सम्मान के रूप में अभिनंदन-पत्र के साथ शाल ओढ़कार श्रीफल भेंट किया। वहीं वरिष्ठ साहित्यकार धैर्यषील येवले के सम्मान के क्रम में उनके अनुपस्थित होने से यह सम्मान उनके अभिन्न मित्र युवा अभिभाषक नरेष डोषी अभिनंदन-पत्र एवं शाल ओढ़ाकार तथा श्रीफल भेंटकर किया गया। जिनके अभिनंदन-पत्र का वाचन वरिष्ठ प्राध्यापक अरविन्द व्यास ने किया।

संस्था द्वारा संचालित गतिविधियां हिन्दी साहित्य की परम् पुनित सेवा है
उद्बोधन के क्रम में मनीषी साहित्यकार डाॅ. जया पाठक ने हिन्दी भाषा को एक सुंसंस्करित भाषा बताया एवं कहा कि संस्था द्वारा संचालित गतिविधियां हिन्दी साहित्य की परम पुनित सेवा है। वरिष्ठ अभिभाषक दिनेष सक्सेना ने हिन्दी को राष्ट्र का गौरव बताया एवं कहा कि व्यक्ति किसी भी व्यवसाय में हो, हिन्दी साहित्य का पठन-पाठन उन्हें बहुत आत्मिक शांति प्रदान करता है। संस्था के मुख्य संरक्षक डाॅ. केके त्रिवेदी ने राजा और ब्राम्हण का उदाहरण देते हुए देषाटन औरर तीर्थाटन और उससे प्राप्त अनुभवों को साहित्य का निचैड़ बताया। डाॅ. त्रिवेदी ने अपने उद्बोधन वनांचल परिषद् के उक्त गरिमामय समारोह की प्रसंषा भी की।

राष्ट्रीय कवियत्री ने समधुर गीतांे से बांधा समां
अंत में उदयपुर राजस्थान से आई राष्ट्रीय कवियत्री दीपिका माही ने अपने समधुर गीतों से सभी केा मंत्रमुगध कर दिया। उनके द्वारा प्रस्तुत गीत ‘छीन करके नयन आईनो के शहर ...., ले चले आए तो क्या कहे हम उसे .... इस गीत ने श्रोतागणों की वाह-वाही लूटी। साथ ही प्रेम रस से भी संबंधित अन्य गीत-गजल प्रस्तुत कर मनुष्य जीवन में अलग-अलग रिष्तांे में प्रेम के महत्व को प्रतिपादित किया।

मुख्य अतिथि को सुंदर वालपेटिंग प्रदान की गई
समारोह पश्चात् मुख्य अतिथि राष्ट्रीय कवियत्री दीपिका माही को परिषद् उपाध्यक्ष श्रीमती भारती सोनी ने स्वयं द्वारा तैयार की सुंदर पेटिंग प्रदान की। साथ ही अन्य अतिथियों को भी परिषद् की ओर से स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए। समारोह का सफल संचालन संस्था के सचिव डाॅ. जय बैरागी ने किया एवं आभार संस्था की परामर्षदात्री डाॅ. अंजना मुवेल ने माना।

यह रहे उपस्थित
कार्यक्रम में जिले के वरिष्ठ साहित्यकार यषवंत भंडारी, एमएल फुलपगारे, पीडी रायपुरिया, जयेन्द्र बैरागी,  एजाज नाजी धारवी, आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट से राजेष नागर, सुधीरसिंह कुषवाह, सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष नीरजसिंह राठौर, पतंजलि योग समिति से सुश्री रूक्मणी वर्मा, भारत स्काउट एवं गाईड एसोसिएषन से शषिकला त्रिवेदी, प्रदीप पंड्या, श्रीमती कुंता सोनी, रोटरेक्ट क्लब सचिव दौलत गोलानी, प्राध्यापक अक्षय द्विवेदी, अंर्तराष्ट्रीय मानव अधिकार काउंसिल से रवि बारिया, संकल्प ग्रुप से ज्योति त्रिवेदी, संस्कार भारती से प्रिया सारोलकर, मोना स्मृति भट्ट के साथ अनेक गणमान्यजन उपस्थित थे।

‘आ गया है वक्त यारो .... पाक को सबक सिखाएंगे .... -ः साहित्यकार भेरूसिंह चोहान ‘तरंग’, देर रात श्रोताओं ने लिया विराट कवि सम्मेलन का लिया आनंद

jhabua news
झाबुआ। गणेष उत्सव समिति के बेनर तले स्थानीय नेचुरल ग्रीन पार्क काॅलोनी में विराट कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसके सूत्रधार अखिल भारतीय साहित्य परिषद् के जिलाध्यक्ष एवं साहित्यकार भेरूसिंह चैहान ‘तरंग’ थे। सर्वप्रथम श्रीमती मंगला गरवाल ने सरस्वती वंदना के साथ ही भारत माता की तुम लाज रखना, जन-जन मिलकर सीखो आज’ प्रस्तुत की। प्रवीणकुमार सोनी ने ‘साहस नहीं है मुझमें, तुमसे कुछ कह पाने का, तुम ही अर्थ समझ लो मेरे किसी बहाने का ...., मनोज जैन ने ‘ छोटी शतरंज ने मोटा प्यादा सकड़ी सड़क ने गाड़ी ज्यादा ...., पीडी रायपुरिया ने ‘हमारा भारत देष महान’, श्रृंगार एवं हास्य की कविताएं सुनाकर सभी को आनंदित किया। विरेन्द्र मोदी ‘दर्द’ ने ‘यारो ने अपने वतन बेच डाले’ काव्य रचना प्रस्तुति से सभी में राष्ट्रीयता की भावना का संचार किया।

हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख, इसाई सब मिलकर वंदे मातरम् गाएंगे
भेरूसिंह चैहान ‘तरंग’ ने सर्वप्रथम हास्य की रचना ‘गली-गली में गूंज रहे है गणपति बाप्पा मोरिया ...., के साथ ‘चोटी कट गई ...’ मालवी रचनाएं सुनाकर सभी श्रोताओं को हसंने के लिए मजबूर किया। तत्पष्चात् पाकिस्तान को फटकार लगाते हुए राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत रचना ‘आ गया है वक्त यारो .... पाक को सबक सिखाएंगे .... हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख, इसाई सब मिलकर वंदे मातरम् गाएंगे ...., सुनाकर श्रोताओं से जमकर दाद बटोरी ....। श्रोताओं के विषेष आग्रह पर ‘माछलिया घाट’ पर भी कविता पाठ किया। डाॅं रामषंकर चंचल ने श्रृंगार गीत और हास्य कविताएं सुनाकर सभी को मन मोहित किया। पं. गणेषप्रसाद उपाध्याय ने संचालन करते हुए हास्य रचना ‘उठ मुर्दे मसान घाट क’े एवं शहीद चन्द्रषेखर आजाद पर कंेद्रित पर रचना सुनाई। 

सभी साहित्यकारों का किया सम्मान
कवि सम्मेलन में आमंत्रित कविगणों का गण्ेोष उत्सव समिति के पदाधिकारियों में अध्यक्ष राजा ठाकुर, सचिव प्रकाष धाकड़, संरक्षक हेमेन्द्रकुमार पाठक, अरेमर्दन परमार, आरएन चैरसिया, मदन किषोर वर्मा एवं अन्य पदाधिकारियों ने पुष्पमालाओं से एवं प्रतीक चिन्ह भेंटकर सम्मान किया। कवि सम्मेलन देर रात्रि तक सत्त चलता रहा। सभी रसिक श्रोतागणों ने कवि सम्मेलन का भरपूर आनंद लिया। अंत में आभार समिति के अध्यक्ष श्री ठाकुर ने माना।

कमला नेहरू मार्ग में जीर्ण-षीर्ण मकान के पास सुरक्षा की दृष्टि से पार्षद ने लगवाएं बेरीकेट्स, तेज बारिष के कारण निरंतर ढ़ह रहा मलबा

jhabua news
झाबुआ। शहर के कमला नेहरू मार्ग में जीर्ण-षीर्ण मकान वर्षाकाल में बड़ी दुर्घटना का न्यौता दे रहा है। तेज बारिष के कारण पिछले दिनों मकान का पिछला हिस्सा ढ़ह गया था, जिसका मलबा निरंतर बहकर सड़क पर आने से राहगीरों और वाहन चालकों के साथ कोई घटना ना हो, इस हेतु वार्ड पार्षद पपीष पानेरी द्वारा यहां सुरक्षा की दृष्टि शुक्रवार रात बेरीकेट्स एवं ठेलागाड़ियां लगवाकर रास्ता रोका गया है। ज्ञातव्य रहे कि कमला नेहरू मार्ग में यह मकान पिछले करीब 2 वर्षों से जीर्ण-षीर्ण है, मकान मालिक को इसे डिस्टमेंटल किए जाने हेतु नगरपालिका की ओर से 2-3 बार नोटिस भी जारी किए जा चुके है, लेकिन मकान मालिक द्वारा लापरवाही बरती जा रहंी है। इन दिनों तेज बारिष होने से इस कारण संकट राह चलते लोगों ओर वाहन चालकों के साथ आसपास के रहवासियों पर मंडरा रहा है। जिसे देखते हुए वार्ड पार्षद श्री पानेरी द्वारा 13 सितंबर, शुक्रवार यहां सुरक्षा की दृष्टि से बेरीकेट्स एवं ठेलागाड़ी लगाकर रास्ते पर सुरक्षा के इंतजाम कर दिए गए है, ताकि आगामी समय में किसी बड़े हादसे से बचा जा सके।

डिजिटल गुरु ने डॉ चंचल का हिंदी में साक्षात्कार लिया ‘डॉ चंचल अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी साधक- डिजिटल गुरु‘

jhabua news
झाबुआ। प्रख्यात साहित्यकार डॉ रामशंकर चंचल का 14 सितंबर ‘हिंदी दिवस‘ के शुभ अवसर अंग्रेजी में प्रख्यात राष्ट्रिय-अंतर्राष्ट्रीय हस्तियों का सविस्तार इंटरव्यू लेने वाली ‘डिजिटल गुरूजी‘ की सम्पादिका, मालिक सुधा यादव ने डॉ रामशंकर चंचल का सविस्तार इंटरव्यू हिंदी में प्रसारित किया । जिसमें जीवन परिचय, कृतियां, सैकड़ो संग्रह, पत्रिका पत्रों, सम्मान आदि आदि का सविस्तार उल्लेख हैं। एक ऐसा इंटरव्यू(साक्षात्कार) जो शोधकर्त्ताओं के लिए उपयोगी और संग्रहणीय है। अपने साक्षात्कार में डिजिटल गुरु ने डॉ चंचल को हिंदी सेवा के रूप में राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर का हिंदी साधक बताया। यह सिर्फ झाबुआ जिले के लिए ही नहीं मध्यप्रदेश के लिए भी गर्व का विषय है।

क्षमा धर्म का मूल है, बड़े सदैव क्षमा करते है, जबकि छोटे तो उत्पात करते है -ः प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी मसा
बलवान को भी क्षमावान होना चाहिए -ः जिनेन्द्र विजयजी

jhabua news
झाबुआ। श्री ऋषभदेव बावन जिनालय स्थित श्री राजेन्द्र सूरी पोषध शाला भवन में आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा के पट षिष्य प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजजी मसा ‘जलज’ ने 15 सितंबर, रविवार को अपने प्रवचनों में बताया कि महान उग्र तपस्वी श्री बाहुबलजी अपने जमाने के धुरंधर बलवान वीर महापुरूष थे। बड़े भाता श्री भरत चक्रवर्ती से भयंकर संग्राम भी किया था, किन्तु अंर्तचुक्षु खुल जाने पर उठाई मुट्ठी से भाई पर प्रहार करने की बजाय स्वयं के मस्तक के केष लोच करके संग्राम भूमि को संयम भूमि में बदल दिया। प्रन्यास प्रवर ने आग बताया कि बाहुबलीजी ने बदले की भावना त्याग कर स्वयं पथ ही बदला डाला था। बाहुबल संयम लेकर अभिमान के चक्कर में फंस गए थे। भगवान श्री आदिनाथजी के कहने पर बाहुबलि की दो बहने जो श्रमणी बनी थी, ब्राम्ही और सुंदरी को भाई को समझाने भेजा था। दोनो बहिनों ने घोर तप में लीन भाई बाहुबल मुनि से सुंदर शब्दों में कहा कि भाई जरा अभिमान रूपी गजराज से नीचे उतरों, क्योकि अभिमान तो केवल ज्ञान में महा-बाधक है।

क्षमा धर्म का मूल है
श्री बाहुबल मुनि बलवान थे, किन्तु साथ ही विवेकवान एवं क्षमावान थे। तत्काल लघु बंाधव मुनियांे को वंदना करने के लिए तत्पर होकर कदम उठा ही दिया तो अभिमान दूर होकर केवल ज्ञापन उत्पन्न हो गया। इस कथानक की प्रबल प्रेरणास्पद षिक्षा यहीं है कि अपने पास शक्ति हो तो हमेषा दूसरो के द्वारा किए अपराध को नजरंदाज करते हुए उसे क्षमा देना चाहिए। क्षमा धर्म का मूल है, बड़े सदैव क्षमा करते है, अपितु छोटे तो उत्पात करते है। प्रन्यास प्रवर ने कहा तय हमे करना है कि हमे छोटा बनना है या बड़ा ... ?, प्रवचन बाद अष्ट प्रभावक आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा ने समाजजनों को मांगलिक भी श्रवण करवाई।

विद्युत उपभोक्ता संपर्क एवं षिकायत निवारण षिविर 16 से 30 सितम्बर तक
    
झाबुआ । म.प्र.प.क्षे.वि.वि.कं.लि.झाबुआ के कार्यपालन यंत्री श्री नितिन चैहान ने बताया कि राज्य षासन द्वारा चलाये जा रहे आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम अनुसार झाबुआ सम्भाग के विद्युत उपभोक्ताओ के विद्युत समस्याओ/षिकायतो के त्वरित निराकरण हेतु प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार 16 से 30 सितम्बर तक झाबुआ सम्भाग अंतर्गत संचालित 13 वितरण केन्द्र के प्रत्येक वितरण केन्द्र के दो ग्रामो में प्रतिदिन प्रातः 08 बजे से सायं 4 बजे तक सम्बंधित ग्राम के पंचायत भवन में षिविर आयोजित किये जावेगे। षिविर में विद्युत आपूर्ति सम्बंधी, बंद खराब मीटर, बिजली बिल, वोल्टेज कम/ज्यादा होने संबंधी ट्रांसफार्मर बदलने सम्बंधी एवं अन्य विद्युत समस्याओ/षिकायतो का निराकरण यथा सम्भव मौके पर ही वितरण केन्द्र के प्रभारी द्वारा किया जाएगा। लम्बित प्रकरणो का निराकरण अधिकतम एक सप्ताह की समयवधि में सम्बन्धित वितरण केन्द्र प्रभारी द्वारा किया जावेगा। प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार 16 सितम्बर को वितरण केन्द्र मेघनगर के ग्राम आमलीपठार में, मेघनगर वितरण केन्द के ग्राम खेडी में, थांदला वितरण केन्द के ग्राम सुजापुरा में, थांदला वितरण केन्द के ग्राम सजेली नानीयासाथ में, काकनवानी वितरण केन्द के ग्राम हरिनगर में, काकनवानी वितरण केन्द के ग्राम देवका में, रानापुर वितरण केन्द के ग्राम बुचाडुगरी में, रानापुर वितरण केन्द के ग्राम काकरादरा में, पारा वितरण केन्द के ग्राम सागीया में, पारा वितरण केन्द के ग्राम खडकुई में, खवासा वितरण केन्द के ग्राम देवगढ में, खवासा वितरण केन्द के ग्राम तेजपुरा में, बामनिया वितरण केन्द के ग्राम तेजपुरा में, बामनिया वितरण केन्द के ग्राम जिरावलिया में, सारंगी वितरण केन्द के ग्राम माण्डन में, सारंगी वितरण केन्द के ग्राम हथनीपाडा छोटा में, पेटलावद वितरण केन्द के ग्राम नाकापाडा में, पेटलावद वितरण केन्द के ग्राम कुण्डाल में, रायपुरिया वितरण केन्द के ग्राम रूपारेल में, रायपुरिया वितरण केन्द के ग्राम रिचखोदरा में, झकनावदा वितरण केन्द के ग्राम झिरी में, झकनावदा वितरण केन्द के ग्राम पिठडी में, झाबुआ ग्रामीण वितरण केन्द के ग्राम गोपालपुरा में, झाबुआ ग्रामीण वितरण केन्द के ग्राम कोयाधारिया में षिविर आयोजित किया जाएगा।

उपभ¨क्ता जागरूकता संगठन¨ं से आॅनलाईन प्रस्ताव 25 सितम्बर तक आमंत्रित
     
झाबुआ । उपभ¨क्ता हित¨ं के संरक्षण एवं संवर्धन के क्षेत्र में कार्यरत स्वैच्छिक उपभ¨क्ता संगठन¨ं से आॅनलाईन प्रस्ताव आमंत्रित किए गये हैं। प्रस्ताव 25 सितम्बर 2019 तक वेबसाइट रंहवहतंींारंहवण्हवअण्पद/बू िपर भेजे जा सकते हैं। संचालक खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभ¨क्ता संरक्षण ने बताया कि भारत सरकार द्वारा उपभ¨क्ता हित संरक्षण की गतिविधिय¨ं में संलग्न संगठन¨ं क¨ वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

अन्त्येष्टि/अनुग्रह सहायता के लंबित प्रकरणो को पोर्टल पर 27 सितम्बर तक निराकृत करें
    
झाबुआ । कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने जिले में 90 दिवस के पूूर्व के लंबित अन्त्येटि/अनुग्रह सहायता केे प्रकरणो की संख्या को देखते हुए जनपद पंचायत/नगरीय निकाय/श्रमपदाधिकारी को निर्देषित किया है कि 90 दिवस के पूर्व के सभी प्रकरणो का निराकरण  27 सितम्बर तक करना सुनिष्चित करें। उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेष षासन, श्रम विभाग द्वारा पोर्टल पर आवष्यक संषोधन कर 90 दिवस से अधिक अवधि के प्रकरणो के निराकरण हेतु एक माह की समय सीमा नियत की गई है। श्रमिको के हित व योजना के निर्देषो के अनुरूप पंजीयन पष्चात हिताधिकारी की मृत्यु उपरान्त अन्त्येष्टि/अनुग्रह सहायता के लंबित प्रकरणो को पोर्टल पर निराकृत किया जा सके इस हेतु 27 सितम्बर 2019 तक के लिये पोर्टल पर अंतिम बार समय सीमा से संशोधन किया गया है। अतः 90 दिवस पूर्व के ऐसे समस्त प्रकरण जिनमें पंजीयन पष्चात मृत्यु हुई हो परीक्षण कर पोर्टल के माध्यम से निराकृत किये जाने की कार्यवाही समय सीमा में सुनिष्चित करे।

श्रमिकों के बच्चों से राष्ट्रीय छात्रवृत्ति के लिये आवेदन 15 अक्टूबर तक आमंत्रित
     
झाबुआ । प्रदेश के बीडी, चूना-पत्थर, डोलोमाइट, लौह मैग्नीज और क्रोम अयस्क खदान श्रमिकों के अध्ययनरत पुत्र-पुत्रियों से प्री-मेट्रिक और पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिये आवेदन आमंत्रित किये गये हैं। शिक्षा के लिये वित्तीय सहायता योजना में पात्र छात्र-छात्राएँ नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल ीजजचेरूध्ध्ेबीवसंतेीपचेण्हवअण्पदध्ीमसचकमेा-देच/हवअण्पद पर आवेदन कर सकते हैं। प्री-मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिये आवेदन की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर और पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिये 31 अक्टूबर, 2019 है। नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करने की पात्रता, जानकारी, शर्तें आदि प्रदर्शित हैं। योजना में कक्षा-एक से चार तक अध्ययनरत पात्र छात्र-छात्राओं को 250, पाँचवीं से आठवीं तक छात्रों को 500, छात्राओं को 940, कक्षा-नवीं में छात्रों को 700 और छात्राओं को 1140, कक्षा दसवीं के छात्रों को 1400 और छात्राओं को 1840, 11वीं और 12वीं के छात्रों को 2 हजार, छात्राओं को 2440, स्नातक, तीन वर्षीय डिप्लोमा एवं स्नातकोत्तर छात्र-छात्राओं को 3-3 हजार, अव्यावसायिक स्नातक-स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम, बीसीए, बीबीए, डीसीए और पीजीडीसीए छात्र-छात्राओं को 3-3 हजार, बी.ई., बी.टेक., एमबीबीएस, बीएएमएस, बीयूएमएस, बीएससी कृषि, एमसीए, एमबीए के छात्र-छात्राओं को 15-15 हजार और आईटीआई छात्र-छात्राओं को 10-10 हजार रुपये छात्रवृत्ति का प्रावधान है। राज्य में श्रमिकों के बच्चे ऑनलाइन आवेदन करने में किसी प्रकार की समस्या के निदान के लिये जबलपुर कार्यालय के दूरभाष क्रमांक-0761-2626021, 2678595, ई-मेल  wc-jabalpur/redffimail.com] sbd2020/redffimail.com सागर स्थित कल्याण प्रशासक कार्यालय के दूरभाष क्रमांक-7582-260675 या इंदौर में दूरभाष क्रमांक-0731-2703530, ई-मेल  waind/mp.gov.in पर सम्पर्क कर सकते हैं।

जिले में 24 घण्टो मे 13.0 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज
         
झाबुआ । जिले में इस वर्ष अब तक औसतन 1210.0 मि.मी. वर्षा दर्ज की गयी है। विगत 24 घण्टो मे औसत 13.0 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापक केन्द्र झाबुआ में 6.0,रामा में 9.0 मि.मी.,थांदला मे 24.4 मि.मी.,पेटलावद मे 23.8 मि.मी.,राणापुर मे 4.0 मि.मी, मेघनगर मे 11.0,मि.मी वर्षा दर्ज की गई।

जिले मे अत्याधिक वर्षा के कारण कलेक्टर ने 16 सितम्बर का अवकाष घोषित किया
  
झाबुआ । झाबुआ जिले में लगातार हो रही अत्याधिक वर्षा के कारण जिले के समस्त षासकीय/अषासकीय/केन्द्रीय/सीबीएसई संबंद्व विद्यालयो के विद्यार्थियो एवं आंगनवाडी केन्द्रो के बच्चो की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री प्रबल सिपाहा ने 16 सितम्बर 2019 सोमवार का अवकाष घोषित किया है। यह अवकाष समस्त विद्यालयो के लिए रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...